ताज़ा खबर
 

Lok Sabha Election 2019: गडकरी ने गोवा में गठबंधन का उड़ाया मजाक, कहा- विधायक अमेरिका से प्रभावित, उन्हें साथ रखना मुश्किल

Lok Sabha Election 2019 (लोकसभा चुनाव 2019):केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने कहा कि गोवा के विधायक अमेरिका से काफी प्रभावित हैं जहां पर शादियां ज्यादा समय तक नहीं टिकती हैं।

नितिन गडकरी फोटो सोर्स- इंडियन एक्सप्रेस

Lok Sabha Election 2019: गोवा में विधायकों की स्थिति पर केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने तंज कसा है। उन्होंने विधायकों को अमेरिका से प्रभावित बताया। गोवा की राजधानी पणजी में 19 मई को लोकसभा चुनाव के आखिरी चरण में मतदान होगा। इसी दिन पणजी विधानसभा सीट पर उपचुनाव भी होगा। दरअसल 17 मार्च को इस सीट से विधायक रहे और तत्कालीन मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर का निधन हो गया था। तभी से यह सीट खाली है।

गडकरी ने कही ये बातः पणजी में एक सभा को संबोधित करते हुए गुरुवार (16 मई) को केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने कहा कि देश में गोवा ने सारे रिकॉर्ड तोड़ दिए हैं। उन्होंने कहा कि गोवा के विधायकों को एक साथ जोड़कर रख पाना काफी मुश्किल काम है। वे इधर-उधर जाते रहते हैं। ऐसा लगता है कि वे अमेरिका से काफी प्रभावित हैं जहां पर शादियां ज्यादा समय तक नहीं टिकती हैं।

National Hindi News, 17 May 2019 LIVE Updates: दिनभर की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

साल 2017 में बनी नई सरकारः गडकरी ने कहा कि साल 2017 में मनोहर पर्रिकर की अगुवाई में राज्य में नई सरकार बनी थी। भाजपा के पास पांच विधायक हैं जिनमें तीन कांग्रेस और दो महाराष्ट्रवादी गोमांतक पार्टी से हैं और अपनी पार्टी छोड़कर भाजपा में शामिल हो गए हैं।

आते-जाते रहते हैं विधायकः गडकरी ने कहा,’गोवा ने देश में सभी रिकॉर्ड तोड़ दिए हैं। अपनी सांस्कृतिक और बौद्धिक आबादी के बावजूद गोवा के विधायकों को एक साथ जोड़कर रख पाना काफी मुश्किल काम है। वे इधर-उधर जाते रहते हैं। वे शायद अमेरिका से प्रभावित हैं। उस देश में शादियां ज्यादा समय तक नहीं टिकती हैं वे एक पार्टी से दूसरी पार्टी से दूसरी पार्टी में ऐसे जाते हैं जैसे किसी बगीचे में घूम रहे हों। इसलिए ऐसे लोगों को साथ रखना मुश्किल है जो हमेशा हरियाली वाले चारागाहों की तलाश (मौके की तलाश) में रहते हैं ऐसे में सरकार को एक जगह व्यवस्थित कर पाना बहुत ही मुश्किल काम है। बता दें भाजपा में शामिल हो चुके विधायकों की तीन सीटों में से दो पर इस महीने चुनाव हुए थे। गठबंधन की किस्मत उनकी जीत पर निर्भर करती है।

RATE YOUR MP: कैसा है आपके क्षेत्र का सांसद, यहां दीजिए रेटिंग 

मुख्यमंत्री झेल रहे खासी परेशानीः गडकरी ने यह भी कहा कि मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत के लिए सभी पार्टियों को एक साथ लेकर चल पाना काफी मुश्किल हो रहा है। उन्होंने कहा कि अंतिम सांस तक पर्रिकर मतदाताओं से बहुमत की सरकार चुनने का आग्रह करते रहे।

भाजपा के वोट काटना मकसदः गडकरी ने अपने भाषण में इस बात पर भी निराशा जताई कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के पूर्व नेता सुभाष वेलिंगकर ने पणजी उपचुनाव लड़ने का फैसला किया। गडकरी ने कहा कि वेलिंगकर के ऐसा करने का मकसद भाजपा के वोट काटना है। गडकरी ने कहा, वेलिंगकर भाजपा के वोटों को बांटने और कांग्रेस को चुनाव जीतने में मदद करने के लिए यह चुनाव लड़ रहे हैं। मैं केवल यह कहूंगा कि यह दुर्भाग्यपूर्ण है। भले ही उन्होंने पार्टी छोड़ दी है, मैं अभी भी उनका सम्मान करता हूं।’

Read here the latest Lok Sabha Election 2019 News, Live coverage and full election schedule for India General Election 2019

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App