ताज़ा खबर
 

Lok Sabha Election Result 2019: तय हुआ मोदी सरकार के शपथ का दिन और वक़्त, कई नए चेहरे बन सकते हैं मंत्री

Poll Result 2019: प्रचंड बहुमत मिलने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 30 मई को शाम सात बजे प्रधानमंत्री के पद एवं गोपनीयता की शपथ लेंगे।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने दूसरे कार्यकाल के लिए 30 मई को पीएम पद के लिए पद एवं गोपनीयता की शपथ लेंगे। (फोटो सोर्स: द इंडियन एक्सप्रेस)

लोकसभा चुनाव 2019 में प्रचंड जीत के बाद नरेंद्र मोदी के शपथ ग्रहण का दिन तय हो गया है। नरेंद्र मोदी 30 मई की शाम 7 बजे राष्ट्रपति भवन में पीएम के पद एवं गोपनीयता की शपथ लेंगे। चुनाव में अकेले बीजेपी ने अपने दम पर 303 सीटें हासिल की हैं, जबकि एनडीए को 352 सीटें मिली हैं। यह जीत 2014 से भी बड़ी जीत मानी जा रही है। इस बार कांग्रेस समेत विपक्षी दलों का सूपड़ा साफ हो गया। कांग्रेस को पूर देश से 52 सीटें मिली हैं, जबकि राहुल गांधी स्वयं अमेठी की अपना परपंरागत संसदीय क्षेत्र गंवा बैठे हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नए मंत्रिमंडल में बताया जा रहा है कि कई नए चेहरों को जगह मिल सकती है। वहीं, कुछ पुराने चेहरे मंत्रिमंडल से दूर हो सकते हैं। शनिवार को पीएम मोदी ने राष्ट्रपति भवन के परिसर में मीडया से बातचीत में कहा था कि राष्ट्रपति ने उन्हें नई सरकार का गठन करने के लिए कहा है। गौरतलब है कि इस बार सुषमा स्वराज ने चुनाव नहीं लड़ा है, वहीं अरुण जेटली की भी तबीयत खराब है। ऐसे में कयास लगाए जा रहे हैं कि इन दो नेताओं के महत्वपूर्ण पोर्टफोलियों को लेकर नए चेहरे सामने आ सकते हैं।

हालांकि, शनिवार को एनडीए के संसदीय दल का नेता चुने जाने के बाद प्रधानमंत्री मोदी ने स्पष्ट किया कि उनके मंत्रिमंडल में शामिल होने के लिए सांसद ज्यादा ख्वाहिशमंद न रहें। जिन्हें मंत्री बनाना होगा, उन्हें इसकी आधिकारिक जानकारी भेज दी जाएगी।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 निरहुआ का अखिलेश पर तंज, कहा- मुझे हराने में लग गए और अपने परिवार की 3 सीटें गंवा बैठे
2 Kolkata: ममता बनर्जी ने लगाया बीजेपी पर कई संगीन आरोप, कहा- बीजेपी की जीत के पीछे विदेशी ताकतों का हाथ
3 Lok Sabha Election 2019: बंगाल को “भगवा” करने में CPM कैडर की मदद, BJP की मेहनत और तृणमूल नेता का हाथ- जानिए “पोरिवर्तन” के पीछे की कहानी