ताज़ा खबर
 

Lok Sabha Election 2019: चुनावी मैदान में मालेगांव धमाके के आरोपी मेजर उपाध्याय, बोले- आतंकियों के हाथों मरना करकरे की नालायकी का सबूत

Lok Sabha Election 2019 (लोकसभा चुनाव 2019): मालेगांव धमाके के आरोपी मेजर रमेश उपाध्याय ने शहीद हेमंत करकरे पर साध्वी प्रज्ञा के बयान पर सहमति जताई है। मेजर उपाध्याय ने कहा कि आतंकियों के हाथों मरना करकरे की नालायकी का सबूत था।

lok sabha, lok sabha election, lok sabha election 2019, lok sabha election 2019 schedule, lok sabha election date, lok sabha election 2019 date, लोकसभा चुनाव, लोकसभा चुनाव 2019, chunav, lok sabha chunav, lok sabha chunav 2019 dates, lok sabha news, election 2019, election 2019 news, Hindi news, news in Hindi, latest news, today news in Hindi, Malegaon Blast, Major Ramesh Upadhyay, Sadhvi Pragya Thakur, UP election news, Hemant karkareरिटायर्ड मेजर ने करकरे पर लगाया टॉर्चर करने का आरोप (फाइल फोटोः पीटीआई)

Lok Sabha Election 2019: भोपाल से भाजपा की उम्मीदवार साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर के बाद अब मालेगांव धमाके के एक और आरोपी ने शहीद हेमंत करकरे के खिलाफ विवादित बयान दिया है। इस मामले के एक अन्य आरोपी रिटायर्ड मेजर रमेश उपाध्याय ने कहा कि हेमंत करकरे आतंकियों के हाथों मारे गए, यह उनकी नालायकी का सबसे बड़ा सबूत था।

मालेगांव धमाके के इस आरोपी मेजर उपाध्याय ने शुक्रवार को उत्तर प्रदेश की बलिया सीट से नामांकन किया है। मेजर उपाध्याय ने अखिल भारतीय हिंदू महासभा की तरफ से नामांकन दाखिल करने के बाद साध्वी प्रज्ञा के बयान पर सहमति जताई।

उपाध्याय ने कहा कि कोई भी पुलिसकर्मी कहीं भी मरे वह शहीद नहीं कहलाता है। शहीद केवल स्वतंत्रता सेनानी, सैनिक होते हैं। उन्होंने कहा कि पुलिसवाला कभी शहीद नहीं होता है। मेजर उपाध्याय ने यह भी कहा कि हेमंत करकरे ने साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर को निर्वस्त्र करके पीटा था। हम सभी को टॉर्चर किया था। मामले में 12 में से 11 अभियुक्त ठीक से चल भी नहीं पा रहे हैं। प्रज्ञा ठाकुर भी व्हीलचेयर पर चलती हैं। यह इस बात का सबूत है कि हेमंत करकरे ने उन्हें बहुत टॉर्चर किया था।

आरोपी उपाध्याय ने इस सब के लिए पूर्व की संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (यूपीए) सरकार को जिम्मेदार ठहराया। उन्होंने कहा कि हम लोगों पर जो कार्रवाई हुई वह कांग्रेस की तत्कालीन अध्यक्ष सोनिया गांधी, अहमद पटेल, पी. चिदंबरम, सुशील कुमार शिंदे व अन्य नेताओं के निर्देश पर हो रही थी।

उन्होंने कहा कि उस समय ब्यूरोक्रेसी यूपीए सरकार का तोता बन गई थी।  वहीं 71 पूर्व प्रशासनिक अधिकारियों ने भोपाल से भाजपा की उम्मीदवार साध्वी प्रज्ञा सिंह के चुनाव लड़ने पर आपत्ति जताई है। इन अफसरों ने साध्वी प्रज्ञा सिंह की उम्मीदवारी वापस लेने की मांग की है।

इन सभी पूर्व अधिकारियों ने ओपन लेटर लिखकर साध्वी प्रज्ञा के उस बयान पर कड़ी आपत्ति जताई है जिसमें कहा गया था कि उनके ही श्राप से ही एटीएस चीफ हेमंत करकरे की आतंकियों से लड़ने के दौरान मौत हुई थी। साध्वी ने जेल में करकरे द्वारा प्रताड़ित करने का भी आरोप लगाया था।

Read here the latest Lok Sabha Election 2019 News, Live coverage and full election schedule for India General Election 2019

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 Loksabha Elections 2019: साइज की वजह से मोदी की तस्वीर वाली टीशर्ट नहीं पहन पाए खली, बीजेपी ने यूं चलाया काम
2 Lok Sabha Election 2019: EVM पर ISI का नाम लेकर चुनाव आयोग ने किया सुप्रीम कोर्ट को गुमराह- कपिल सिब्बल का आरोप
3 Loksabha Elections 2019 LIVE Updates: ईवीएम के मामले पर चुनाव आयोग पहुंची कांग्रेस और तृणमूल कांग्रेस