ताज़ा खबर
 

Lok Sabha Election 2019: योगी सरकार में मंत्री हैं कानपुर के BJP प्रत्याशी सत्यदेव पचौरी, 1972 में शुरू हुआ था राजनीतिक करियर

Lok Sabha Election 2019: बीजेपी ने कानपुर से अपने वरिष्ठ नेता मुरली मनोहर जोशी को टिकट न देकर यूपी सरकार में मंत्री सत्यदेव पचौरी को उम्मीदवार बनाया है।

lok sabha election 2019, kanpurकानपुर से बीजेपी उम्मीदवार सत्यदेव पचौरी फोटो सोर्स- फेसबुक

Lok Sabha Election 2019: लोकसभा चुनाव के मद्देनजर बीजेपी ने कानपुर से वरिष्ठ नेता मुरली मनोहर जोशी का टिकट काटते हुए स्थानीय उम्मीदवार सत्यदेव पचौरी को मैदान में उतारा है। बता दें कि पचौरी वर्तमान में उत्तरप्रदेश सरकार में मंत्री और गोविंद नगर से विधायक है। इसके पहले 2004 में भी बीजेपी ने पचौरी को यहां से उम्मीदवार बनाया था, लेकिन तब वह कांग्रेस के श्रीप्रकाश जायसवाल से चुनाव हार गए थे। इसके अलावा पार्टी ने इस बार अकबरपुर लोकसभा सीट से वर्तमान सांसद देवेन्द्र सिंह भोले को फिर टिकट दिया है।

कौन हैं सत्यदेव पचौरी: बता दें कि कानपुर से लोकसभा का टिकट पाने वाले सत्यदेव पचौरी ने अपने राजनीतिक करियर की शुरुआत 1972 में बीएसएसडी कॉलेज से छात्रसंघ अध्यक्ष का चुनाव जीतकर की थी। इसके बाद पचौरी जय प्रकाश नारायण (जेपी) के आंदोलन में भी शामिल हुए। इसके अलावा वे 1980 में यूपी बीजेपी की कार्य समिति के सदस्य भी रहे। पचौरी को 1991 में बीजेपी ने आर्यनगर विधानसभा से पहली बार टिकट दिया था, तब उन्होंने यहां से जीत दर्ज की थी। हालांकि इसके बाद उन्हें 1993 और 1996 के विधानसभा चुनाव में हार का सामना करना पड़ा था।

National Hindi News Today LIVE: पढ़ें आज की बड़ी खबरें

2004 में भी लड़ा था लोकसभा का चुनाव: बता दें कि सत्यदेव पचौरी को बीजेपी ने 2004 में भी कानपुर लोकसभा सीट से अपना उम्मीदवार बनाया था। लेकिन तब उन्हें कांग्रेस प्रत्याशी श्रीप्रकाश जायसवाल ने शिकस्त दी थी। 2004 में जायसवाल को 2,11,109 वोट जबकि पचौरी को 205, 471 वोट मिले थे। बता दें कि 2019 में एकबार फिर दोनों नेता कानपुर लोकसभा सीट पर आमने-सामने होंगे।

अकबरपुर से देवेन्द्र सिंह भोले हैं बीजेपी उम्मीदवार: बीजेपी ने अकबरपुर से एक बार फिर से मौजूदा सांसद देवेन्द्र सिंह भोले को टिकट दिया है। बता दें कि देवेन्द्र सिंह तीन बार विधायक और एक बार ब्लाक प्रमुख रह चुके हैं। 2014 के लोकसभा चुनाव में उन्होंने 481584 वोट पाकर बसपा के अनिल शुक्ल वारसी को हराया था। वारसी को तब 202587 वोट मिले थे, हालांकि अब वे बीजेपी में शामिल चुके हैं।

कानपुर का जातीय गणित: एक आंकड़े के मुताबिक कानपुर में ब्राह्मण, क्षत्रिय और वैश्य मतदाता तकरीबन 30-40 प्रतिशत हैं। इसके अलावा मुस्लिम मतदाता 20-23 प्रतिशत और दलित-ओबीसी करीब 25-28 प्रतिशत हैं। राजनितिक विश्लेषकों की माने तो मौजूदा सांसद मुरली मनोहर जोशी के टिकट कटने के बाद ब्राह्मणों में पैदा हुई कथित नाराजगी को दूर करने के लिए बीजेपी ने सत्यदेव पचौरी को अपना उम्मीदवार बनाया है।

Read here the latest Lok Sabha Election 2019 News, Live coverage and full election schedule for India General Election 2019

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 VIDEO: बीजेपी के मंत्री सतपाल महाराज की फ‍िसली जुबान, बोल गए- मोदीजी का 36 इंच का सीना!
2 Lok Sabha Election 2019 : पानी के बिल के साथ चिट्ठियां भेज रहे थे केजरीवाल, EC ने सील किया DJB ऑफिस का कमरा
3 1952 से ही कानपुर में स्थानीय उम्मीदवारों का दबदबा, 2004 के बाद श्रीप्रकाश जायसवाल और सत्यदेव पचौरी फिर आमने-सामने
ये पढ़ा क्या?
X