ताज़ा खबर
 

भोपाल से चुनाव लड़ना चाहते हैं कैलाश विजयवर्गीय, बोले- मजा आएगा, सिंधिया-कमल नाथ ने दिग्विजय को फंसा दिया

Lok Sabha Election 2019 (लोकसभा चुनाव 2019): दिग्विजय सिंह के भोपाल से लड़ने के फैसले को लेकर बीजेपी नेता कैलाश विजयवर्गीय ने तंज कसा है। उन्होंने कहा सिंधिया और कमल नाथ ने मिलकर दिग्विजय को फंसा दिया।

कैलाश विजयवर्गीय और दिग्विजय सिंह (एक्सप्रेस फाइल)

Lok Sabha Election 2019 के लिए कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह के भोपाल से चुनाव लड़ने पर बीजेपी नेता कैलाश विजयवर्गीय ने तंज कसा है। उन्होंने कांग्रेस नेताओं पर तंज कसते हुए कहा कि कमल नाथ और ज्योतिरादित्य सिंधिया ने दिग्विजय सिंह को फंसा दिया है क्योंकि भोपाल बीजेपी की सबसे मजबूत सीट है। कांग्रेस में चैलेंज स्वीकार कर मुश्किल सीट से चुनाव लड़ने की बात को उन्होंने कमल नाथ और दिग्विजय की नूराकुश्ती बताया।

‘ऐसा कोई सगा नहीं, जिसे इन्होंने ठगा नहीं’: उन्होंने कहा, ‘ये ही हैं उस्तादों के भी उस्ताद। ऐसा कोई सगा नहीं जिसको इन्होंने ठगा नहीं। बड़े भाई कमल नाथ और छोटे भाई दिग्विजय सिंह ने नूराकुश्ती खेलकर कांग्रेस नेतृत्व को ही चकमा दे दिया। दिग्विजय सिंह को सक्रिय राजनीति से दूर करने का निर्णय ले चुके कांग्रेस हाईकमान को मजबूर होकर उन्हें लोकसभा का टिकट देना पड़ा।’

Kailash Vijayvargiya Twitter कैलाश विजयवर्गीय ने ट्विटर पर यूं कसा तंज (फोटोः @KailashOnline)

National Hindi News Today Live: दिनभर की बड़ी खबरें यहां पढ़ें

‘दिग्विजय के खिलाफ लड़ने में मजा आएगा’: पश्चिम बंगाल बीजेपी के प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय ने रविवार (24 मार्च) को भोपाल से चुनाव लड़ने की भी इच्छा जताई। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक विजयवर्गीय ने इंदौर में कहा, ‘यदि पार्टी पूछती है तो मैं भोपाल से लड़ना चाहता हूं क्योंकि यहां से कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह के खिलाफ चुनाव लड़ने में मजा आएगा।’

 

क्या था चैलेंज जिसे दिग्विजय ने मान लिया? दरअसल मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमल नाथ ने कहा था कि दिग्विजय सिंह को किसी मुश्किल सीट से लड़ना चाहिए। इस चुनौती को दिग्विजय ने स्वीकर कर लिया। खुद कमल नाथ ने ही उनके भोपाल से लड़ने की जानकारी दी थी। दरअसल भोपाल लोकसभा सीट पर 1989 के बाद कांग्रेस कभी जीत नहीं पाई है। वहीं दूसरी तरफ 2003 में मुख्यमंत्री पद गंवाने के बाद दिग्विजय ने भी सक्रिय राजनीति से संन्यास का ऐलान कर दिया था। ऐसे में उनकी भी करीब 16 साल बाद चुनावी मैदान में वापसी हो रही है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App