ताज़ा खबर
 

Lok Sabha Election 2019: जबरन बूथ में घुसने के मामले में बीजेपी के मंत्री पर एफआईआर, मौके पर ही चुनाव सामग्री छोड़ आने पर भी केस

Lok Sabha Election 2019 (लोकसभा चुनाव 2019): कांग्रेस के नेता व प्रदेश कांग्रेस प्रभारी गुलाम नबी आजाद ने भी इस मामले में चुनाव आयोग को पत्र लिखकर शिकायत की थी। पत्र में लिखा गया है कि रोहतक के काठमंडी स्थित एक बूथ पर कैप्चरिंग का प्रयास किया गया।

BJP, Booth Capturing, Lok Sabha Election 2019बीजेपी नेता और राज्य मंत्री मनीष ग्रोवर के खिलाफ रोहतक में एक पोलिंग बूथ में अवैध रूप से घुसने का आरोप लगाया गया है।

Lok Sabha Election 2019: हरियाणा के रोहतक में बूथ कैप्चरिंग को लेकर राज्य के एक मंत्री पर मामला दर्ज किया गया है। 12 मई को संपन्न हुए मतदान के दौरान बूथ पर अवैध रूप से जाने का आरोप लगाया गया है। बीजेपी नेता और राज्य मंत्री मनीष ग्रोवर के खिलाफ रोहतक में एक पोलिंग बूथ में जबरन घुसने का आरोप लगाया गया है। रोहतक जिला बार एसोसिएशन के प्रधान लोकेंद्र फोगाट ने इस संबंध में शिकायत की थी इसके अलावा  कांग्रेस के नेता व प्रदेश कांग्रेस प्रभारी गुलाम नबी आजाद ने भी इस मामले में चुनाव आयोग को पत्र लिखकर शिकायत की थी। पत्र में लिखा गया है कि रोहतक के काठमंडी स्थित एक बूथ पर कैप्चरिंग का प्रयास किया गया और इस काम में शहर से जुड़े एक मंत्री को भी शामिल बताया गया है।

रमेश लोहार की जमानत के बाद फिर से गिरफ्तारी: बताया जा रहा है कि चुनाव वाले दिन रमेश लोहार और उसके साथी गरनावठी निवासी राहुल, खरक जाटान निवासी सुनील, बोहर निवासी सुनील, मकड़ौली कलां निवासी प्रवीण उर्फ काला, बोहर निवासी सुरेंद्र व सुनील तीन गाड़ियों में हथियार और कारतूस लेकर घूमते रहे थे। इस घटना को संबंध में पुलिस ने रमेश लोहार को गिरफ्तार किया था हालांकि बाद में उसे जमानत पर रिहा कर दिया था। इसके बाद दबाव के चलते पुलिस ने फिर से रमेश लोहार को उसके साथियों के साथ गिरफ्तार कर लिया है।आरोपितों के खिलाफ शिवाजी कॉलोनी थाने में केस दर्ज किया गया था।इस मामले में 483, 283, 130, 131बी, मोटर अधिनियम की धारा 49, 192-धारा के तहत कार्रवाई की गई है।

चुनाव सामग्री छोड़ आने पर भी केस: मध्य प्रदेश के श्योपुर में अजीबोगरीब मामला सामने आया है। वोटिंग समाप्त होने के बाद निर्वाचन कर्मचारी पोलिंग संबंधी सामानों को समेटना भूल गए जिसके मतदान केंद्र से यह सामाग्री ही गायब हो गई। गनीमत यह हुई कि निर्वाचन कर्माचारी ईवीएम और वीवीपैट लाना नहीं भूले। मामला विजयपुर विधानसभा के सहसाराम का है। विजयपुर के एसडीएम सौरभ मिश्रा का कहना है कि इस घटना के संबंध में आला अधिकारियों को दे दी गई है और साथ ही इस मामले में एफआईआर भी दर्ज करा दी गई है। सामान छूटने के बाद जब कर्मचारियों को वापस भेजा गया तो वहां से सामान गयाब मिला।

बता दें कि पोलिंग बूथ पर तैनात कर्मचारियों को पीठासीन अधिकारी की डायरी, मतपत्र लेखा समेत कई चीजें सौंपी जाती है और चुनाव संपन्न होने के बाद चुनाव संपन्न कराने के बाद कर्मचारियों व अधिकारियों को सामग्री का पूरा हिसाब देना होता है।

Read here the latest Lok Sabha Election 2019 News, Live coverage and full election schedule for India General Election 2019

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 Lok Sabha Elections 2019: शरद पवार और बेटी सुप्रिया को ईवीएम पर भरोसा नहीं, भतीजे अजीत पवार बोले- मुझे शक नहीं
2 Lok Sabha Election 2019: कुमार विश्वास का AAP सांसद पर तंज- हर महीने नया पीएम ठीक रहेगा? जय हो लोकतंत्र के रक्षकों की
3 ममता बनर्जी का हमला, कहा- तुम्हारा नसीब अच्छा, नहीं तो बीजेपी दफ्तर पर 1 सेकेंड में कर सकती हूं कब्जा
ये पढ़ा क्या?
X