ताज़ा खबर
 

पूर्वी यूपी के गांवों में मोदी की विदेश नीति की चर्चा, जानिए क्या कहते हैं लोग

Lok Sabha Election 2019: बलिया के बाल्मिकी ओझा का कहना है कि "सपा-बसपा गठबंधन को वोट देने का कोई फायदा नहीं है। दोनों सत्ता में आने के बाद अलग-अलग दिशाओं में जाएंगे।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी। (PTI Photo)

Lok Sabha Election 2019: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने कार्यकाल के दौरान अपने विदेश दौरों को लेकर खूब चर्चा में रहे। विपक्षी पार्टियां जहां पीएम मोदी के विदेश दौरों को लेकर उन पर निशाना साधती रहीं, वहीं भाजपा पीएम मोदी के इन दौरों को देश के विश्व स्तर पर बढ़ते मान से जोड़ते हुए उसे अपनी उपलब्धि बताती रही। द इंडियन एक्सप्रेस ने जब पूर्वी उत्तर प्रदेश के ग्रामीण इलाकों में लोगों से बात की तो लोग भाजपा का विदेश नीति के मुद्दे पर समर्थन करते नजर आए। चंदौली के दीन दयाल उपाध्याय रेलवे स्टेशन पर कुली का काम करने वाले रमेश चौहान से जब सवाल किया गया कि मौजूदा लोकसभा चुनावों में उनका वोट किसे जाएगा? तो इस सवाल के जवाब में रमेश चौहान ने कहा कि “मोदी को, और किसे? लोग उस व्यक्ति को ही वोट देंगे, जिसने देश को दुनिया में सातवें स्थान से चौथे स्थान पर पहुंचा दिया है।”

रमेश चौहान की तरह ही दिहाड़ी मजदूरी करने वाले राधेश्याम चौहान ने भी कहा कि “हम चाहते हैं कि मोदी जीते। आज इटली, फ्रांस, चाइना और इजरायल सभी भारत के सामने सिर झुकाते हैं। शुक्र है कि यहां मोदी हैं, वरना ये देश हमें धमकाते।” हालांकि दोनों ही लोग अपने दावे के पक्ष में ज्यादा जानकारी नहीं दे सके, लेकिन दोनों की बातों से पता चला कि लोगों के बीच ऐसी सोच है कि बीते पांच सालों में अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर भारत की स्थिति काफी बेहतर हुई है। यही वजह है कि लोग पीएम मोदी की व्यक्तिगत असफलताओं को भूलकर उन्हें ही वोट देना चाहते हैं। ऐसा आमतौर पर कम ही देखा गया है कि कोई नेता अपनी विदेश नीति को क्षेत्रीय राजनीति के साथ इस तरह जोड़ दे, जिस तरह के मोदी ने किया है। पूर्वी उत्तर प्रदेश के लोगों का मानना है कि पीएम मोदी के नेतृत्व में देश का अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर मान बढ़ा है।

आजमगढ़ के एक मतदाता का कहना है कि ‘भारतीय लोगों से ज्यादा विदेश में रह रहे लोग उन्हें प्रधानमंत्री के रुप में देखना चाहते हैं।’ गन्ने का जूस बेचने वाले जगदेश निषाद का कहना है कि “क्या अभिनंदन वर्थमान को कोई वापस ला सकता था? कुलभूषण जाधव को कांग्रेस के शासनकाल में पाकिस्तान ने गिरफ्तार किया था। लेकिन कांग्रेस उसे वापस नहीं ला सकी।” इसी तरह बलिया के बाल्मिकी ओझा का कहना है कि “सपा-बसपा गठबंधन को वोट देने का कोई फायदा नहीं है। दोनों सत्ता में आने के बाद अलग-अलग दिशाओं में जाएंगे। राज्य में तो एक बार उनके बारे में सोचा जा सकता है, लेकिन केन्द्र में तो हमें ऐसा व्यक्ति चाहिए, जो दूसरे देशों में जाकर भारत के बारे में बात कर सके।”

लालगंज के बबुरा इलाके के रहने वाले किसान सुधु राजभर का कहना है कि मैंने मोदी जी जैसा नेता नहीं देखा। उन्होंने बहुत काम किया है। जब काम के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि वह कई लोगों को विदेश से घर सुरक्षित वापस लाए हैं। लोग कह रहे हैं कि उन्होंने जनता के पैसे विदेश यात्राओं पर खर्च किए, लेकिन उन्होंने कुछ हासिल भी किया है। आज दुनिया भारत की तरफ देख रही है। लालगंज के ही एक गांव के निवासी रमेश चौहान बताते हैं कि “दुनिया में आज भारत की ज्यादा इज्जत है। हम 13वें स्थान से चौथे स्थान पर आ गए हैं। मोदी जी को 5 साल और दीजिए तो हम पहले पायदान पर पहुंच जाएंगे।”

घोसी के मऊ में रहने वाले एक दलित ठेकेदार जयराज कुमार का कहना है वह मोदी को वोट देंगे। विपक्षी पार्टियों की आलोचना करते हुए वह कहते हैं कि उनकी बात ना सुनें। मैं पढ़ा-लिखा हूं और देख सकता हूं कि मोदी ने दुनिया में भारत की स्थिति को मजबूत किया है।

Next Stories
1 ‘गोडसे देशभक्त’ BJP की प्रज्ञा ठाकुर ने कहा, लोगों ने प्रज्ञा तिवारी को ट्रोल कर दिया
2 Lok Sabha Election 2019: ‘PM नरेंद्र मोदी नहीं दे सकते मीडिया के सवालों के जवाब’
3 Lok Sabha Election 2019: यूपी: समाजवादियों के गढ़ में सभी जातीय समीकरण पर मोदी भारी, 16 लाख वोटरों में बैकवर्ड की भूमिका निर्णायक
ये पढ़ा क्या?
X