ताज़ा खबर
 

Lok Sabha Election 2019: बुंदेलखंड: बागी बिगाड़ रहे बीजेपी का खेल, क्या कांग्रेस लगाएगी मौके पर चौका?

Lok Sabha Election 2019 (लोकसभा चुनाव 2019): मध्यप्रदेश के बुंदेलखंड में इस बार बागी उम्मीदवारों ने भाजपा की मुसीबत बढ़ा दी। वहीं कांग्रेस पिछले दो दशक में इस बार मजबूत स्थिति में दिख रही है।

lok sabha, lok sabha election, lok sabha election 2019, lok sabha election 2019 schedule, lok sabha election date, lok sabha election 2019 date, लोकसभा चुनाव, लोकसभा चुनाव 2019, chunav, lok sabha chunav, lok sabha chunav 2019 dates, lok sabha news, election 2019, election 2019 news, Hindi news, news in Hindi, latest news, today news in Hindi, MP election, Bundelkhand newsकांग्रेस उम्मीदवार प्रभु सिंह ठाकुर सागर संसदीय क्षेत्र में जनसभा को संबोधित करते हुए। (फोटोः इंडियन एक्सप्रेस)

Lok Sabha Election 2019: भाजपा का मजबूत गढ़ माने जाने वाले बुंदेलखंड में कांग्रेस पहली बार खुश दिखाई दे रही है। मध्यप्रदेश के इस इलाके में बागी उम्मीदवार भाजपा का खेल बिगाड़ सकते हैं। भाजपा 1996 से सागर संसदीय सीट पर चुनाव नहीं हारी है।

कांग्रेस ने यहां से प्रभु सिंह ठाकुर को इस बार चुनाव मैदान में उतारा है। वहीं, भाजपा की तरफ से राज बहादुर उनका मुकाबला कर रहे हैं। प्रभु सिंह ठाकुर यहां लतेरी गांव में लोगों से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के झूठे वादे के बारे में बात कर रहे हैं। दूसरी तरफ भाजपा के उम्मीदवार राज बहादुर कहते हैं कि ठाकुर की कमजोरी मेरे लिए फायदेमंद होगी।

निगम पार्षद रह चुके बहादुर को पूर्व मंत्री भूपेंद्र सिंह का करीबी बताया जाता है। कहा जा रहा है कि इसी वजह से बहादुर टिकट पाने में कामयाब भी हो गए हैं।

टिकट नहीं मिलने से पूर्व सांसद नाराजः वहीं पिछली बार के भाजपा सांसद लक्ष्मी नारायण यादव भाजपा से नाराज चल रहे हैं। पार्टी ने उन्हें इस बार टिकट नहीं दिया है। यादव ने साल 2014 में 1.2 लाख मतों के अंतर से चुनाव जीता था।

लक्ष्मी नारायण यादव का कहना है कि वह सागर से पार्टी के उम्मीदवार के पक्ष में प्रचार नहीं करेंगे। यादव का कहना है बहादुर को टिकट देना पार्टी का गलत फैसला है। हालांकि, उन्होंने दामोह और छतरपुर में अन्य उम्मीदवारों के लिए काम करने की बात कही है।

पार्टी उम्मीदवार का फूंका पुतलाः यादव की खुली बगावत के बाद भाजपा कार्यकर्ताओं ने पार्टी के मौजूदा उम्मीदवार बहादुर का पुतला भी फूंका। पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह के भाई और वरिष्ठ कांग्रेस नेता लक्ष्मण सिंह का कहना है, ‘ऐसा पहले कभी नहीं हुआ कि भाजपा कार्यकर्ताओं ने अपनी ही पार्टी के उम्मीदवार का पुतला फूंका हो।’

भाजपा पिछले दो दशक से सागर सीट अपने पास रखे हुए है। यहां तक कि साल 2018 में हुए विधानसभा चुनाव में भी भाजपा ने इस लोकसभा क्षेत्र की सभी 8 विधानसभा सीटें बरकरार रखी थी।

विधायकों का नहीं मिल रहा समर्थनः भाजपा के सागर उपाध्यक्ष गौरव सरोथिया का कहना है कि न सिर्फ भाजपा के नेता गुस्से में हैं बल्कि कुछ यादव नेता भी बहादुर की उम्मीदवारी का विरोध कर रहे हैं। सागर से विधायक शैलेंद्र कुमार जैन का कहना है कि कुछ विधायक पार्टी उम्मीदवार का समर्थन नहीं कर रहे हैं।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 मनमोहन सिंह के दावों पर PM मोदी का जवाब- UPA के कार्यकाल में सर्जिकल स्ट्राइक होने का कोई रिकॉर्ड नहीं
2 Lok Sabha Election 2019: पूर्वांचल: पिछड़ों में आरक्षण खत्म होने का डर, सपा-बसपा के कोर वोटरों को ऐसे समझाने में जुटी बीजेपी
3 National Hindi News, 09 May 2019 Highights: कंप्यूटर बाबा के खिलाफ चुनाव आयोग ने जारी किया नोटिस, सांप्रदायिक भावनाओं को भड़काने का लगा आरोप