ताज़ा खबर
 

इस राज्य में रैली में हिस्सा लेने से डरे बीजेपी समर्थक? कैमरे देखते ही छिपा लिया मुंह

पहले सभा आराम से चल रही थी। इसी दौरान फोटोग्राफर्स का एक समूह जनसभा को कवर करने के लिए पहुंचा। जैसे ही कैमरों के शटर खुले वैसे ही बीजेपी कार्यकर्ताओं ने अपने कपड़ों और पार्टी के झंडों से चेहरे छिपा लिए।

बीजेपी को दिल्ली विकास प्राधिकरण ने दो एकड़ जमीन आवंटित की (फोटोः इंडियन एक्सप्रेस)

Lok Sabha Election 2019 के लिए तारीखों का ऐलान होते ही रैलियों में समर्थकों का हुजूम और बढ़ने लगा है। कैमरा देखते है इन समर्थकों का जोश और बढ़ जाता है, लेकिन एक राज्य ऐसा भी है जहां कैमरा देखकर समर्थक मुंह छिपा रहे हैं। ये हालात कश्मीर के श्रीनगर में देखने को मिले हैं। यहां गुरुवार (14 मार्च) को राजधानी श्रीनगर के बीच में स्थित शेरे कश्मीर पार्क में बीजेपी की रैली थी। रैली को बीजेपी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष और जम्मू-कश्मीर प्रभारी अविनाश राय खन्ना और पार्टी के राज्य महासचिव अशोक कौल मंच पर थे। सैकड़ों समर्थक जनसभा में थे लेकिन यहां का दृश्य सामान्य नहीं था।

पहले सभा आराम से चल रही थी। इसी दौरान फोटोग्राफर्स का एक समूह जनसभा को कवर करने के लिए पहुंचा। जैसे ही कैमरों के शटर खुले वैसे ही बीजेपी कार्यकर्ताओं ने अपने कपड़ों और पार्टी के झंडों से चेहरे छिपा लिए ताकि कोई उन्हें पहचान न सके। एक तरफ जहां जम्मू में बीजेपी की रैलियों में बेखौफ भारी भीड़ उमड़ती है वहीं कश्मीर घाटी में लोग आमतौर पर यह बताते भी नहीं हैं कि वे बीजेपी को समर्थन करते हैं।

कैमरों को देखकर पार्क छोड़ भागे एक शख्स ने मीडिया को बताया, ‘अगर सोशल मीडिया पर ये तस्वीरें दिख गईं तो हमारा सामाजिक बहिष्कार कर दिया जाएगा। कश्मीर में पहले ही बीजेपी के खिलाफ बेहद गुस्सा है। हम अपनी जान जोखिम में नहीं डालना चाहते।’ गुरुवार को जो हुआ वह यहां पहली घटना नहीं है। अक्सर बीजेपी के कार्यक्रमों के दौरान यहां मीडियाकर्मियों के पहुंचते ही समर्थक भाग निकलते हैं।

उल्लेखनीय है 2014 में विधानसभा चुनाव में बीजेपी को जम्मू से 25 सीटों पर जीत मिली थी, जिसके बाद पहली बार उसने राज्य में सरकार बनाई थी। हालांकि यह गठबंधन सरकार थी जो ज्यादा समय तक नहीं चली। आगामी लोकसभा चुनाव में राज्य की छह लोकसभा सीटों पर पांच चरणों में चुनाव होंगे। सुरक्षा के मद्देनजर यह फैसला लिया गया है। वहीं इसी के चलते विधानसभा चुनाव फिलहाल टाल दिए गए हैं। पिछले चुनाव में छह में से तीन सीटें बीजेपी के खाते में गई थीं।

 

गुरुवार को हुई इस घटना को बीजेपी की तरफ से खारिज कर दिया गया। पार्टी के एक नेता ने कहा, ‘हां कई बार लोग डरते हैं लेकिन राजनीति में अक्सर ऐसी अवधारणा बनाई जाती है। हमें इस बार कश्मीर में इतिहास बदलने की उम्मीद है।’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App