ताज़ा खबर
 

Lok Sabha Election 2019: भाजपा के इन पांच सांसदों को छोड़नी पड़ेगी मौजूदा सीट, शाहनवाज भी चूके

Lok Sabha Election 2019 (लोकसभा चुनाव 2019): बिहार में सीटों के बंटवारे की घोषणा के बाद से कई अटकलबाजियां खत्म हो गई हैं। घोषणा से साफ है पिछले चुनाव में 22 सीटें जीतने वाली भाजपा के पांच मौजूदा सांसदों को अपनी सीट छोड़नी होगी। बंटवारे में लोजपा को पिछली बार से एक सीट कम मिली है। एनडीए की तरफ से घोषणा के बाद अब नजर महागठबंधन की तरफ से सीटों के बंटवारे की घोषणा पर है।

Author Updated: March 17, 2019 5:30 PM
बिहार में एनडीए ने सीटों के बंटवारे की घोषणा कर दी है। (फाइल फोटोः इंडियन एक्सप्रेस)

Lok Sabha Election 2019: लोकसभा चुनाव के लिए बिहार में एनडीए की तरफ से भारतीय जनता पार्टी और जनता दल यूनाइटेड ने सीटों के बंटवारे की घोषणा कर दी है। राज्य की 40 लोकसभा सीटों में भाजपा और जदयू 17-17 सीटों पर चुनाव लड़ेगे। वहीं, राम विलास पासवान की लोक जनशक्ति पार्टी को 6 सीट दी गई। गठबंधन के कारण भाजपा के पांच सांसदों को अपनी सीटें गंवानी पड़ेगीं।

सीटों की घोषणा से साफ है कि भाजपा को वाल्मिकीनगर, झंझारपुर, सिवान और गया जदयू को और नवादा सीट लोजपा के लिए खाली करनी पड़ेगी। जदयू की तरफ से बिहार प्रदेश इकाई के अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह ने सीटों के बंटवारे की घोषणा की। सिंह ने कहा कि पार्टी वाल्मिकी नगर, सीतामढ़ी, झंझारपुर, सिवान, भागलपुर, किशनगंज, सुपौल, कटिहार, मुंगेर, जहानाबाद, नालंदा, गोपालगंज, मधेपुरा, बांका, गया, कराकात से अपने उम्मीदवार उतारेगी।

साल 2014 के लोकसभा चुनाव में भाजपा ने 30 सीटों पर चुनाव लड़ा था। पार्टी को इनमें से 22 सीटों पर जीत मिली थी। वाल्मिकीनगर, झंझारपुर, सिवान और गया की सीट को क्रमशः सतीश चंद्र दुबे, बीरेंद्र चौधरी, ओम प्रकाश यादव और हरी मांझी ने जीती थी। दुबे ने पहले ही वाल्मिकीनगर सीट जदयू को देने पर आपत्ति जताई थी।

प्रतिष्ठित दरभंगा सीट पर अनुमानों को खत्म करते हुए सिंह ने कहा कि यह सीट भाजपा के पास ही रहेगी। इस तरह की अफवाह थी जदयू की नजर दरभंगा सीट पर है। दरभंगा से भाजपा के टिकट पर पिछला चुनाव जीतने वाले भाजपा नेता कीर्ति आजाद अब कांग्रेस में शामिल हो चुके हैं। भाजपा दरभंगा के अलावा मुजफ्फरपुर, बेगूसराय, पटना साहिब, पाटलिपुत्र, मधुबनी, अररिया, पूर्वी चंपारण, पश्चिमी चंपारण, सासाराम, सारण, आरा, बक्सर, औरंगाबाद, शिवहर, उजियारपुर और महाराजगंज सीट पर चुनाव लड़ेगी।

राम विलास पासवान के नेतृत्व वाली लोकजनशक्ति पार्टी वैशाली, हाजीपुर, समस्तीपुर, खगड़िया, नवादा और जमुई सीट पर चुनाव लड़ेगी।साल 2014 में केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने नवादा से चुनाव जीते थे। सिंह ने पिछले सप्ताह कहा था कि वह या तो नवादा से मैदान में उतरेंगे या फिर चुनाव ही नहीं लड़ेंगे।

पिछले लोकसभा चुनाव में भाजपा ने अपने सहयोगी एलजेपी और रालोसपा को क्रमशः सात और तीन सीटें दी थी। एलजेपी ने सात में से छह सीटें जीती थी जबकी रालोसपा अपने खाते की तीनों सीटें जीतने में कामयाब रही थी। उस समय जदयू ने अलग होकर चुनाव लड़ा था और उसके खाते में दो सीटें आई थीं। इस बार उपेंद्र कुशवाहा के नेतृत्व वाले रालोसपा ने भाजपा से नाता तोड़ विपक्षी गुट से हाथ मिला लिया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 Lok Sabha Election 2019: पहले खेल के मैदान में चमके, फिर राजनीति में बनाया मुकाम, जुड़ सकते हैं ये नए नाम
2 Lok Sabha Election 2019: कांग्रेस ने यूपी में सपा-बसपा-आरएलडी गठबंधन के लिए छोड़ी 7 सीटें, मुलायम-डिंपल पर दिखाई मेहरबानी
3 Lok Sabha Election 2019: मोदी सरकार के इन सीनियर मंत्रियों ने नाम में नहीं लगाया ‘चौकीदार’, पीएम ने शुरू किया था ट्रेंड