ताज़ा खबर
 

कर्नाटक: कांग्रेस मांग रही दो डिप्टी सीएम पोस्ट, प्रदेश अध्यक्ष बोले- पुरानी योजनाएं रखेंगे जारी

परमेश्वर के मुताबिक उनकी पार्टी की कोशिश होगी कि 'अन्न भाग्य' और 'इंदिरा कैंटीन' जैसी पुरानी जनकल्याणकारी योजनाओं को आगे भी जारी रखा जाय।

Author Updated: May 22, 2018 11:43 AM
कांग्रेस अध्‍यक्ष राहुल गांधी के साथ कर्नाटक के मुख्‍यमंत्री एचडी कुमारस्‍वामी और यूपीए चेयरपर्सन सोनिया गांधी। (Photo: PTI)

कर्नाटक में सरकार गठन से पहले ही कांग्रेस-जेडीएस में मंत्रिमंडल को लेकर खींचतान शुरू हो गई है। कांग्रेस ने सरकार में बड़े घटक दल होने के नाते दो-दो उप मुख्यमंत्री का पद मांगा है। माना जा रहा है कि इसमें से एक उप मुख्यमंत्री दलित समुदाय से होगा और दूसरा लिंगायत समुदाय से। दलित समुदाय से उप मुख्यमंत्री के तौर पर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष जी परमेश्वर का नाम सबसे आगे चल रहा है, जबकि लिंगायत समुदाय से अभी किसी नेता का नाम सामने नहीं आया है। वैसे मंत्रिमंडल की रूपरेखा पर चर्चा के लिए आज (22 मई को) कांग्रेस और जेडीएस नेताओं की बैठक हो रही है। जेडीएस की तरफ से खुद भावी सीएम एच डी कुमारस्वामी रहेंगे, जबकि कांग्रेस ने पार्टी महासचिव और कर्नाटक प्रभारी के सी वेणुगोपाल को इसके लिए अधिकृत किया है। इससे पहले सोमवार (21 मई) को कुमारस्वामी ने नई दिल्ली में राहुल गांधी और सोनिया गांधी से मुलाकात की थी और उन्हें शपथ समारोह में शामिल होने का न्योता दिया था।

इधर, इकॉनोमिक टाइम्स को दिए एक इंटरव्यू में जी परमेश्वर ने उप मुख्यमंत्री बनने की खबरों से इनकार किया है। हालांकि, उन्होंने जरूर कहा कि अगर कोई दलित समुदाय से उप मुख्यमंत्री बनता है तो यह समुदाय की भलाई के लिए बेहतर कदम होगा। उन्होंने कहा कि दोनों पार्टियों की सरकार कॉमन मिनिमम प्रोग्राम के तहत काम करेगी। इसके लिए एक सम्न्वय समिति गठित की जाएगी जो दोनों दलों के घोषणा पत्रों की अहम घोषणाओं पर नीति-निर्देशक का काम करेगी। परमेश्वर के मुताबिक उनकी पार्टी की कोशिश होगी कि ‘अन्न भाग्य’ और ‘इंदिरा कैंटीन’ जैसी पुरानी जनकल्याणकारी योजनाओं को आगे भी जारी रखा जाय। उन्होंने कहा कि इसके लिए वो व्यक्तिगत तौर पर सीएम कुमारस्वामी से अनुरोध करेंगे।

बता दें कि एच डी कुमारस्वामी कल (बुधवार, 23 मई को) राज्य के पच्चीसवें मुख्यमंत्री के तौर पर पद एवं गोपनीयता की शपथ लेंगे। उनके शपथ ग्रहण समारोह में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, यूपीए चेयरपर्सन सोनिया गांधी, सीपीएम महासचिव सीताराम येचुरी, केरल के सीएम पी विजयन, आंध्र प्रदेश के सीएम चंद्रबाबू नायडू, तेलंगाना के सीएम के चंद्रशेखर राव, पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी समेत कई गणमान्य नेताओं के शामिल होने की उम्मीद है। यूपी के दो पूर्व सीएम मायावती और अखिलेश यादव भी इस मौके पर मंच साझा करेंगे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 सोनिया-राहुल गांधी से मिले कुमारस्‍वामी, मार्च में कांग्रेस को बताया था बीजेपी से खतरनाक
2 सोनिया-राहुल से पहले कुमारस्वामी की मायावती संग मीटिंग, येचुरी से भी की बात
3 कर्नाटक चुनाव की इन बातों से उठा सवाल- 2019 में मोदी नहीं तो राहुल भी नहीं बन पाएंगे पीएम?