ताज़ा खबर
 

सुप्रीम कोर्ट पहुंची कर्नाटक की सियासी लड़ाई, पूर्व अटॉर्नी जनरल से बोले CJI- ‘कुछ तो कल के लिए बचाइए’

कोर्ट में सीजेआई और पूर्व अटॉर्नी जनरल के बीच इस मामले पर गर्मागरम बहस भी हुई। सीजेआई से रोहतगी ने कहा कि विधान सभा अध्यक्ष जानबूझकर इस्तीफों पर कोई कार्रवाई नहीं कर रहे हैं। इसलिए मामले पर आज या कल अविलंब सुनवाई करें।

Author नई दिल्ली | Updated: July 10, 2019 2:57 PM
कर्नाटक में सत्तारुढ़ कांग्रेस-जद(एस) गठबंधन के 11 विधायकों के इस्तीफे के बाद राज्य सरकार खतरे में आ गई है। (फोटोः पीटीआई)

कर्नाटक में सियासी नाटक जारी है इस बीच सत्ताधारी जेडीएस-कांग्रेस गठबंधन के 14 विधायकों के इस्तीफे का मामला अब सुप्रीम कोर्ट जा पहुंचा है। 10 बागी विधायकों ने आरोप लगाया है कि कर्नाटक विधानसभा अध्यक्ष के आर रमेश कुमार जानबूझकरउनके इस्तीफे स्वीकार नहीं कर रहे हैं। बागी विधायकों की तरफ से पूर्व अटॉर्नी जनरल और वरिष्ठ अधिवक्ता मुकुल रोहतगी ने देश के मुख्य न्यायाधीश जस्टिस रंजन गोगोई के सामने मामले में बुधवार (10 जुलाई) को अविलंब सुनवाई का अनुरोध किया।

कोर्ट में सीजेआई और पूर्व अटॉर्नी जनरल के बीच इस मामले पर गर्मागरम बहस भी हुई। सीजेआई से रोहतगी ने कहा कि विधान सभा अध्यक्ष जानबूझकर इस्तीफों पर कोई कार्रवाई नहीं कर रहे हैं। इसलिए मामले पर आज या कल अविलंब सुनवाई करें। उन्होंने कहा, “यह समय बहुत मारक है।” तब चीफ जस्टिस ने पूछा, “आप इसे कब चाहते हैं?” इसके जवाब में रोहतगी ने कहा, “आज या कल।”

सीजेआई रंजन गोगोई ने तब त्वरित जवाब दिया, “आज तो हरगिज संभव नहीं है। “फिर कल”, रोहतगी ने कहा। इसके जवाब में सीजेआई ने कहा, “हम देखेंगे।” इसके बाद भी जब रोहतगी ने अपनी दलीलें जारी रखने की कोशिश की तो CJI ने उन्हें यह कहते हुए काट दिया कि “कल के लिए तो कुछ बचाओ।” माना जा रहा है कि अब इस मामले पर गुरुवार (11 जुलाई) को सुनवाई होगी।

बता दें कि शनिवार (6 जुलाई) को जेडीएस-कांग्रेस गठबंधन के 11 विधायकों ने अचानक इस्तीफा दे दिया था। स्पीकर के नहीं मिलने के बाद ये सभी विधायक गवर्नर से जाकर मिले और फिर विशेष चार्टर्ड प्लेन से मुंबई चले गए। इनमें तीन विधायक जेडीएस से थे जबकि 8 विधायक कांग्रेस के थे। कुछ दिनों पहले भी कांग्रेस के दो विधायक इस्तीफा दे चुके थे। शनिवार के बाद सोमवार को भी एक विधायक ने इस्तीफा दे दिया। इस तरह कुल 14 विधायकों ने इस्तीफा दे दिया है।

स्पीकर रमेश कुमार ने 14 में से आठ विधायकों के इस्तीफे को निश्चित प्रारूप में नहीं होने पर संपर्क करने को कहा है। इधर, कांग्रेस नेता डी के शिवकुमार मुंबई के उस होटल के बाहर बैठे हैं जहां बागी विधायक ठहरे हुए हैं। मुंबई पुलिस ने उस होटल के आसपास धारा 144 लगा दिया है और डी के शिवकुमार को होटल में जाने से रोक दिया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 RJD: 22 साल में पहली बार लोकसभा में एक भी सांसद नहीं, हर साल खिसक रहा करीब 2% यादव वोट बैंक
2 लालू यादव की पार्टी में फूट, झारखंड प्रदेश अध्यक्ष ने बनाई नई पार्टी ‘राजद लोकतांत्रिक’