ताज़ा खबर
 

कर्नाटक चुनाव: …तो इस वजह से कांग्रेस ने चला ‘दलित दांव’, सिद्धारमैया लेंगे संन्यास!

Karnataka Assembly Election 2018: अगर दलित चेहरे पर बात बनती है और कांग्रेस सरकार बनाने की सूरत में रहती है तो मल्लिकार्जुन खड़गे सीएम हो सकते हैं।

Rahul Gandhi, Congress president, Karnataka assembly elections, PM Modi, PM Narendra modi, BJP, Congress, hindi news, News in Hindi, Jansattaकर्नाटक के होन्नावर में एक चुनावी सभा के दौरान कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और सीएम सिद्धारमैया। फोटो- पीटीआई

कर्नाटक में एग्जिट पोल के नतीजों के बाद त्रिशंकु विधान सभा के मिल रहे संकेतों के बाद कांग्रेस ने ‘दलित दांव’ चला है। राज्य के मुख्यमंत्री सिद्धारमैया ने कहा है कि अगर कोई दलित चेहरा मुख्यमंत्री बनता है तो वो पद छोड़ने को तैयार हैं। इसके साथ ही सिद्धारमैया ने बड़ा एलान भी किया है। उन्होंने चुनावी राजनीति से संन्यास लेने की घोषणा की है। रविवार (13 मई) को सिद्धारमैया ने कहा कि यह उनका अंतिम चुनाव है। इसके बाद वो चुनाव नहीं लड़ेंगे। चामुंडेश्वरी विधानसभा क्षेत्र में कांग्रेस नेता ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘यह मेरा अंतिम चुनाव है।’’ हालांकि, मुख्यमंत्री सिद्धारमैया ने कहा कि दक्षिणी राज्य में कांग्रेस सत्ता में बनी रहेगी। दलित मुख्यमंत्री बनने की संभावना के एक सवाल पर उन्होंने कहा, ‘‘पार्टी अगर दलित मुख्यमंत्री पर निर्णय करती है तो यह अच्छा है।’’

सिद्धारमैया ने विश्वास जताया कि कांग्रेस को कर्नाटक में पूर्ण बहुमत मिलेगा। उन्होंने पूर्व प्रधानमंत्री एच डी देवेगौड़ा के नेतृत्व वाली जेडीएस से किसी तरह के गठबंधन की संभावनाओं से भी इंकार किया मगर राजनीतिक जानकारों का मानना है कि कांग्रेस का दलित दांव सिद्धारमैया के बहुमत के दावे को कमजोर कर रहा है। दरअसल, कांग्रेस चाहती है कि दलित चेहरे को आगे कर वो बहुमत नहीं मिलने की सूरत में जेडीएस का समर्थन हासिल करे। बता दें कि राज्य में करीब 18 फीसदी दलित वोटर हैं। इसके तहत कुल 101 जातियां आती हैं। दलितों के नेता के रूप में पहचान बनाने वाली उत्तर प्रदेश की पूर्व सीएम और बसपा सुप्रीमो मायावती ने कर्नाटक में जेडीएस के साथ समझौता किया है। बसपा ने 20 सीटों पर चुनाव लड़ा है। ऐसे में मायावती खुलकर कांग्रेस का साथ दे सकती है। साथ ही अपने सहयोगी जेडीएस पर दबाव भी बना सकती है कि बीजेपी विरोध के लिए कांग्रेस को समर्थन देना बुरा नहीं होगा। बता दें कि पूर्व पीएम और जेडीएस अध्यक्ष एच डी देवगौड़ा भी गैर बीजपी सरकार के पक्षधर रहे हैं। अगर दलित चेहरे पर बात बनती है और कांग्रेस सरकार बनाने की सूरत में रहती है तो लोकसभा में कांग्रेस के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे सीएम हो सकते हैं।

एक्जिट पोल के नतीजों को खारिज करते हुए मुख्यमंत्री ने ट्वीट किया, ‘‘एक्जिट पोल अगले दो दिनों के लिए मनोरंजन हैं। पोल ऑफ पोल्स पर भरोसा करना वैसे ही है जैसे किसी व्यक्ति को तैरना नहीं आता है और वह किसी सांख्यिकीविद पर भरोसा कर पैदल ही नदी पार कर जाए जिसकी औसत गहराई चार फुट है। कृपया गौर कीजिए छह जोड़ चार जोड़ दो का औसत चार है। छह फुट पर आप डूब जाएंगे।’’ एक अन्य ट्वीट में उन्होंने कहा, ‘‘इसलिए पार्टी कार्यकर्ता, समर्थक और शुभचिंतक एक्जिट पोल के बारे में चिंतित मत होइए। सप्ताहांत में निश्चिंत, खुशी मनाइए। हम फिर वापस आ रहे हैं।’’ बता दें कर्नाटक में विधानसभा चुनाव के लिये शनिवार को मतदान हुआ था जिसके नतीजे मंगलवार को घोषित होंगे। चुनाव में 70 फीसदी मतदाताओं ने वोट डाले थे।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 कर्नाटक चुनाव: CM सिद्धारमैया ने Exit poll का उड़ाया मजाक, बोले- संडे एंज्वॉय करिए
2 पोल ऑफ एग्जिट पोल्स: कर्नाटक में त्रिशंकु विधानसभा, बीजेपी सबसे आगे
3 कर्नाटक चुनाव: पोलिंग बूथ पर बंटे नोट, वोटर्स को रुपये थमाते दिखे कांग्रेस-बीजेपी कार्यकर्ता
ये पढ़ा क्या?
X