ताज़ा खबर
 

Lok Sabha Election 2019: दिग्विजय सिंह से बोले कमलनाथ- चुनाव लड़ना है तो सबसे मुश्किल सीट पर लड़‍िए

Lok Sabha Election 2019 (लोकसभा चुनाव 2019): मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा, ‘‘मैं आपसे अनुरोध करता हूं कि अगर आप लोकसभा चुनाव लड़ना चाहते हैं तो सबसे मुश्किल सीट को चुनिए।’’

Kamal Nath, Chief Minister, Madhya Pradeshमध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ। फोटो सोर्स : इंडियन एक्सप्रेस

Lok Sabha Election 2019: मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह को आगामी लोकसभा चुनाव को लेकर सलाह दी है। कमलनाथ ने शनिवार को दिग्विजय सिंह से कहा कि अगर आप लोकसभा चुनाव लड़ना चाहते हैं तो सबसे मुश्किल सीट से मैदान में उतरिए।

यह बोले कमलनाथ : मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा, ‘‘मैं आपसे अनुरोध करता हूं कि अगर आप लोकसभा चुनाव लड़ना चाहते हैं तो सबसे मुश्किल सीट को चुनिए।’’ बता दें कि दिग्विजय सिंह ने राजगढ़ से लोकसभा चुनाव लड़ने की इच्छा जाहिर की है। राजगढ़ दिग्विजय सिंह का मजबूत किला माना जाता है।

दिग्विजय पर सरकार में हस्तक्षेप करने के लगे हैं आरोप : बता दें कि दिग्विजय सिंह 1993 से 2003 तक मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री रहे थे। 2003 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस की हार के बाद वे 10 साल तक किसी भी चुनाव में शामिल नहीं हुए। वे अपने वादे पर कायम रहे, जिसके बाद उन्हें मध्य प्रदेश से राज्यसभा सांसद बनाया गया। 15 साल बाद मध्य प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनने के बाद पार्टी के कुछ नेताओं ने आरोप लगाया था कि दिग्विजय सिंह सरकारी कार्यों में हस्तक्षेप करते हैं।

राज्य सरकार के मंत्रियों को लताड़ चुके हैं दिग्विजय : मंदसौर कांड और नर्मदा किनारे पौधरोपण मामले में क्लीन चिट देने पर दिग्विजय सिंह ने पिछले महीने सार्वजनिक रूप से गृह मंत्री बाला बच्चन और वन मंत्री उमंग सिंघार को लताड़ा था। गौरतलब है कि मंदसौर कांड बीजेपी सरकार के कार्यकाल में हुआ था, जिसमें पुलिस फायरिंग के दौरान 5 किसानों की मौत हो गई थी। गौरतलब है कि बच्चन को कमलनाथ और सिंघार को ज्योतिरादित्य के खेमे का माना जाता है। वहीं, जब कांग्रेस विपक्ष में थी, तब इन्हीं दोनों मुद्दों को लेकर उन्होंने अभियान चलाया था।

कुछ दिन पहले किया चुनाव लड़ने का ऐलान : बता दें कि दिग्विजय सिंह ने कुछ दिन पहले लोकसभा चुनाव लड़ने की इच्छा जाहिर की थी। उन्होंने कहा था कि वे राजगढ़ या उस सीट से चुनाव लड़ सकते हैं, जो सीट पार्टी उनके लिए चुनेगी। ऐसे में कमलनाथ ने उन्हें सबसे मुश्किल सीट चुनने की सलाह दी है। गौरतलब है कि राजगढ़ से दिग्विजय सिंह और उनके छोटे भाई लक्ष्मण सिंह कई बार चुनाव जीत चुके हैं। 2004 में भी लक्ष्मण सिंह ने इस सीट पर बीजेपी को मात दी थी। हालांकि, अगले चुनाव में उन्हें हार का सामना करना पड़ा था। बता दें कि 2018 में हुए मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव में दिग्विजय के बेटे जयवर्द्धन ने राघवगढ़ और लक्ष्मण ने चाचौरा सीट पर जीत हासिल की थी। दोनों ही सीटें राजगढ़ संसदीय क्षेत्र के अंतर्गत आती हैं।

 

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 Lok Sabha Election 2019 Updates: उमर अब्दुल्ला होंगे मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार: फारूक अब्दुल्ला
2 Lok Sabha Election 2019: लोकसभा स्पीकर सुमित्रा महाजन ने छोड़ी सरकारी गाड़ी, सुरक्षा कहा-इंदौर में इसकी जरूरत नहीं
3 बीजेपी को दोहरा झटका: यूपी में एक सांसद सपा में गए तो तेजपुर एमपी ने 29 साल बाद तोड़ा नाता
ये पढ़ा क्या?
X