ताज़ा खबर
 

Jharkhand Elections: सरयू राय समेत 20 नेताओं पर 6 साल का बैन, BJP ने बागी नेताओं के खिलाफ लिया कड़ा फैसला

मामले में सरयू राय, बड़कुवार गागराई, महेश सिंह, दुष्यंत पटेल एवं अमित यादव को पार्टी के निर्णयों के खिलाफ काम करने के लिए छह साल के लिए उनकी सदस्यता को खत्म कर दिया गया है। ऐसा पहले कहा जा रहा था कि बागी नेता सरयू राय पर बीजेपी बड़ी कार्रवाई कर सकती है।

Author रांची | Updated: December 10, 2019 10:00 AM
नेता सरयू राय (सोर्स: इंडियन एक्सप्रेस)

बीजेपी ने पार्टी से बगावत करने के लिए नेता सरयू राय समेत कई अन्य नेताओं को कड़ी सजा दी है। भारतीय जनता पार्टी ने पार्टी विरोधी कार्यों के लिए सख्ती बरतते हुए मुख्यमंत्री के खिलाफ चुनाव लड़ने वाले वरिष्ठ नेता एवं पूर्व कैबिनेट मंत्री सरयू राय समेत 20 प्रदेश नेताओं को पार्टी से छह वर्ष के लिए बैन कर दिया है। सोमवार (09 दिसंबर) की रात जारी ऑफिशियल रिलीज में प्रदेश महामंत्री सह मुख्यालय प्रभारी दीपक प्रकाश ने यह जानकारी दी है। बता दें कि नेता राय खुद की पार्टी पर भ्रष्टाचार का आरोप लगा चुके हैं जिसके लिए उन्हें झारखंड विधानसभा चुनाव में पार्टी की ओर से टिकट नहीं दिया गया था। झारखंड विधानसभा चुनाव के दो चरणों के चुनाव संपन्न हो चुके हैं।

कई बागी नेताओं को 6 साल के लिए किया बैनः मामले में दीपक प्रकाश ने बताया कि प्रदेश भाजपा अध्यक्ष लक्ष्मण गिलुवा के निर्देशानुसार पार्टी ने कार्रवाई करते हुए पार्टी के प्रत्याशियों के खिलाफ चुनाव लड़ने वाले कई नेताओं के खिलाफ कड़ा कदम उठाया है। सरयू राय, बड़कुवार गागराई, महेश सिंह, दुष्यंत पटेल एवं अमित यादव को पार्टी के निर्णयों के खिलाफ काम करने के लिए छह साल के लिए उनकी सदस्यता को खत्म कर दिया गया है। ऐसा कहा जा रहा था कि बागी नेता सरयू राय पर बीजेपी बड़ी कार्रवाई कर सकती है।

Hindi News Today, 10 December 2019 LIVE Updates: देश-दुनिया की हर खबर पढ़ने के लिए यहां करें क्लिक

अन्य नेताओं पर भी गिरी गाजः संविधान विरोधी कार्यों के लिए बीजेपी ने जमशेदपुर महानगर से अमरप्रीत सिंह काले, सुबोध श्रीवास्तव, असीम पाठक, रजनीकांत सिन्हा, सतीश सिंह, रामकृष्ण दुबे, डी डी त्रिपाठी, रामनारायण शर्मा, रतन महतो, हरे राम सिंह, मुकुल मिश्र, हजारीबाग एवम् रामगढ़ से सर्वेश सिंह, संजय सिन्हा, मिथिलेश पाठक तथा त्रिभुवन प्रसाद पर कड़ी कार्रवाई की गई है। पार्टी कड़ी कार्रवाई करते हुए नेताओं की सदस्यता को छह वर्षों के लिए समाप्त कर दिया है।

सीएम रघुवर दास के खिलाफ चुनाव लड़ रहे सरयू रायः सरयू राय ने अपना टिकट काटे जाने से नाराज होकर इसके लिए मुख्यमंत्री रघुवर दास को ही जिम्मेदार मानते हुए उनके खिलाफ मोर्चा खोल दिया था। यही नहीं नाराज होकर उन्होंने दास के खिलाफ निर्दलीय चुनाव भी लड़ने का फैसला किया है। फिलहाल वह जमशेदपुर पूर्वी सीट से सीएम रघुवर दास के खिलाफ चुनाव लड़ रहे हैं। बता दें कि झारखंड विधानसभा चुनाव के दो चरण संपन्न हो चुके हैं। वहीं तीसरे चरण में 8 जिलों की 17 सीटों पर 12 दिसंबर को मतदान होना है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 Jharkhand Election: दूसरे चरण के रण में दांव पर दिग्गजों की किस्मत, CM रघुबर दास के सामने मैदान में सरयू राय और गौरव वल्लभ
2 Jharkhand Elections: जहां हुई थी तबरेज अंसारी की लिंचिंग, वहां जाने से कतराती हैं पार्टियां; पत्नीं बोली- शायद यहां मुस्लिम वोट निर्णायक भूमिका में नहीं
3 Jharkhand assembly election 2019: आदिवासियों के समर्थन बगैर सत्ता पाना आसान नहीं, ये है CM रघुबर दास के सामने बड़ी चुनौती
ये पढ़ा क्या?
X