ताज़ा खबर
 

जेडीयू उपाध्‍यक्ष प्रशांत किशोर बोले- किसी सूरत में पीएम नहीं बन सकते नीतीश, मोदी ही बनेंगे

प्रशांत किशोर ने कहा कि नीतीश कुमार किसी भी सूरत में प्रधानमंत्री नहीं बन सकते हैं। भाजपा को पूर्ण बहुमत नहीं मिलने की सूरत में भी नरेंद्र मोदी ही प्रधानमंत्री बनेंगे।

Author February 12, 2019 9:04 AM
नरेंद्र मोदी, प्रशांत किशोर और नीतीश कुमार। (Photo: PTI)

जनता दल यूनाइटेड के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर ने कहा कि नीतीश कुमार किसी भी सूरत में प्रधानमंत्री नहीं बन सकते हैं। उन्होंने स्पष्ट किया कि लोकसभा चुनाव के बाद भाजपा को पूर्ण बहुमत न मिलने पर भी नरेंद्र मोदी ही प्रधानमंत्री बनेंगे। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार एनडीए के एक बड़े नेता हैं, लकिन उन्हें प्रधानमंत्री पद के दावेदार के रूप में देखना गलत है। उन्होंने मुंबई की अपनी यात्रा में शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे से मुलाकात का भी जिक्र किया। जदयू उपाध्यक्ष ने कहा कि राजग के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी पहले से हैं और आगे भी वही रहेंगे। ऐसे में किसी और की उम्मीदवारी का सवाल ही कहां उठता है?

बता दें कि पूर्व में ऐसी खबरें सामने आई थीं कि प्रशांत किशोर ने शिवसेना प्रमुख से लोकसभा चुनाव के बाद किसी को स्‍पष्‍ट बहुमत न मिलने की स्थिति पर भी चर्चा की थी। इसमें कथित तौर पर प्रधानमंत्री के तौर पर नरेंद्र मोदी के नाम पर सहमति न बनने की स्थिति में बिहार के मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार के नाम पर आम राय बनाने के मसले पर दोनों नेताओं के बीच चर्चा हुई थी।

बिहार के बक्सर जिले के रहने वाले प्रशांत किशोर पिछले साल सितंबर महीने में जदयू में शामिल हुए थे। वे वर्ष 2014 में तब चर्चा में आए थे, जब उन्होंने नरेंद्र मोदी को प्रधानमंत्री बनाने के लिए चुनावी अभियान चलाया था। उस समय नरेंद्र मोदी भाजपा के प्रधानमंत्री उम्मीदवार थे। एक साल बाद वे नीतीश कुमार के साथ आ गए और इनके चुनावी अभियान की कमान संभाली। इस चुनाव में नीतीश कुमार भाजपा से अलग महागठबंधन के साथ लड़ रहे थे। चुनाव में नीतीश कुमार के गठबंधन को पूर्ण बहुमत मिला और लगातार तीसरी बार उनकी पार्टी की सरकार बनी।

पीटीआई के अनुसार, सोमवार (11 फरवरी) को किशोर ने संवाददाताओं से कहा, “मैं शिवसेना के निमंत्रण पर उनसे मिलने गया था। शिवसेना भी एनडीए की सहयोगी पार्टी है और इसलिए हमारे बीच में कुछ भी अलग नहीं है। चुनाव के दौरान उनके लिए मेरे द्वारा रणनीति तैयार करने में मदद करने की अटकलों का कोई औचित्य ही नहीं है। मैं अभी एक पार्टी का सदस्य हूं और किसी दूसरे को मदद नहीं कर सकता हूं।”

यह पूछे जाने पर कि यदि भाजपा के प्रर्याप्त संख्या नहीं होती है तो नीतीश कुमार प्रधानमंत्री और वह (किशोर) उप-प्रधानमंत्री बन सकते हैं? किशोर ने कहा, “इस मसले पर किसी तरह की चर्चा नहीं हुई। कोई भी जो बिहार जैसे बड़े राज्य की सत्ता पर 15 वर्षों से आसीन हो, उसका अपना एक कद होता है। अगर हम उन्हें प्रधानमंत्री पद का दावेदार मानने लगें तो यह गलत होगा। भाजपा और शिवसेना के बाद जदयू तीसरी बड़ी पार्टी है, लेकिन इससे ज्यादा इसे कुछ नहीं देखा जाना चाहिए। नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री उम्मीदवार हैं और वही प्रधानमंत्री बनेंगे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App