ताज़ा खबर
 

कर्नाटक का नाटक: म‍िल‍िए उस एमएलए से ज‍िन्‍होंने सुबह बीजेपी तो शाम को कांग्रेस को द‍िया समर्थन

Karnataka Election Results 2018: कर्नाटक में बहुमत का पेंच फंसने पर नाटकीय घटनाक्रम देखने को मिल रहा है। निर्दलीय विधायक बने आर शंकर ने बुधवार(16 मई) सुबह बीएस येदियुरप्पा को मुख्यमंत्री पद के लिए समर्थन दिया और फिर शाम होते-होते कांग्रेस कैंप में चले गए।

Author नई दिल्ली | May 17, 2018 17:51 pm
Karnataka Assembly Election Results 2018: कर्नाटक के निर्दलीय विधायक आर शंकर सुबह बीेजेपी में गए तो शाम को कांग्रेस को दिया समर्थन।

कर्नाटक में बहुमत का पेंच फंसने पर नाटकीय घटनाक्रम देखने को मिल रहा है। निर्दलीय विधायक बने आर शंकर ने बुधवार(16 मई) सुबह बीएस येदियुरप्पा को मुख्यमंत्री पद के लिए समर्थन दिया और फिर शाम होते-होते कांग्रेस कैंप में चले गए। दिन की शुरुआत में में येदियुरप्पा ने पत्रकारों के सामने घोषणा भी कर दी थी कि आर शंकर ने पार्टी ज्वॉइन कर ली है। मगर शंकर ने बाद में पाला बदल लिया।दोनों निर्दलीय विधायको ने अब कांग्रेस के पाले मे आकर संख्या 78 से 80 कर दी है।

राणेबेनूर सीट पर उन्होंने निवर्तमान विधानसभा अध्यक्ष केबी कोलिवाड़ को हराया। आर शंकर सिद्धारमैया के करीबी बताए जाते हैं। वह कुरुबा जाति से ताल्लुक रखते हैं। कांग्रेस से टिकट पाने में नाकाम रहने पर उन्हें बीजेपी ने ऑफर दिया था, मगर उन्होंने ठुकराकर कर्नाटक प्रगतिवंत जनता पार्टी से चुनाव लड़ने का फैसला किया था।

दूसरे निर्दलीय विधायक एच नागेश कोलार जिले के मुलबगल से नाता रखते हैं। मुलबगल को कांग्रेस राज्य अभियान समिति के चेयरमैन डीके शिवकुमार की खोज माना जाता है।यही वजह है कि वह शिवकुमार के काफी करीबी माने जाते हैं।एच नागेश नाटकीय रूप से कर्नाटक विधानसभा चुनाव में उम्मीदवार बने।दरअसल जांच के दौरान रिटर्निंग अफसर ने कांग्रेस के अधिकृत प्रत्याशी मंजूनाथ का नामांकन निरस्त कर दिया था।क्योंकि उन्होंने गलत जाति प्रमाणपत्र लगा रखा था। जिस पर कांग्रेस ने निर्दलीय उम्मीदवार एच नागेश को चुनाव में समर्थन दिया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App