ताज़ा खबर
 

‘अगर रगों में बह रहा है बाला साहब का खून तो…’ उद्धव ठाकरे को मिली यह चुनौती

इससे पहले, बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने खुली चेतावनी देते हुए कहा था कि पार्टी अपने पूर्व सहयोगी दलों को आगामी चुनाव में बुरी तरह हरा सकती है।

Author January 11, 2019 11:13 AM
उद्धव ठाकरे, शिवसेना के दिवंगत संस्थापक बालासाहब ठाकरे के बेटे हैं। (एक्सप्रेस फोटोः गणेश शिरसेकर)

शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे को चुनौती मिली है कि अगर उनकी रगों में बाला साहब का खून है तो वह उसे दर्शाएं। हिम्मत है तो कैबिनेट की बैठक से वॉक आउट कर (बाहर जाकर) दिखाएं। उद्धव को ये धमकी महाराष्ट्र नेशनलिस्ट कांग्रेस पार्टी के मुखिया जयंत पाटिल ने दी है। उन्होंने कहा, “दूसरी पार्टी (बीजेपी) के अध्यक्ष आपको बुरी तरह हराने की बात कर रहे हैं। ऐसे में अगर आपकी रगों में बाला साहब ठाकरे का खून दौड़ रहा है तो आप कल होने वाली कैबिनेट बैठक से बाहर जाकर दिखा दें।” बता दें कि दिवंगत बालासाहब ठाकरे शिवसेना के संस्थापक और उद्धव के पिता थे।

पाटिल ने एक रैली के दौरान दावा किया कि सेना भले ही कितना भी बीजेपी पर जुबानी हमले बोले, मगर दो दिनों पहले उद्धव शहर स्थित एक होटल में मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस से मिलने पहुंचे थे। वह जानना चाहते हैं कि आखिर दोनों नेताओं के बीच क्या बातचीत हुई।

देश में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की लहर पर उन्होंने आगे कहा, “मौजूदा समय में देश में उनकी कोई लहर नहीं है। पीएम मोदी के नेतृत्व वाली बीडेपी अपने पतन की ओर है। हमने बीजेपी से देश और राज्य को बचाने के लिए परिवर्तन यात्रा अभियान की शुरुआत की।” एनसीपी के कार्यक्रम में पाटिल के अलावा पार्टी के छगन भुजबल, अजित पवार, धनंजय मुंडे व अन्य लोग उपस्थित थे।

सामान्य वर्ग के गरीब लोगों को 10 फीसदी आरक्षण देने वाले मोदी सरकार के फैसले पर अजित पवार बोले, “आपने उन लोगों को आरक्षण दिया है, जो कि आय कर चुकाते हैं। वे गरीब नहीं हैं।” बता दें कि शिवसेना लंबे समय से बीजेपी की आलोचना करती रही है। कुछ ही दिन पहले उसने गठबंधन से अलग होकर 2019 में अकेले चुनाव लड़ने का ऐलान किया था।

इससे पहले, बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने खुली चेतावनी देते हुए कहा था कि पार्टी अपने पूर्व सहयोगी दलों को आगामी चुनाव में बुरी तरह हरा सकती है। पिछले रविवार वह बोले थे, “अगर लोकसभा चुनावों के लिए कोई गठबंधन नहीं होता है, तब बीजेपी अपने पूर्व सहयोगियों को बुरी तरह मात दे सकती है।”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App