ताज़ा खबर
 

Rajasthan Election: हनुमान बेनीवाल के प्रत्याशी बीजेपी-कांग्रेस को कितना पहुंचाएंगे नुकसान, समझें पूरा समीकरण

राजस्थान में 7 दिसंबर को मतदान होने हैं और 11 दिसंबर को नतीजें आएगें ऐसे में बेनीवाल की नई-नवेली पार्टी का भविष्य तय करने के लिए ये चुनाव काफी महत्वपूर्ण साबित होने वाले हैं। राजस्थान चुनाव में 6 सीटें ऐसी है जहां पर बेनीवाल की पार्टी सियासी समीकरण को बिगाड़ सकती है इसलिए मामला और भी रोचक हो जाता है।

Author December 5, 2018 11:56 AM
हनुमान बेनीवाल की फाइल फोटो। (Image Source: Facebook/@HanumanBeniwalOfficial)

राजस्थान के चुनावी रण में सबसे लोकप्रिय जाट नेता हनुमान बेनीवाल की राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी बीजेपी और कांग्रेस को कड़ी टक्कर दे रही है। तीसरे मोर्चे को मजबूत बनाने वाले हनुमान बेनीवाल ने ट्रंप कार्ड खेलते हुए अधिकांश टिकट दोनों पार्टियों के बागी नेताओं को दिए हैं। राजस्थान चुनाव में 6 सीटें ऐसी है जहां पर बेनीवाल की पार्टी सियासी समीकरण को बिगाड़ सकती है इसलिए मामला और भी रोचक हो जाता है। आइए जानते हैं राजस्थान की इन 6 हॉट सीटों के बारे में।

हनुमान बेनीवाल ने नवलगढ़ सीट से कांग्रेस और बीजेपी से बागी हुई पूर्व विधायक प्रतिभा सिंह को प्रत्याशी बनाया है। प्रतिभा सिंह का जनाधार दोनों पार्टियों के वोट बैंक को बड़ा नुकसान पहुंचा सकता है। कोटपूतली से रामस्वरूप कसाना को बेनीवाल ने टिकट दिया है। कसाना को अच्छा वक्ता माना जाता है और वे पहले भी यहां से चुनाव जीत चुके हैं तो वहीं जाति का आधार भी उनके पक्ष में हैं इसलिए कसाना को इस सीट का पक्का दावेदार माना जा रहा है।

खींवसर सीट से खुद हनुमान बेनीवाल खड़े हुए हैं। कहा जाता है कि इस सीट पर उनका सिक्का इतना तगड़ा चलता है कि उन्हें वोट मांगने की भी जरुरत नहीं हैं। माना जा रहा है कि इस पर राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी की जीत तय है। इसके अलावा तीन अन्य सीटों पर बेनीवाल के कैंडिडेट वोट काटने का काम करेगें। सिवाना सीट से आरएलपी का टिकट सीताराम देवासी को मिला है। सीताराम देवासी जाट और दूसरी जाति के वोट ईक्कठा करेगें, बेनीवाल का यह नेता दोनों पार्टियों का वोट बैंक जरुर खराब करने वाला साबित हो सकता है।

चौहटन में आरएलपी ने सूरताराम मेघवाल को टिकट दिया है, इस सीट पर तीनों पार्टियों से मेघवाल समुदाय के उम्मीदवारों को टिकट मिला है इसलिए मामला त्रिकोणीय माना जा रहा है इस कारण यहां दोनों बड़ी पार्टियों के उम्मीदवारों को वोटों का नुकसान जरुर पहुंचेगा। वहीं चौमू सीट पर छुट्टन यादव को टिकट मिला है। माना जा रहा है कि यहां से यादव और अन्य जातियों के वोट बटोरने का काम करेगें और दोनों पार्टियों लिए वोट कटवा साबित होगें। राजस्थान में 7 दिसंबर को मतदान होने हैं और 11 दिसंबर को नतीजें आएगें ऐसे में बेनीवाल की नई-नवेली पार्टी का भविष्य तय करने के लिए ये चुनाव काफी महत्वपूर्ण साबित होगें।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App