ताज़ा खबर
 

मेवात के मुस्लिमों का दर्द, बोले- लिंचिंग और गोकशी ने किया बेहाल, यह सरकार दोबारा आई तो क्या होगा?

मेवात क्षेत्र में करीब 450 गांव हैं जिनकी कुल आबादी 10,89,406 है, जिसमें से 8,62,647 (79%) मेव मुसलमान हैं। ऐसे में जानते हैं चुनाव पर उनकी राय..

Author April 23, 2019 8:44 PM
प्रतीकात्मक फोटो, फोटो सोर्स- इंडियन एक्सप्रेस

सुबह के11 बजे हैं। अलवर को जाने वाले राष्ट्रीय राजमार्ग के दोनों ओर बसे फिरोजपुर नमक गांव में चाय की दुकान पर दर्जनभर लोग चाय की चुस्कियों के साथ गांव देहात की राजनीति पर चर्चा कर रहे हैं । 70 साल के अली मोहम्मद गुस्से में कहते हैं, ‘पहले तो नोटबंदी कर दी और अब गौरक्षक बिरादरी के पीछे पड़े हैं। ‘वह आगाह करने के अंदाज में कहते हैं, ‘मोदी सरकार के बारे में इलाके में किसी से सवाल मत कर लेना । लोगों में बहुत गुस्सा है।’ मेवात क्षेत्र में करीब 450 गांव हैं जिनकी कुल आबादी 10,89,406 है, जिसमें से 8,62,647 (79%) मेव मुसलमान हैं। दुकान पर बैठे लोग दबी आवाज में कहते हैं कि मुसलमानों में यही डर है कि मोदी के राज में पहली बार ही ये सब हो रहा है और अगर ये फिर से सत्ता में आ गए तो क्या होगा।

वो खुद को चौकीदार कहता है: अली मोहम्मद कोई नाम लिए बिना आक्रोशित स्वर में कहते हैं, ‘वो खुद को चौकीदार कहता है, तो उसे ठीक से चौकीदारी करनी चाहिए या नहीं ? यहां तो 70 फीसदी लोग गाय भैंस पालते हैं, वे तो बर्बाद ही हो रहे हैं।’ लिंचिंग और गौकशी जैसी घटनाओं को लेकर अक्सर सुर्खियों में छाए रहे मेवात इलाके में आम चुनाव को लेकर कोई सरगर्मी दिखाई नहीं देती। गुड़गांव से निकलते ही सबसे पहला गांव ‘रोज का मेव’ पड़ता है, इसके बाद हीरानथला, रेवासन, बरोटा, मरोड़ा, रायसीना, कोटला, घासेड़ा, कुरथला और उसके बाद जिला मुख्यालय नूंह आता है । लेकिन पूरे रास्ते में केवल घासेड़ा गांव में सड़क के किनारे स्थित कुछ घरों के ऊपर कांग्रेस पार्टी के झंडे टंगे दिखाई दिए । वरना, इसके अलावा इलाके में किसी भी पार्टी का कोई पोस्टर बैनर नजर नहीं आया जबकि यहां कांग्रेस, इंडियन नेशनल लोकदल और कुछ इलाकों में भाजपा का प्रभाव है।

गाय नहीं तो बाहर नहीं जा सकते: मेवात में मवेशी और वह भी गाय पालन 70 फीसदी लोगों की आजीविका का साधन है । यहां एक एक डेयरी में 500 … 500 तक गायें हैं जिनका दूध सोहना भेजा जाता है और वहां से यह दूध गुड़गांव तथा राजधानी दिल्ली तक जाता है। स्थानीय लोगों का कहना है कि पहले वे राजस्थान के नागौर तक जाकर अच्छी नस्ल की गायें लेकर आते थे ताकि दूध उत्पादन अधिक मात्रा में हो सके । लेकिन अब तो गाय लेकर गांव के बाहर भी नहीं निकल सकते ।

स्थानीय पत्रकार अफसोस के साथ कहते हैं: ‘मालब’ गांव में स्थानीय पत्रकार मोहम्मद युनूस अल्वी अफसोस के साथ कहते हैं, ‘इस इलाके को ‘मिनी पाकिस्तान’ कहकर बदनाम किया जाता है । मेव गद्दार नहीं, खुद्दार कौम है । मेव मुसलमानों में बेटी की शादी तक में गाय देने की सदियों पुरानी परंपरा आज भी कायम है और आज इन्हीं मेवों को गायों की हत्यारी कौम बताया जा रहा है । यह बेहद अफसोसनाक है।’ क्या इसका चुनाव पर असर होगा?, इस सवाल पर अल्वी कहते हैं, ‘निश्चित रूप से होगा। यहां का 90 फीसदी मतदाता पारंपरिक रूप से कांग्रेस का वोटर रहा है।’

नेता हमे बांटने में तुले हैं: ‘मालब’ गांव में ही सरपंच के घर पर पुताई का काम करने वाला धर्मबीर कहता है, ‘हमारा आपस में भाईचारा बहुत बढ़िया है जी, हम तो बस नेताओं से ही परेशान हैं । हम तो शादी ब्याह में एक थाली में बैठकर खा लेते हैं लेकिन नेता हमें बांटने पर लगे हैं।’ मजदूर फखरूद्दीन कहता है, ‘नेताओं को यहां तालीम, सड़क और बिजली पानी की हालत सुधारनी चाहिए।’

राहुल के ‘न्याय’ पर रिएक्शन: अली मोहम्मद कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी द्वारा सत्ता में आने पर हर गरीब को 72 हजार रूपए सालाना दिए जाने की घोषणा से काफी प्रभावित हैं । इस सवाल पर कि उन्हें राहुल गांधी द्वारा किया गया यह वादा पूरा होने की कितनी उम्मीद है, उसने कहा ‘छत्तीसगढ और मध्य प्रदेश में करके दिखाया ना!’ साल 2017 में जिला मुख्यालय नूंह के तहत आने वाले जयसिंहपुर गांव के डेयरी किसान पहलू खान की पड़ोसी अलवर जिले के बहरोड़ में कथित रूप से गौरक्षकों ने पीट पीट कर हत्या कर दी थी। साल 2018 में भी इस प्रकार की कुछ घटनाएं सामने आयी थीं।

 

12 मई को होगा मतदान: बता दें कि हरियाणा की दस लोकसभा सीटों पर 12 मई को मतदान होना है। मेवात क्षेत्र और नूंह जिला मुख्यालय गुड़गांव लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र के तहत आता है । इस सीट पर कांग्रेस ने छह बार के विधायक और प्रदेश सरकार में मंत्री रह चुके कैप्टन अजय यादव को, भाजपा ने मौजूदा सांसद व केंद्रीय मंत्री राव इंद्रजीत सिंह को, आम आदमी पार्टी और जननायक जनता पार्टी गठबंधन ने महमूद खान और इंडियन नेशनल लोकदल ने वीरेन्द्र राणा को उम्मीदवार बनाया है ।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App