ताज़ा खबर
 

गुजरात चुनाव परिणाम 2017: मोदी के गढ़ में भाजपा को कमजोर करने के लिए राहुल ने इन 5 लोगों पर लगाया था दांव

Gujarat Election Chunav Result 2017 (गुजरात चुनाव नतीजे 2017): राज्य से आया पहला नतीजा कांग्रेस के पक्ष में गया है। अहमदाबाद से कांग्रेस के इमरान की जीत हुई है।

Gujarat Election Chunav Result 2017: (ऊपर से बाएं से दाएं) – भरत सिंह सोलंकी, अर्जुन मोधवाडिया, सिद्धार्थ पटेल, शक्ति सिंह गोहिल और परेश धनानी। (एक्सप्रेस फोटो)

गुजरात विधान सभा के चुनाव नतीजों के ताजा रुझान से साफ हो गया है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के गृह राज्य में फिर से बीजेपी की ही सरकार बनेगी। प्राप्त रुझानों के मुताबिक 182 सदस्यों वाले गुजरात विधान सभा में बीजेपी 107 सीटों पर बढ़त बनाई हुई है, जबकि मुख्य विपक्षी कांग्रेस 74 और अन्य एक सीट पर बढ़त बनाए हुए हैं। हालांकि, बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के 150 सीट जीतने के दावे और टारगेट से पार्टी बहुत पीछे है। बता दें कि तमाम एग्जिट पोल्स के नतीजों में भी अमित शाह के टारगेट से कम बीजेपी को सीटें दिखाई गई थीं। इस बीच, राज्य से आया पहला नतीजा कांग्रेस के पक्ष में गया है। अहमदाबाद के जमालपुर खड़िया सीट से कांग्रेस के इमरान की जीत हुई है। उन्होंने बीजेपी के भूषण भट्ट को हराया। दूसरा नतीजा भी अहमदाबाद से आया है लेकिन यह बीजेपी के पक्ष में गया है। एसिलब्रिज से बीजेपी के राकेश शाह की जीत हुई है।

इधर, 22 सालों से सत्ता से दूर कांग्रेस गुजरात में वापसी की उम्मीद लगाए बैठी थी लेकिन ताजा रुझानों से साफ हो रहा है कि पार्टी के लिए इस राज्य में सत्ता पर काबिज होना अभी दूर की कौड़ी है। हालांकि, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने इसके लिए तमाम बीजेपी विरोधी संगठनों और लोगों से गठजोड़ किया मगर उम्मीदों के अनुसार सफलता नहीं मिलती दिख रही है। कांग्रेस भले ही सत्ता पर काबिज न हो पाए लेकिन राजनीतिक पंडितों के मुताबिक कांग्रेस ने बीजेपी की बादशाहत में सेंध लगा दिया है। राहुल गांधी ने खुद और अपनी टीम के बल पर न केवल उम्दा प्रदर्शन किया है बल्कि कांग्रेस के वोट शेयर में भी इजाफा हुआ है। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने जिन पांच लोगों पर मोदी के गढ़ में सेंध लगाने और बीजेपी को कमजोर करने की जिम्मेदारी सौंपी थी उनमें ये चेहरे प्रमुख हैं-

गुजरात विधान सभा चुनाव के नतीजे/रुझान:

1-अर्जुन मोधवाडिया (60)- गुजरात मैरीटाइम बोर्ड के पूर्व इंजीनियर अर्जुन 1997 में राजनीति में आए। साल 2002 में उन्होंने पोरबंदर से पहला विधान सभा चुनाव लड़ा और बीजेपी के वरिष्ठ नेता बाबू बोखिरिया को हराया। साल 2004 से 2007 तक वो गुजरात विधान सभा में विपक्ष के नेता रहे। साल 2007 में उन्होंने दोबारा पोरबंदर सीट से जीत हासिल की। साल 2011 में उन्हें गुजरात कांग्रेस का अध्यक्ष बनाया गया। साल 2012 के गुजरात विधान सभा चुनाव में उनके नेतृत्व में पार्टी का प्रदर्शन उम्मीद के अनुरूप नहीं रहा। साल 2012 में अर्जुन को बाबू बोखिरिया के हाथों हार का सामना करना पड़ा था। इस साल भी यही दोनों नेता पोरबंदर सीट से आमने-सामने होंगे।

हिमाचल प्रदेश विधान सभा चुनाव के नतीजे/रुझान:

2- शक्ति सिंह गोहिल (57)- अहमद पटेल को राज्य सभा चुनाव जिताने में गुजरात कांग्रेस के नेता शक्ति सिंह गोहिल की अहम भूमिका मानी गयी थी। चार बार विधायक रह चुके शक्ति सिंह गोहिल के दादा दरबार साहब रंजीत सिंह आजादी की लड़ाई में शामिल रहे थे। उनके दादा 1967 में गुजरात से विधायक भी चुने गये थे। पेशे से वकील गोहिल साल 2012 में विधान सभा चुनाव हार गये थे लेकिन साल 2014 में हुए विधान सभा उप-चुनाव में वो चौथी बार विधायक बने। 1990 में पहली बार विधायक बनने वाले गोहिल महज 30 साल की उम्र में मंत्री बन गये थे।

3-भरत सिंह सोलंकी (64), गुजरात कांग्रेस के अध्यक्ष- भरत सिंह सोलंकी राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री और पूर्व विदेश मंत्री माधव सिंह सोलंकी के बेटे हैं। माधव सिंह सोलंकी चार बार गुजरात के सीएम रहे थे। माधव सिंह सोलंकी ने कांग्रेस को 1985 में राज्य की 149 सीटों पर रिकॉर्ड जीत दिलायी थी। माना जाता है कि माधव सिंह सोलंकी ने ओबीसी, दलित, आदिवासी और मुसलमानों को एकजुट करके ये जीत हासिल की थी। उनके बेटे भरत सिंह इस समय ओबीसी, दलित, आदिवासी और पाटीदार वोटों को एक साथ लाने की कोशिश कर रहे हैं। भरत सिंह सोलंकी साल 2006 में गुजरात कांग्रेस के अध्यक्ष बने थे। इसके बाद साल 2007 में हुए विधान सभा चुनाव में कांग्रेस साल 2002 के शर्मनाक प्रदर्शन से उबरी थी। एक विवादित वीडियो सामने आने के बाद उन्हें पार्टी अध्यक्ष पद छोड़ना पड़ा था। साल 2015 में उन्हें दोबारा प्रदेश अध्यक्ष बनाया गया। भरत सिंह सोलंकी तीन बार विधायक और दो बार सांसद रह चुके हैं। भरत सिंह सोलंकी केंद्रीय राज्य मंत्री भी रह चुके हैं। साल 2014 में वो मोदी लहर में गुजरात के आनंद से लोक सभा चुनाव हार गये थे।

4- परेश धनानी (41)- पटेल नेता परेश धनानी को पार्टी में संकटमोचक माना जाता है। किसान परिवार से आने वाले परेश धनानी को राजनीति में लाने का श्रेय पूर्व केंद्रीय मंत्री मनुभाई कोटाडिया को दिया जाता है। अमरेली विधान सभा से साल 2002 में कृषि मंत्री पुरषोत्तम रुपला को हराकर उन्होंने प्रदेश की राजनीति में सबका ध्यान अपनी ओर खींच लिया था। उस समय वो अमेरिली जिले के युवा कांग्रेस के प्रमुख थे। साल 2007 में वो चुनाव हार गये लेकिन साल 2012 में वो फिर जीत गये। इस बार उन्होंने राज्य सरकार के तत्कालीन मंत्री दिलीप संघानी को हराया था। धनानी गुजरात कांग्रेस के महासचिव रह चुके हैं। अभी वो अखिल भारतीय कांग्रेस में सचिव हैं। पाटीदार समाज से आने वाले धनानी राहुल गांधी के रोडशो में अहम भूमिका निभाते हैं। गुजरात राज्य सभा चुनाव के दौरान भी उन्होंने महत्वपूर्ण भूमिका निभायी थी। धनानी इस चुनाव में भी अमरेली से ही उम्मीदवार हैं।

5-सिद्धार्थ पटेल (63), कांग्रेस प्रचार समिति के प्रमुख- सिद्धार्थ पटेल गुजरात के पूर्व कांग्रेसी सीएम चिमनभाई पटेल के बेटे हैं। सिद्धार्थ पटेल कांग्रेस में पाटीदार समाज के चेहरे हैं। माना जा रहा है कि पटेल दाभोई विधान सभा से चुनाव लड़ेंगे। वो 1998 से इसी सीट से चुनाव लड़ रहे हैं। उन्हें दो बार इस सीट से जीत मिली और दो बार हार। साल 2008 में वो गुजरात कांग्रेस के अध्यक्ष रहे थे। वो 1998 से 2002 तक गुजरात विधान सभा में पार्टी के मुख्य सचेतक भी रह चुके हैं। गुजरात विश्वविद्याय से गोल्ड मेडल के साथ स्नातक पटेल ने यूनिवर्सिटी ऑफ डलास से एमबीए किया है। साल 2012 में वो दाभोई विधान सभा सीट से चुनाव हार गये थे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App