ताज़ा खबर
 

मधेपुरा से ग्राउंड रिपोर्टः लालू की लड़ाई लड़ रहे शरद यादव, त्रिकोणीय संघर्ष में जदयू-पप्पू यादव से मिल रही टक्कर

Lok Sabha Election 2019 (लोकसभा चुनाव 2019): मधेपुरा में एक कठिन लड़ाई में घिरे शरद यादव को भी इसका अनुमान नहीं रहा होगा कि चुनावी राजनीति इतनी कठिन हो सकती है। बहरहाल वे इस सीट पर सिमट कर रह गए हैं।

लालू प्रसाद यादव और शरद यादव। फोटो सोर्स : जनसत्ता

Lok Sabha Election 2019: मधेपुरा में एक कठिन लड़ाई में घिरे शरद यादव को भी इसका अनुमान नहीं रहा होगा कि चुनावी राजनीति इतनी कठिन हो सकती है। बहरहाल वे इस सीट पर सिमट कर रह गए हैं। कभी जनता दल और बाद में जनता दल (यूनाइटेड) के राष्ट्रीय अध्यक्ष के रूप में दूसरों की जीत-हार की व्यूह रचना करने वाले शरद के लिए इससे अधिक मजबूरी क्या होगी! हसरत आठवीं बार संसद पहुंचने की है, जबकि राजेश रंजन उर्फ पप्पू यादव और दिनेश चंद्र यादव राह रोकने के लिए तैयार। कुछ ऐसे ही त्रिकोणात्मक संघर्ष में पिछली बार शरद धूल धूसरित हुए थे। इस बार इत्मीनान महज इतना कि साथ में राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद हैं, जिनसे वे कभी मधेपुरा में जीतते-हारते रहे हैं।

लालू के प्रतिनिधि हैं शरद यादव : मधेपुरा की लड़ाई हकीकत में लालू लड़ रहे। शरद यादव उनके प्रतिनिधि के रूप में मैदान में हैं। यह उसी दिन तय हो गया था, जब शरद यादव महागठबंधन के बीच सीटों के बंटवारे में मध्यस्थ की भूमिका में आए थे। संभवत: उन्होंने जार्ज फर्नांडिस की सियासी गति से सबक लिया होगा, इसीलिए वे मैदान में अकेले बूते नहीं उतरे। 2009 में जार्ज फर्नांडिस मुजफ्फरपुर में कुछ ऐसी ही मजबूर लड़ाई के लिए अभिशप्त हुए थे। उस हार के बाद वे राजनीतिक परिदृश्य से ही ओझल हो गए। दुर्योग कि सेहत भी बिगड़ती गई। उससे पहले 2004 में मधेपुरा में शरद को शिकस्त देकर लालू रेल मंत्री बने। जार्ज फर्नांडिस अब हमारे बीच नहीं रहे, जिनके साथ मिलकर शरद यादव ने जनता दल (यूनाइटेड) का गठन किया था। पिछली बार इसी पार्टी के टिकट पर शरद यादव 56209 मतों के अंतर से राजेश रंजन उर्फ पप्पू यादव से शिकस्त खा चुके हैं। बाद में उत्तराधिकार का सवाल उठाकर पप्पू यादव ने राजद से किनारा कर लिया। तब राजग से अलग होकर जदयू अपने बूते मैदान में था। भाजपा उम्मीदवार को मिले 252539 मत शरद यादव की हार के लिए निर्णायक साबित हुए।

National Hindi News, 16 April 2019 LIVE Updates: दिनभर की हर खबर पढ़ें एक जगह

जाति के दायरे में जीत का समीकरण: मधेपुरा में जीत का समीकरण जाति विशेष के दायरे में कैद है। यहां एक नारा आम है : ‘रोम है पोप का, मधेपुरा गोप का।Ó इलाके ने इसे चरितार्थ भी किया है। एकाध अपवाद छोड़ दें, तो अधिकांश चुनावों के विश्लेषण यही बताते हैं। पार्टियां बेशक बदलती रही हों, लेकिन सीट एक जाति के कब्जे में ही रही। वैसे राजनीतिक दल भी इससे अलग रुख अख्तियार करने की कभी हिम्मत नहीं जुटा पाए। इस बार भी गोप से गोप की टक्कर हो रही है। मुकाबले के तीनों उम्मीदवार यादव बिरादरी से। ऐसे में कैडर वोटों की अहमियत बढ़ जाती है। शरद यादव की परेशानी की एक वजह यह भी है। कैडर वोटों के मामले में भाजपा को महारत हासिल है और इस बार भाजपा-जदयू एक साथ हैं। मुकाबले के दूसरे उम्मीदवार पप्पू यादव की सियासी जड़ें उसी राजद की जमीन में हैं, जिससे शरद उम्मीदवार हैं। दिनेश चंद्र यादव राज्य सरकार में लघु जल संसाधन मंत्री हैं। पानी से पीडि़त (कोसी के संदर्भ) इस इलाके में सरकार की योजनाएं नए दौर से कदमताल की जरूरत बता रहीं। इसके समानान्तर शरद यादव के पास गिनाने के लिए अपनी समाजवादी पृष्ठभूमि, राजनीतिक अनुभव और बेदाग छवि है।

लालू और शरद की मित्रता: लालू और शरद की राजनीतिक मित्रता एक अंतराल के बाद दोबारा परवान चढ़ी है। कुछ अहसान भी हैं, जिसे चुकता करने के लिए यह चुनाव शायद आखिरी मौका है। लालू को मधेपुरा की राजनीति का सिद्धस्त माना जाता है, लेकिन राजग के उम्मीदवार के रूप में शरद यादव 1999 में लालू को वहां पटखनी देने में कामयाब रहे। तब लालू ने घोषणा कर रखी थी कि वे शरद को कागजी शेर और जनाधार विहीन नेता साबित कर देंगे। दूसरी तरफ शरद का दावा था कि वे खुद को यादवों का असली और बड़ा नेता साबित करेंगे। नतीजे ने लालू को निराश किया था। आज लालू उसी शरद को मंझधार से निकालने में लगे हुए हैं। यह उस उपकार का बदला भी हो सकता है, जो 1990 में शरद ने लालू को मुख्यमंत्री बनाने के लिए किया था।

सहयोगी के हवाले सीट: कांग्रेसी चार बार जीते, लेकिन 1991 और 1996 में उनकी हालत पतली हो गई। तीसरे स्थान से संतोष करना पड़ा। थकी-हारी कांग्रेस ने यह सीट राजद के हवाले कर दी। वैसे भाजपा और वामपंथियों की दाल यहां कभी नहीं गली। एक अपवाद है। 1977 की गैर कांग्रेसी गोलबंदी में जनसंघ भी था, जब कांग्रेस की पराजय हुई। आखिरकार भाजपा ने समता पार्टी को यह सीट सौंप दी। जदयू उसी का रूपांतरण है।

इतिहास में दर्ज रिकॉर्ड : इस क्षेत्र से एकमात्र शरद यादव लगातार दो बार सांसद चुने गए। रमेंद्र कुमार यादव रवि के खाते में सर्वाधिक मत (68.1 प्रतिशत) पाने का रिकॉर्ड दर्ज है। सर्वाधिक मतों (44.2 प्रतिशत) के अंतर से जीतने का रिकॉर्ड भी उन्हीं के खाते में।

पहला चुनाव : 1952 में यह क्षेत्र भागलपुर-पूर्णिया नाम से जाना जाता था। दोहरी उम्मीदवारी थी। 1962 में इस संसदीय क्षेत्र का नाम महुआ था।

साल सांसद पार्टी
1952 एएल मेहता कांग्रेस
1957 के मुसहर एसओसी
1962 चन्द्रमणि लाल चौधरी कांग्रेस
1967 बीपी मंडल एसएसपी
1971 राजेंद्र प्रसाद यादव कांग्रेस
1977 विंध्येश्वरी प्रसाद मंडल भालोद
1980 राजेंद्र प्रसाद यादव कांग्रेस-यू
1984 महावीर प्रसाद यादव कांग्रेस
1989 रमेंद्र कुमार यादव रवि जनता दल
1991/96 शरद यादव जनता दल
1998 लालू प्रसाद राजद
1999 शरद यादव जदयू
2004 लालू प्रसाद राजद
उप चुनाव पप्पू यादव राजद
2009 शरद यादव जदयू
2014 पप्पू यादव राजद

(नोट : 2004 में लालू यादव दो जगह से निर्वाचित हुए थे। बाद में उन्होंने मधेपुरा सीट छोड़ दी। वहां उप चुनाव हुआ। 1952 में दोहरी उम्मीदवारी थी।)

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App