ताज़ा खबर
 

अल्पसंख्यकों को लेकर अमित शाह ने पार्टी नेताओं को दिया यह निर्देश, केंद्रीय मंत्री ने किया खुलासा

बकौल नाईक, "मौजूदा समय में गोवा सरकार में सात अल्पसंख्यक समुदाय से विधायक हैं। ये सभी बीजेपी के टिकट पर चुने गए थे। सूबे में अल्पसंख्यकों के बीच बीजेपी की स्वीकार्यता है।"

Author February 11, 2019 10:45 AM
भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के अध्यक्ष अमित शाह। (एक्सप्रेस फोटोः ताशी तोबग्याल)

लोकसभा चुनाव से पहले भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के अध्यक्ष अमित शाह ने अल्पसंख्यकों को लेकर पार्टी नेताओं को खास निर्देश दिया है। उन्होंने कहा है कि सभी नेता बीजेपी के ‘सबका साथ, सबका विकास’ के मूलमंत्र पर आगे बढ़ें और इस समुदाय से संवाद साधें। शाह ने ये बातें गोवा में शनिवार (नौ फरवरी, 2019) को एक बैठक के दौरान कहीं, जिसमें वह पार्टी पदाधिकारियों से कई अहम मसलों पर चर्चा कर रहे थे। रविवार (10 फरवरी) को इसी बारे में उत्तरी गोवा के सांसद और केंद्रीय आयुष मंत्री श्रीपद नाईक ने खुलासा किया।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार नाईक ने कहा, “पार्टी अध्यक्ष ने बैठक में सभी नेताओं से अल्पसंख्यकों के बीच जाकर संवाद करने का निर्देश दिया था। वह उस दौरान सिर्फ गोवा नहीं, बल्कि अन्य जगहों के संदर्भ में बात कर रहे थे।” शाह की बात का हवाला देते हुए मंत्री बोले- अगर आप पार्टी बढ़ाना चाहते हैं तो हर किसी का साथ जरूरी है। हमें सबको साथ लेकर चलना होगा।

बकौल नाईक, “मौजूदा समय में गोवा सरकार में सात अल्पसंख्यक समुदाय से विधायक हैं। ये सभी बीजेपी के टिकट पर चुने गए थे। सूबे में अल्पसंख्यकों के बीच बीजेपी की स्वीकार्यता है। पार्टी अध्यक्ष सभी को साथ लेकर चलने की बात कर रहे थे।” पार्टी अध्यक्ष ने इस बैठक से पहले बूथ स्तर के कार्यकर्ताओं से वहां मुलाकात की थी।

‘BJP से खनन गतिरोध हल करने की उम्मीद नहीं’: बीजेपी प्रमुख अमित शाह के गोवा में खनन गतिरोध पर दिए बयान के एक दिन बाद इस क्षेत्र पर निर्भर लोगों के एक संगठन ने रविवार को कहा कि उसे सत्तारूढ़ पार्टी से ज्यादा उम्मीदें नहीं हैं। दरअसल, शाह ने शनिवार को ‘अटल बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन’ में कहा था कि उनकी पार्टी राज्य में खनन गतिरोध का हल ढूंढने के लिए सर्वश्रेष्ठ प्रयास करेगी। गोवा माइंनिंग पीपुल्स फ्रंट के पुती गांवकर ने इसी को लेकर कहा, “हमें गोवा के दौरे के दौरान खनन क्षेत्र के मुद्दे से बचने के शाह के कदम के बाद अब बीजेपी से ज्यादा उम्मीदें नहीं हैं।”

(भाषा इनपुट्स के साथ)

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App