ताज़ा खबर
 

Lok Sabha Election 2019: तीन स्तरीय सुरक्षा घेरे में रखी गई हैं ईवीएम : रणवीर सिंह

Lok Sabha Election 2019 (लोकसभा चुनाव 2019): आयोग के एक अन्य अधिकारी ने कहा कि मतदान संपन्न होने के बाद हर पोलिंग एजंट को एक फार्म-17 (सी) की प्रतिलिपि दी गई है।, जिसमें उन्हें हर ईवीएम में कुल पड़े वोटों की संख्या दर्जगी की जानकारी दी गई है।

ईवीएम मशीन (फाइल फोटो)

Lok Sabha Election 2019: चुनाव आयोग ने ईवीएम को लेकर पुख्ता चुनाव व्यवस्था का दावा किया है। आयोग ने इस बाबत मतगणना को लेकर तैयारी पूरी कर ली है। मुख्य निर्वाचन अधिकारी डॉ रणवीर सिंह के मुताबिक, दिल्ली में सात जगहों पर वोटों की गिनती होगी। सभी मतगणना केंद्रों को तीन स्तरीय सुरक्षा घेरे के तहत लाया गया है। ईवीएम में किसी भी तरह की छेड़छाड़ के कथित आरोप पर आयोग ने साफ किया कि आशंकाएं बेबुनियाद हैं। बता दें कि आम आदमी पार्टी ने ईवीएम में छेड़छाड़ की आशंका जताते हुए अपने लोगों को स्ट्रांग रूम (ईवीएम रखे जाने वाली जगह) के पास निगरानी के बाबत तैनात किया है। मतगणना में लगाए गए अधिकारियों के लिए आयोग ने तीन दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम का भी आयोजन किया है।

किया जा सकेगा मतों का मिलान
आयोग के एक अन्य अधिकारी ने कहा कि मतदान संपन्न होने के बाद हर पोलिंग एजंट को एक फार्म-17 (सी) की प्रतिलिपि दी गई है।, जिसमें उन्हें हर ईवीएम में कुल पड़े वोटों की संख्या दर्जगी की जानकारी दी गई है। वोटों की गणना में हर दल का पोलिंग एजंट संबंधित ईवीएम में कुल पड़े मतों का मिलान कर सकता है। फार्म -17 (सी) के आंकड़े और दलगत पड़े वोटों के कुल योग के मिलान से पारदर्शिता स्थापित होती है। किसी भी हेरफेर की कोई संभावना नहीं होती।

स्ट्रांग रूम में ईवीएम
सात स्ट्रांग रूम में ईवीएम रखे गए हैं। आयोग के एक वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक, तीन स्तरीय सुरक्षा घेरे में पहला व सबसे बाहरी घेरा दिल्ली पुलिस का है। मध्य घेरे की जिम्मेदारी सशस्त्र बल स्पेशल एसल्ट टीम (एसएटी) की होगी जबकि आंतरिक घेरे की जिम्मेदारी अर्धसैनिक बलों को सौंपी गई है। 250 से ज्यादा दिल्ली पुलिस के जवान और अर्द्धसैनिक बलों की तीन कंपनियां हर मतगणना केंद्र पर तैनात हैं। इलेक्ट्रॉनिक निगरानी की व्यवस्था है। अधिकारी ने कहा कि पारदर्शिता के लिए दलों को तय प्रारूप के मुताबिक, अपने लोगों को वहां रखने की भी इजाजत दी गई है। अधिकारी की मानें तो ईवीएम मुद्दे पर पारदर्शिता के लिए सभी दलों को वहां निगरानी में शमिल होने को भी कहा गया था। लेकिन केवल ‘आप’ के लोग ही केंद्रो पर बैठे हैं। राघव चड्ढÞा के ट्वीट पर

आयोग का पलटवार
‘आप’ नेता और दक्षिण दिल्ली से ‘आप’ के लोकसभा उम्मीदवार राघव चड्ढÞा ने शुक्रवार सुबह 11 बजकर 17 मिनट पर एक ट्वीट कर सनसनी फैला दी कि उन्हें पुख्ता जानकारी मिली है कि दक्षिण दिल्ली के पीठासीन अधिकारी (पीओ) को चुनाव आयोग ने बुलाया और ईवीएम से जुड़े दस्तावेजों पर दोबारा दस्तखत कराया है। ‘आप’ नेता संजय सिंह को लिंक करते हुए राघव चड्ढÞा ने अपने ट्वीट में ईवीएम से छेड़छाड़ की आशंका तक जता डाली और सवाल किया कि यह क्या हो रहा है, ईवीएम के दोबारा दस्तावेज क्यों बन रहे हैं? इस पर दिल्ली चुनाव आयोग ने जारी बयान में साफ किया कि किसी भी पीठासीन अधिकारी (पीओ) को चुनाव आयोग ने नहीं बुलाया। आयोग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा-यह भ्रामक करने वाली सूचना है।

यहां होगी मतगणना
’नई दिल्ली: एनपी बंगाली गर्ल्स सीनियर सेकेंडरी स्कूल, गोल मार्केट
’दक्षिण दिल्ली : जीजाबाई पोलिटेक्निक फॉर वुमन (अगस्त क्रांति मार्ग)
’पश्चिमी दिल्ली : इंटिग्रेट्ेट इंस्टीट्यूट आॅफ टेक्नोलॉजी परिसर
’पूर्वी दिल्ली : बैडमिंटन कोर्ट, राष्ट्रमंडल खेल गांव, खेल परिसर
’उतर पूर्वी दिल्ली : आइटीआइ परिसर, नंद नगरी
’उतर पश्चिमी दिल्ली : डीटीयू परिसर, शाहाबाद दौलतपुर
’चांदनी चौक : एसकेवी परिसर, भरत नगर

Next Stories
1 Lok Sabha Election 2019: लोकसभा नतीजों से तय होगा विधानसभा का रास्ता
2 Lok Sabha Election 2019: गोडसे संबंधी बयान पर भाजपा ने तीन नेताओं को जारी किया नोटिस
3 VIDEO: ‘हट जाइए भैया, हट जाइए’, चुनाव प्रचार के आखिरी दिन स्कूटी रैली निकाल रहीं स्मृति ईरानी चिल्ला पड़ीं
ये पढ़ा क्या?
X