ताज़ा खबर
 

लोकसभा चुनाव में कैसे होगा मतदान, किसे पड़े वोट- वीवीपीएटी से ऐसे करें जांच!

ईवीएम पर उठते सवालों के बीच चुनाव को अधिक पारदर्शी बनाने के लिए चुनाव आयोग ने वीवीपीएटी मशीन सभी ईवीएम के साथ लगाने का फैसला किया है।

Author Updated: January 10, 2019 11:03 AM
तस्वीर का इस्तेमाल केवल प्रतीकात्मक तौर पर। (Express Photo)

लोकसभा चुनाव से पहले दिल्ली निर्वाचन विभाग ने दिल्लीवालों के लिए मॉक पोल अभियान की शुरुआत की है। इसके तहत विभाग ने ‘डेमोक्रेसी ऑन व्हील्स’ नाम से एक रथ की शुरुआत की है जो दिल्ली के अलग-अलग संसदीय इलाकों में जाकर मतादाताओं को मॉक पोल की ट्रेनिंग देगा। दिल्ली के मुख्य निर्वाचन अधिकारी रणवीर सिंह ने बुधवार (09 जनवरी) को हरी झंडी दिखाकर इस रथ को रवाना किया। गुरुवार (10 जनवरी) से यह रथ पूर्वी दिल्ली के मतदाताओं को लोकसभा चुनाव में वोट डालने, वीवीपीएटी मशीन से उसकी जांच करने की ट्रेनिंग देगा। रथ में ईवीएम, वीवीपीएटी मशीन और एलईडी स्क्रीन लगाया गया है। ‘डेमोक्रेसी ऑन व्हील्स’ पर तैनात अधिकारियों के मुताबिक वे लोग मतदाताओं की इसकी ट्रेनिंग देंगे कि मतदान कैसे करना है और मतदाता कैसे चेक करेंगे कि उनके वोट पड़ गए हैं।

अधिकारियों के मुताबिक, लोकसभा चुनाव से पहले दिल्ली के सभी 70 विधान सभा क्षेत्रों में ऐसे 70 रथ रवाना होंगे। इन रथों के जरिए मतदाता निष्पक्ष मतदान प्रक्रिया से जुड़ी हरेक पहलू की जानकारी लेंगे और यह जान सकेंगे कि कैसे मतदान होता है और उसे अधिक पारदर्शी और निष्पक्ष बनाने की चुनाव आयोग की कोशिशें कैसे काम करती है। विभाग की कोशिश है कि लोकसभा चुनाव से पहले दिल्ली के सभी सात संसदीय इलाकों में मतदाताओं को इसकी ट्रेनिंग दी जाय।

क्या होता है वीवीपीएटी मशीन?

बता दें कि ईवीएम पर उठते सवालों के बीच चुनाव को अधिक पारदर्शी बनाने के लिए चुनाव आयोग ने वीवीपीएटी मशीन सभी ईवीएम के साथ लगाने का फैसला किया है। वीवीपीएटी एक मशीन होती है जो ईवीएम से कनेक्टेड होती है। मतदाता जैसे ही ईवीएम पर एक बटन दबाता है, उसके तुरंत बाद कनेक्टेड वीवीपीएटी मशीन पर एक डिस्प्ले दिखाई देता है जिसमें उम्मीदवार के नाम और उस राजनीतिक पार्टी के नाम की पर्ची होती है, जिसके लिए उसने वोट दिया है। वीवीपीएटी मशीन पर इस पर्ची का प्रदर्शन सात सेकंड के बाद गायब हो जाता है और उसके बाद पर्ची मशीन बॉक्स में गिर जाती है।

टीओआई से बातचीत में अधिकारी ने बताया कि असली चुनाव के बाद इन वीवीपीएटी बॉक्सों को सील कर दिया जाएगा। बतौर अधिकारी मॉक पोल के दौरान अगर किसी मतदाता कोई आपत्ति करता है तो उसे वीवीपीएटी से निकली पर्ची दिखाई जाएगी, ताकि मतादाताओं के अंदर निष्पक्ष और पारदर्शी चुनाव को लेकर किसी तरह का कोई भ्रम न रहे। उन्होंने बताया कि कोई भी व्यक्ति मतदाता सूची में अपना नाम जाँचने के लिए हेल्पलाइन नंबर 1950 पर कॉल कर सकता है और किसी भी अन्य शिकायत को दर्ज करा सकता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 गुजराती MLA ने 10% आरक्षण को बताया खतरनाक, बोले- RSS खा जाएगा SC, ST, OBC का हक
2 तुष्‍टि‍करण की राह पर मोदी सरकार? इस रास्‍ते चल कर तीन पीएम गंवा चुके हैं कुर्स‍ियां
3 मोदी सरकार के इन फैसलों से उड़ रही बीजेपी के ‘पॉलिटिक्स ऑफ परफॉर्मेन्स’ दावे की धज्जियां