ताज़ा खबर
 

दिल्ली में विपक्षी दलों संग बैठक के बाद देवगौड़ा से मिले नायडू, EVM मुद्दे पर एकमत करने की कोशिश

आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री एवं तेदेपा प्रमुख चंद्रबाबू नायडू ने ईवीएम के साथ कथित छेड़छाड़ के मुद्दे पर विपक्षी पार्टियों को एकजुट करने के मकसद से पूर्व प्रधानमंत्री एवं जद(एस) अध्यक्ष एचडी देवगौड़ा से यहां मुलाकात की।

Author बेंगलुरू | Updated: May 22, 2019 4:54 PM
आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री एवं तेदेपा प्रमुख चंद्रबाबू नायडू ने ईवीएम के साथ कथित छेड़छाड़ के मुद्दे पर विपक्षी पार्टियों को एकजुट करने के मकसद से पूर्व प्रधानमंत्री एवं जद(एस) अध्यक्ष एचडी देवगौड़ा से यहां मुलाकात की। (Photo- @ncbn)

आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री एवं तेदेपा प्रमुख चंद्रबाबू नायडू ने ईवीएम के साथ कथित छेड़छाड़ के मुद्दे पर विपक्षी पार्टियों को एकजुट करने के मकसद से पूर्व प्रधानमंत्री एवं जद(एस) अध्यक्ष एचडी देवगौड़ा से यहां मुलाकात की। नायडू नई दिल्ली में ईवीएम के मुद्दे पर विपक्षी पार्टियों के साथ बैठक के बाद देर रात यहां पहुंचे थे और उन्होंने देवगौड़ा से करीब एक घंटे बात की। नायडू ने कहा कि 23 पार्टियां इस मुद्दे को उठा रही हैं और पारर्दिशता एवं जवाबदेही की मांग कर रही हैं। नायडू ने आरोप लगाया, ‘‘ पहले, भाजपा तक ने ईवीएम का विरोध किया था। उत्तर प्रदेश में हमने ईवीएम को होटलों एवं घरों में देखा है… स्ट्रॉन्ग रूम बदले जा रहे हैं।’’

विपक्ष द्वारा उठाए गए ईवीएम के मसले पर प्रधानमंत्री के रुख के बारे में पूछे जाने पर आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री ने कहा, ‘‘ प्रधानमंत्री क्यों विरोध कर रहे हैं? ईवीएम और वीवीपैट हैं। आपने 9,000 करोड़ रुपये खर्च किए हैं… आप पारर्दिशता और जवाबदेही क्यों नहीं दिखा रहे हैं? उन्होंने आरोप लगाया, ‘‘ इसका मतलब आप बदमाशी कर रहे हैं। आप ईवीएम से छेड़छाड़ कर रहे हैं।’’ देवगौड़ा ने कहा कि उन्होंने भी 2006 में ईवीएम को लेकर चुनाव आयोग को चिट्ठी लिखी थी। उन्होंने कहा कि इन जटिलताओं से बचने के लिए मत पत्रों को वापस लाना चाहिए।

विपक्षी पार्टियां हमेशा से ईवीएम की विश्वसनीयता पर सवाल उठाती रही हैं। वे मतपर्ची और ईवीएम के मिलान की मांग कर रही हैं और इस बाबत उन्होंने नई दिल्ली में आयोग को एक ज्ञापन सौंपा है। कांग्रेस, द्रमुक, तेदेपा और बसपा सहित 22 विपक्षी पार्टियों के नेताओं ने दिल्ली में चुनाव आयोग से मुलाकात कर एक ज्ञापन सौंप कर वोटों की गिनती से पहले औचक तरीके से चुने गए पांच मतदान केंद्रों की वीवीपैट र्पिचयों का सत्यापन कराने की मांग की है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 Loksabha Election 2019 Result: उत्तर प्रदेश में मुस्लिम परिवारों की तैयारी- यदि भाजपा जीती लोकसभा चुनाव तो छोड़ देंगे गांव
2 Loksabha Election 2019: विपक्ष का ईवीएम का धरना फेल, मतगणना प्रक्रिया में नहीं होगा बदलाव
3 Lok Sabha 2019: कांग्रेस नेता का विवादित बयान, ईवीएम टैंपरिंग में सुप्रीम कोर्ट को घसीटा