ताज़ा खबर
 

Elections 2019: चुनाव हारने के बाद टीम अमित शाह में शिवराज सिंह, वसुंधरा राजे और रमन सिंह की एंट्री

ये तीनों हिंदी पट्टी वाले अहम राज्यों (मध्य प्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़) के मुख्यमंत्री थे, पर साल 2018 के विधानसभा चुनाव में इन्हें हार का सामना करना पड़ा था। शाह ने इन्हें पार्टी उपाध्यक्ष के तौर पर नियुक्त किया है।

ये तीनों दिग्गज नेता बीते साल विस चुनाव हार गए थे, फिर भी बीजेपी अध्यक्ष ने इन पर भरोसा जताया है। (एक्सप्रेस फोटो)

लोकसभा चुनाव से पहले भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) ने शिवराज सिंह चौहान, वसुंधरा राजे और रमन सिंह को बड़ी जिम्मेदारी सौंपी है। गुरुवार (10 जनवरी, 2019) को पार्टी अध्यक्ष अमित शाह ने इन तीनों दिग्गजों को राष्ट्रीय उपाध्यक्ष के पद पर नियुक्त किया। बता दें कि तीनों हिंदी पट्टी वाले अहम राज्यों (मध्य प्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़) के मुख्यमंत्री थे, पर साल 2018 के विधानसभा चुनाव में इन्हें हार का सामना करना पड़ा था। तीनों ही राज्यों में कांग्रेस की सरकार बनी। हालांकि, फिर भी बीजेपी ने इन पर विश्वास जताया है और आम चुनाव से पूर्व अहम जिम्मेदारी सौंपी है।

विस चुनाव हारने के बाद चौहान ने कहा था, “मैं अब किसी पद की उम्मीद नहीं करता हूं। मैं म.प्र में ही रहूंगा और यहां के लोगों की सेवा करूंगा।” गौरतलब है कि वह सूबे में पिछले 15 सालों से सीएम थे। जन-जन तक वह खासा मशहूर थे। प्रदेश की बेटियां और महिलाएं उन्हें अभी भी ‘मामा’ कहकर बुलाती हैं।

शाह ने बीजेपी की दो दिवसीय राष्ट्रीय परिषद की बैठक की पूर्व संध्या पर ये नियुक्तियां कीं। बैठक में लोकसभा चुनाव प्रचार का एजेंडा रहने की संभावना है। वहीं, पार्टी के राष्ट्रीय सचिव अरुण सिंह ने एक ट्वीट कर कहा कि शाह ने तीन पूर्व मुख्यमंत्रियों को अपना उपाध्यक्ष नियुक्त किया है।

‘BJP गठबंधन को तैयार’: पीएम मोदी ने गुरुवार को कहा कि भाजपा गठबंधन करने के लिए तैयार है। वह अपने पुराने मित्रों के साथ दोस्ती निभाते हुए चलती है। पीएम ने इसके साथ संकेत दिए कि भाजपा लोकसभा चुनाव के मद्देनजर तमिलनाडु में राजग को मजबूत करना चाहती है। कांग्रेस की उसके ‘‘अहंकार’’ और क्षेत्रीय दलों की उपेक्षा करने के लिए आलोचना करते हुए मोदी ने कहा कि पार्टी को इतना घमंड है कि वह ऐसा कह रही है कि वह सबको ‘‘हैरान’’ कर देगी जबकि उत्तर प्रदेश में उसके साथ कोई हाथ मिलाने को तैयार नहीं है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 15 दिन में बदल गए केसीआर के सुर, TRS सांसद बोले- जहां राहुल गांधी, वहां हमारा क्या काम?
2 राजनीति में नहीं आना चाहती थीं, पर अब फिर मिली बड़ी राजनीतिक जिम्‍मेदारी
3 2019 चुनाव: हालिया सर्वे जैसे आए नतीजे तो नरेंद्र मोदी के ल‍िए हो सकते हैं ये व‍िकल्‍प
ये पढ़ा क्या?
X