ताज़ा खबर
 

Elections 2019: मोबाइल ऐप से जागरूक जनता बन रही लोकतंत्र की प्रहरी

लोकसभा चुनाव में पहली बार प्रयोग में लाया जा रहे सी-विजिल मोबाइल ऐप के जरिए दिल्ली के लोगों ने आदर्श आचार संहिता उल्लंघन की 615 शिकायतें चुनाव आयोग को भेजी हैं, जिसमें से 459 को सही पाया गया और कार्रवाई की गई।

Author April 2, 2019 1:27 AM
आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन (जिसमें डराना, धमकाना, रिश्वत देना, गैर-कानूनी होर्डिंग, धर्म, जाति, भाषण) की तस्वीर या वीडियो अपलोड कर सकते हैं। ’चुनाव आयोग के सी-विजिल ऐप से 615 शिकायतें लोगों ने भेजी, 459 शिकायतें सही पाए जाने पर आयोग ने की कार्रवाई।

लोकसभा चुनाव में पहली बार प्रयोग में लाया जा रहे सी-विजिल मोबाइल ऐप के जरिए दिल्ली के लोगों ने आदर्श आचार संहिता उल्लंघन की 615 शिकायतें चुनाव आयोग को भेजी हैं, जिसमें से 459 को सही पाया गया और कार्रवाई की गई। इस ऐप को लोकप्रिय बनाने के लिए दिल्ली के मुख्य निर्वाचन अधिकारी (सीईओ) कार्यालय ने 1 अप्रैल से अभियान शुरू किया है।  रणबीर सिंह ने कहा कि ऐप के जरिए आ रही शिकायतें 74 फीसद तक सही हैं। इस ऐप को लेकर दिल्ली में 4708 जगहों पर अभियान चलाया जा रहा है। इनमें से 3000 ऑटो हैं, इसके अतिरिक्त खंभों, बस शेल्टर, शौचालयों, पेय स्थानों, कनॉट प्लेस और अक्षरधाम में डिजिटल स्क्रीन के जरिए प्रचार प्रसार किया जा रहा है।

गौरतलब है कि सी-विजिल नामक मोबाइल ऐप के जरिए मतदाता अपने क्षेत्र में किसी तरह के आदर्श आचार संहिता उल्लंघन संबंधी शिकायतों को दर्ज करवा सकते हैं जिसका निपटारा 100 मिनट में किया जाना है। यदि कोई नागरिक आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन (डराना, धमकाना, रिश्वत देना, गैर-कानूनी होर्डिंग, धर्म, जाति के आधार पर प्रचार, घृणा फैलाने वाला भाषण आदि) होते देखता है तो वह उसकी तस्वीर या वीडियो इस ऐप के जरिए अपलोड कर शिकायत दर्ज करवा सकता है।
शिकायतकर्ता की पहचान गुप्त रखी जाएगी। हालांकि, शिकायतकर्ता को ये तस्वीरें या वीडियो लेने के पांच मिनट के अंदर अपलोड करना होगा, जिसके 10 मिनट के अंदर उड़नदस्ता घटनास्थल पर पहुंच जाएगा। इसके लिए 210 दस्ते तैनात किए गए हैं। लोकसभा चुनाव के लिए दिल्ली में 12 मई को मतदान होना है। पुलिस व प्रशासन की ओर से चुनाव को लेकर काफी तैयारियां की गई है।

महिलाओं के लिए पिंक बूथ
आदर्श मतदान केंद्र के अतिरिक्त इस चुनाव में दिल्ली में पहली बार 7 महिला मतदान केंद्र बनाए जाएंगे। इसके अलावा दिल्ली सीईओ कार्यालय पीडब्लूडी मतदान केंद्र की संभावनाएं भी तलाश रहा है जो पूरी तरह से दिव्यांग स्टाफ द्वारा संचालित हो और जिसके सभी मतदाता भी दिव्यांग हों। दिल्ली में कुल 433 मतदान केंद्र संवेदनशील हैं। रणबीर सिंह ने बताया कि दिव्यांग मतदाता केंद्र के लिए जिला चुनाव अधिकारी से कहा गया है कि वह पता करें कि क्या इस तरह के मतदान केंद्र बनाए जाने की संभावना है। दिल्ली में पीडब्लूडी मतदाताओं की संख्या 35230 है। हर एक लोकसभा क्षेत्र में एक महिला मतदान केंद्र होगा जिसे पिंक बूथ के नाम से जाना जाएगा। 70 आदर्श मतदान केंद्र होंगे। मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने बताया कि हरेक मतदान केंद्र पर रैंप, पीने का पानी, फर्नीचर, मेडिकल किट, रोशनी की व्यवस्था, हेल्प डेस्क, शौचालय, छाया के लिए शेड, कतार प्रबंधन के लिए कार सेवा, बच्चों के लिए पालना गृह, दिव्यांगों के लिए परिवहन सुविधा आदि की सुविधा दिए जाने पर बात चल रही है। अधिकारी ने बताया कि कुल 13816 मतदान केंद्रों में से 13702 केंद्रों पर दिव्यांगों के लिए रैंप की व्यवस्था कर ली गई है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

X