ताज़ा खबर
 

लोकसभा चुनाव से पहले एक और राज्य में भाजपा विरोधी गठबंधन की सुगबुगाहट?

असम कांग्रेस के प्रभारी व राज्यसभा सांसद रिपुण बोरा के हवाले से एक रिपोर्ट में कहा गया, "यह राज्य के हालात और जरूरत पर निर्भर करेगा, तभी हम उनसे (एजीपी) से बात करेंगे।"

Elections 2019, Loksabha Elections, 2019 Elections, Assam, Alliance, Congress, Assam Gana Parishad, AGP, Possiblity, BJP, Bihar, UP, India News, Hindi Newsडिब्रूगढ़ में शुक्रवार को नागरिकता विधेयक को लेकर विरोध जताता ऑल असम ताई अहोम स्टूडेंट्स यूनियन का कार्यकर्ता। वहीं, गुवाहाटी में काला झंडा लहराकर विरोध जताते एएएसयू के कार्यकर्ता। (फोटोः पीटीआई)

लोकसभा चुनाव से पहले एक और राज्य में भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) विरोधी गठबंधन की सुगबुगाहट नजर आ रही है। बीजेपी के विकास रथ को बिहार और उत्तर प्रदेश में रोकने के लिए तो गठबंधन हो चुका है, जबकि इसी कड़ी में अगला नंबर असम का हो सकता है। वहां कांग्रेस और असम गण परिषद (एजीपी) के नेताओं ने कहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार वाले नागरिकता (संशोधन) विधेयक ने सूबे में उथल-पुथल मचा रखी है। यही वजह है कि अन्य राजनीतिक दलों चुनावी मैदान में एक हो सकते हैं।

कांग्रेस की तरफ से पूर्व मुख्यमंत्री तरुण गोगोई दो मौकों पर राज्य में नए राजनीतिक मोर्चों को लेकर संभावना जता चुके हैं। कांग्रेस की तरफ से पूर्व में यह भी कहा गया था कि एजीपी उसके साथ आकर मिल जाए। हालांकि, मौजूदा समय में ये दोनों ही दल सरकार के बिल का विरोध करते दिख रहे हैं।

असम कांग्रेस के प्रभारी व राज्यसभा सांसद रिपुण बोरा के हवाले से एचटी की रिपोर्ट में कहा गया, “यह राज्य के हालात और जरूरत पर निर्भर करेगा, तभी हम उनसे (एजीपी) से बात करेंगे। राजनीति में कुछ भी असंभव नहीं है। कुछ भी हो सकता है। सब कुछ हालात पर निर्भर करता है। अगर जरूरत पड़ेगी, तो हम उस पर (बातचीत, गठजोड़) सोचेंगे।”

दोनों पार्टियां क्या साथ आ सकती हैं? यह पूछे जाने पर एजीपी नेता व पूर्व सीएम प्रफुल्ला कुमार महांता बोले, “नागरिकता विधेयक ही असम अकॉर्ड के क्लॉज छह का उल्लंघन करता है, जो कि हमारे लिए सामान्य आधार है। यह असमवासियों के खिलाफ है।” आगे की रणनीति को लेकर उन्होंने कहा कि पार्टी की केंद्रीय समिति इस मसले (गठजोड़) पर सोचेगी।

बता दें कि शनिवार (12 जनवरी) को लखनऊ स्थित एक होटल में सपा-बसपा ने आगामी चुनाव साथ लड़ने को लेकर गठबंधन का आधिकारिक ऐलान किया। सपा प्रमुख अखिलेश यादव और बसपा सुप्रीमो मायावती की पार्टियों ने 38-38 सीटों पर ये चुनाव लड़ने का फैसला किया है। दो सीटें छोटे दलों व दो सीटें (रायबरेली व अमेठी) कांग्रेस के लिए छोड़ दी गई हैं।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 सोनिया गांधी ने कांग्रेसियों को कराया डिनर, राजनीति छोड़ दर्शन बतियाते रहे दिग्‍गज
2 दुबई से राहुल गांधी का कांग्रेसियों को पैगाम: मायावती और अखिलेश का करें सम्मान
3 सामान्य वर्ग को 10% आरक्षण का कानून लागू, राष्ट्रपति ने दी बिल को मंजूरी
ये पढ़ा क्या?
X