ताज़ा खबर
 

बंगाल: चुनाव बाद हिंसा में एक की हत्या, बीजेपी-तृणमूल दोनों ने बताया अपना कार्यकर्ता

Chunav Result 2019, Lok Sabha Election Results 2019: हिंसा की लगातार घटनाएं सामने आने के बाद सूबे के गवर्नर केशरी नाथ त्रिपाठी ने बंगाल की समृद्ध संस्कृति का हवाला देते हुए लोगों से शांति बरतने की अपील की है।

ममता बनर्जी और अमित शाह। (pti image/file)

Election Results 2019: आम चुनाव 2019 के नतीजे सामने आने के बाद से पश्चिम बंगाल में बीजेपी और तृणमूल कांग्रेस के बीच झड़प जारी है। इस हिंसा के दौरान शुक्रवार रात एक 24 साल के युवक की नादिया जिले में गोली मारकर हत्या कर दी गई। दिलचस्प बात यह है कि बीजेपी और तृणमूल दोनों ने ही दावा किया है कि मृतक संतू घोष उनसे जुड़ा हुआ था। हालांकि, पुलिस अभी यह पता लगाने की कोशिश कर रही है कि यह राजनीतिक हत्या है या नहीं। हालांकि, मृतक संतू के परिवार ने दावा किया है कि वह किसी भी राजनीतिक दल से नहीं जुड़ा हुआ था। उधर, हिंसा की लगातार घटनाएं सामने आने के बाद सूबे के गवर्नर केशरी नाथ त्रिपाठी ने बंगाल की समृद्ध संस्कृति का हवाला देते हुए लोगों से शांति बरतने की अपील की है।

Loksabha Election 2019 Results live updates: See constituency wise winners list

संतू की चकदाह के गोरपाड़ा इलाके में गोली मारकर हत्या कर दी गई। बीजेपी समर्थकों ने इसके बाद पुलिस की कार्रवाई की मांग करते हुए नैशनल हाइवे और रेलवे ट्रैक जाम कर दिया। पुलिस के मुताबिक, शुक्रवार रात 10 बजे संतू को कुछ शरारती तत्वों ने उसके मोबाइल फोन पर कॉल करके मिलने के लिए बुलाया। वह उनसे मिलने के लिए निकला लेकिन वापस नहीं लौटा। बाद में उसका शव एक खेत के बगल में मिला। संतू के पिता के मुताबिक, वह किसी भी राजनीतिक दल का हिस्सा नहीं था। हालांकि, पहले वह तृणमूल पार्षद पिंटू नाग का नजदीकी था।

शुक्रवार रात, स्थानीय लोगों ने गोली की आवाज सुनी तो मौके लिए भागे। वहां संतू पड़ा हुआ मिला। उसे तुरंत अस्पताल पहुंचाया गया, लेकिन उसे वहां मृत घोषित कर दिया गया। संतू बड़ा बाजार में एक गहने की दुकान पर काम किया करता था और अपने परिवार में कमाने वाला इकलौता सदस्य था। तृणमूल पार्षद नाग ने कहा, ‘संतू हमारी पार्टी का सक्रिय सदस्य था और उसने कभी अपनी पार्टी नहीं छोड़ी।’ हालांकि, स्थानीय बीजेपी नेताओं का दावा है कि संतू ने हाल ही में बीजेपी जॉइन की थी और उसने क्षेत्र में प्रचार के दौरान कड़ी मेहनत की थी। बीजेपी नेताओं का दावा है कि तृणमूल छोड़कर बीजेपी में आने की वजह से संतू की हत्या की गई। बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष के मुताबिक, संतू पार्टी का कार्यकर्ता था और हाल ही में बीजेपी में शामिल हुआ था। बता दें कि नादिया जिले के अलावा बंगाल के कई हिस्सों में हिंसा की खबरें आ चुकी हैं। दोनों ही पार्टियों ने इस हिंसा के लिए एक दूसरे को जिम्मेदार ठहराया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

X