ताज़ा खबर
 

नतीजों का असर! लालू ने छोड़ा खाना, डॉक्टर बता रहे ‘तनाव’ के लक्षण

Election Results 2019: लालू प्रसाद यादव कई बीमारियों से घिरे हुए हैं और फिलहाल उनका रांची के रिम्स अस्पताल में इलाज चल रहा है। वहीं राजद नेता लालू प्रसाद यादव को किसी तरह का तनाव होने की बात से इंकार कर रहे हैं।

Author Published on: May 26, 2019 8:44 AM
लालू प्रसाद यादव। (pti image)

राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव ने बीते दो दिनों से खाना छोड़ दिया है। रांची के RIMS अस्पताल के डॉक्टरों ने यह जानकारी दी है। डॉक्टरों का कहना है कि उनका रोजाना का रुटीन बुरी तरह से अव्यवस्थित चल रहा है और वह बीते 2 दिनों से दिन का खाना नहीं खा रहे हैं। डॉक्टरों का मानना है कि लालू प्रसाद यादव चिंता या कहें कि तनाव में हैं। ऐसे कयास लगाए जा रहे हैं कि लोकसभा चुनावों में राजद की हार के बाद लालू यादव तनाव में आ गए हैं। फिलहाल डॉक्टरों का कहना है कि उन्होंने लालू प्रसाद यादव को कहा है कि वह समय पर खाना खाएं, ताकि उन्हें दवाईयां और इंन्सुलिन ठीक तरह से दिया जा सके। अभी लालू यादव की अव्यवस्थित दिनचर्चा के चलते इसमें परेशानी आ रही है। फिलहाल डॉक्टर्स लालू यादव की काउंसलिंग कर रहे हैं।

Loksabha Election 2019 Results live updates: See constituency wise winners list

बता दें कि लालू प्रसाद यादव कई बीमारियों से घिरे हुए हैं और फिलहाल उनका रांची के रिम्स अस्पताल में इलाज चल रहा है। वहीं राजद नेता लालू प्रसाद यादव को किसी तरह का तनाव होने की बात से इंकार कर रहे हैं। चुनावों में हार के चलते लालू यादव के तनाव में आने के सवाल पर एक राजद विधायक ने बताया कि यह लालूजी का कोई पहला चुनाव नहीं है। उन्हें कोई तनाव या चिंता नहीं है। राजद नेता ने बताया कि लालू प्रसाद यादव ने विधानसभा चुनावों के लिए तैयार रहने का निर्देश दिया है।

बता दें कि लोकसभा चुनाव 2019 में बिहार में राजद की उम्मीदों को भारी झटका लगा है, चूंकि पार्टी बिहार में एक भी सीट नहीं जीत सकी है। बिहार की 40 लोकसभा सीटों में से एनडीए ने 39 सीटों पर अपना कब्जा जमाया है। वहीं राजद-कांग्रेस और अन्य पार्टियों का गठबंधन सिर्फ एक सीट पर ही जीत दर्ज कर सका है। राजद का यह पहला चुनाव था, जो पार्टी ने लालू यादव की गैरमौजूदगी में लड़ा। राजद को इस बार जीत दिलाने की जिम्मेदारी लालू यादव के बेटे तेजस्वी यादव और तेज प्रताप यादव पर थी, लेकिन नतीजे देखकर लग रहा है कि बिहार की जनता ने अभी राजद के नए नेतृत्व को पूरी तरह से स्वीकार नहीं किया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 बंगाल: चुनाव बाद हिंसा में एक की हत्या, बीजेपी-तृणमूल दोनों ने बताया अपना कार्यकर्ता
2 रिपोर्ट: CWC मीटिंग में राहुल गांधी का सीनियर नेताओं पर फूटा गुस्सा, बोले- गहलोत, कमलनाथ, चिदंबरम ने पार्टी से ज्यादा बेटों को दी तरजीह
3 नए सांसदों को नरेंद्र मोदी का NARA मंत्र- ‘नेशनल एंबीशन, रीजनल एस्पिरेशन’ से बढ़ेगा देश
ये पढ़ा क्‍या!
X