ताज़ा खबर
 

Election Results 2019: टिकट काटने में किसी की नहीं सुनते अमित शाह, 120 का काटा था, सौ नए उम्मीदवार जीते

भाजपा ने पिछले विधान सभा चुनावों (एमपी, छत्तीसगढ़, राजस्थान और गुजरात) में भी 20 से 30 फीसदी सीटिंग विधायकों का टिकट काट दिया था। भाजपा इसका प्रयोग गुजरात में पिछले दो-तीन चुनावों से करती रही है और उसके सकारात्मक नतीजे मिलते रहे हैं।

भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह। (Photo: PTI)

Election Results 2019: 2019 के लोक सभा चुनावों में भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने करीब 120 सीटिंग सांसदों का टिकट काटकर नए चेहरों को मौका दिया। इनमें से 100 उम्मीदवार जीतने में सफल रहे हैं। पार्टी ने उम्र और कामकाज के आधार पर सीटिंग सांसदों का टिकट काटा था। इनमें से कई पार्टी के वरिष्ठ और बुजुर्ग नेता भी शामिल थे जिनकी उम्र 75 के पार कर गई थी। ये लोग पार्टी के स्थापना काल से ही जुड़े रहे थे। बावजूद इसके इनकी जगह नए चेहरों को मौका दिया गया। ऐसे लोगों में भाजपा संस्थापकों में शामिल रहे पूर्व उप प्रधानमंत्री लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी, शांता कुमार, लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन, पूर्व लोकसभा उपाध्यक्ष करिया मुंडा, कलराज मिश्र, हुकुमदेव नारायण यादव, पूर्व सीएम उमा भारती, भगत सिंह कोश्यारी, बीसी खंडूरी, रांची के सांसद रामटल चौधरी जैसे धुरंधर नेता शामिल रहे हैं।

पार्टी ने कुछ सांसदों का टिकट स्वास्थ्य कारणों से जबकि कुछ का टिकट खराब परफॉर्मेन्स के आधार पर भी काटा था। केंद्रीय मंत्री उमा भारती का टिकट झांसी से स्वास्थ्य कारणों की वजह से ही काटा गया है। राजस्थान के राजसमंद से सीटिंग सांसद हरिओम सिंह ठाकुर का टिकट भी इसी वजह से काटा गया था जबकि स्थानीय लोगों के विरोध की वजह से यूपी के बांदा के सांसद रहे भैरो प्रसाद मिश्र का टिकट काटा गया था। टिकट कटने से पहले ही इलाहाबाद सीट से सांसद रहे श्यामा प्रसाद गुप्ता सपा की साइकिल पर सवार हो गए लेकिन वो जीत नहीं सके। झारखंड के कोडरमा से रवीन्द्र राय का टिकट काटकर राजद से आई अन्नपूर्णा देवी को टिकट दिया गया जो जीतने में सफल रहीं।

2019 के लोकसभा चुनाव के अंतिम परिणाम 542/543 सीट। (ग्राफिक्स- जनसत्ता/नरेंद्र)

यूपी से और जिन चर्चित चेहरों का टिकट काटा गया उनमें एससी कमीशन के अध्यक्ष और आगरा से सांसद रमाशंकर कठेरिया, मिशरिख सांसद अंजू बाला, संभल के सीटिंग एमपी सत्यपाल सैनी, शाहजहांपुर से सीटिंग एमपी और केंद्रीय मंत्री कृष्णा राज, फतेहपुर सिकरी से सांसद रहे बाबूलाल चौधरी शामिल हैं। राजस्थान की बाड़मेर सीट से कर्नल सोनाराम चौधरी का भी टिकट काट दिया गया था। बिहार में जेडीयू से गठबंधन के बाद भाजपा ने कुछ सीटिंग सीटें जेडीयू को दी थीं। इस वजह से वहां भी कुछ सीटिंग सांसदों का टिकट काटा गया था। इनमें सीवान से सांसद रहे ओम प्रकाश यादव, झंझारपुर से बीरेंद्र कुमार चौधरी, गोपालगंज से जनक राम, वाल्मीकि नगर से सतीश चंद्र दूबे और गया से हरि मांझी शामिल हैं।

कहां से कौन जीता, देखें- पूरी लिस्ट

बता दें कि भाजपा ने पिछले विधान सभा चुनावों (एमपी, छत्तीसगढ़, राजस्थान और गुजरात) में भी 20 से 30 फीसदी सीटिंग विधायकों का टिकट काट दिया था। भाजपा इसका प्रयोग गुजरात में पिछले दो-तीन चुनावों से करती रही है और उसके सकारात्मक नतीजे मिलते रहे हैं।

Follow live coverage on election result 2019. Check your constituency live result here.

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

X