ताज़ा खबर
 

Election Results 2019: अमित शाह ने 2014 से ही की थी 2019 के चुनाव की तैयारी: 161 कॉल सेंटर्स, 15,600 कॉलर्स के जरिये 20 करोड़ वोटर्स से किया संपर्क

Chunav Result 2019, Lok Sabha Election Results 2019: भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने 2014 में ही 2019 के आम चुनाव की तैयारियां शुरू कर दी थी। पार्टी ने 161 कॉल सेंटर्स में 15600 कॉलर्स के जरिये 20 करोड़ वोटरों से संपर्क किया।

लोकसभा चुनाव में जीत के बाद दिल्ली के पार्टी मुख्यालय पहुंचे अमित शाह (फोटोः पीटीआई)

Election Results 2019: भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह को ऐसे ही पार्टी का ‘चाणक्य’ नहीं कहा जाता है। इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि अमित शाह ने 2019 के आम चुनाव की तैयारी 2014 में भाजपा के सत्ता में आने के बाद से ही शुरू कर दी थी। शाह ने इसके लिए पूरी रणनीति तैयार की।

Election Results 2019 LIVE Updates: यहां देखें नतीजे
पार्टी को मजबूत करने के लिए शाह ने 1 नवंबर 2015 से पार्टी की सदस्यता का कार्यक्रम शुरू किया। इस कार्यक्रम के लिए ‘साथ आएं, देश बनाएं’ का नारा दिया गया। जुलाई तक मिस्ड कॉल जैसे आसान प्रक्रिया के तहत पार्टी के सदस्यों की संख्या 3.5 करोड़ से 11 करोड़ तक पहुंच गई। इसके बाद शाह ने महासंपर्क अभियान की शुरुआत की।

Loksabha Election 2019 Results live updates: See constituency wise winners list

इसके तहत पार्टी के नए सदस्यों को पार्टी की विचारधार से रुबरु कराना था। इतना ही नहीं शाह ने इसके बाद बूथ स्तर पर ‘मेरा बूथ सबसे मजबूत’ कार्यक्रम शुरू किया। उन्होंने पश्चिम बंगाल के नक्सलबारी से दीन दयाल विस्तारक योजना की भी शुरुआत की। इसके तहत उन 120 सीटों पर फोकस किया गया जहां पार्टी पिछले चुनाव में हारी थी।

2019 का चुनाव जीतने के रणनीति बनाने के लिए यह 95 दिन का राष्ट्रव्यापी कार्यक्रम था। पार्टी महासचिव ने बताया कि बूथ स्तर पर पार्टी का काम बहुत बेहतरीन रहा। कोई भी पार्टी में भाजपा की तरह इस तरह की क्षमता नहीं है।

पार्टी के 17 प्रकोष्ठ के स्था पर 19 विभाग बनाएः इसके बाद शाह ने दक्षिण और पूर्वोत्तर में जहां पार्टी मजबूत नहीं है, वहां विस्तार की रणनीति बनाई। शाह ने ऐसी 115 सीटों की सूची बनाई जिस पर पार्टी को जीत के लिए फोकस करना था। इनमें ओडिशा, पश्चिम बंगाल, आंध्र प्रदेश, तमिलनाडु, केरल शामिल थे।

इसके लिए पार्टी के पूर्वोत्तर प्रभारी व अन्य लोगों को जिम्मेदारी दी गई। शाह ने पार्टी के तत्कालीन 17 प्रकोष्ठ के स्थान पर 19 नए विभागों का गठन किया। इनके जिम्मे पार्टी सदस्यता, जिला स्तर पर कार्यालय, कार्यालयों का मॉडर्नाइजेशन, स्वच्छ भारत, नमामि गंगे जैसे सरकार की फ्लैगशिप योजनाओं का प्रचार करना आदि शामिल था।

22 करोड़ लोगों से संपर्कः भाजपा के पिछले पांच साल का अभियान कॉल सेंटर्स, जीपीएस वाले रथ, वीडियो और होलोग्राम एड्रेस, बूथों और वॉलिटियर्स की ट्रैकिंग में तकनीक का पूरा प्रयोग किया गया। शाह ने 168 कॉल सेंटर्स बनाए। इसमें 12662 कार्यकताओं को लोगों से संपर्क साधने की जिम्मेदारी दी गई। इनके साथ हाईटेक डिजाइनर और कंसल्टेंट्स की टीम भी बनाई गई। टीम ने मोदी सरकार की योजनाओं का लाभ उठाने वाले 20 करोड़ लोगों तक 161 कॉल सेंटर के 15600 कॉलर के जरिए संपर्क किया।

Read here the latest Lok Sabha Election 2019 News, Live coverage and full election schedule for India General Election 2019

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

X