ताज़ा खबर
 

मोदी बोले- जैसे-जैसे ”गालियों की डोज” बढ़ रही है, वैसे-वैसे जनता के ”प्यार की डोज” भी बढ़ रही

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने बृहस्पतिवार को कहा कि विरोधियों की ''गाली की डोज'' जैसे..जैसे बढ़ रही है, वैसे वैसे जनता के ''प्यार और विश्वास की डोज'' भी बढ़ रही है। मोदी ने यहां एक चुनावी जनसभा में कहा, ''जैसे-जैसे विरोधियों द्वारा गालियों की डोज बढ़ रही है, जनता मुझ पर अपने प्यार और विश्वास की डोज भी बढ़ाती चल रही है।

Author मिर्जापुर | May 16, 2019 6:13 PM
पीएम मोदी (Photo- ANI)

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने बृहस्पतिवार को कहा कि विरोधियों की ”गाली की डोज” जैसे..जैसे बढ़ रही है, वैसे वैसे जनता के ”प्यार और विश्वास की डोज” भी बढ़ रही है। मोदी ने यहां एक चुनावी जनसभा में कहा, ”जैसे-जैसे विरोधियों द्वारा गालियों की डोज बढ़ रही है, जनता मुझ पर अपने प्यार और विश्वास की डोज भी बढ़ाती चल रही है।” उन्होंने कहा, ”मुझे वो महामिलावटी गाली दे रहे हैं, जिन्होंने उत्तर प्रदेश को, मिर्जापुर को बारी-बारी से लूटा था। मुझे वो महामिलावटी गाली दे रहे हैं, जिन्होंने मिर्जापुर को नक्सली हिंसा में ढकेल दिया था। मुझे वो महामिलावटी गाली दे रहे हैं, जिन्होंने यूपी की खदानों को लूटकर अपनी तिजोरियां भर ली थीं।”

मोदी ने कहा, ”कुछ दिन पहले बुआ के बबुआ यहां आए थे तो उन्होंने कहा था कि भाजपा वालों की बात शौचालय से शुरू होती है और वहीं खत्म होती है … ऐसी बात वही कर सकता है जिसके लिए मां-बहन-बेटियों की गरिमा, सुरक्षा और स्वास्थ्य का जरा सा भी महत्व न हो। हमारे लिए शौचालय, मां-बहन-बेटियों का इज्जत घर है।” उन्होंने कहा कि बुआ (बसपा सुप्रीमो मायावती) हों या बबुआ (सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव) या फिर कांग्रेस के नामदार, उत्तर प्रदेश की समझदार जनता को ये लोग सिर्फ जाति में बांटकर देखते हैं।

मोदी ने कहा, ”उन्हें लगता है कि वोटर उनकी जागीर हैं। वो जब चाहेंगे अपनी जागीर एक दूसरे को दे देंगे।”” उन्होंने कहा, ””ये लोग अपनी कुर्सी की डील में वोटर को ही नहीं, अपने कार्यकर्ताओं को भी भूल जाते हैं।” प्रधानमंत्री ने कहा कि जब यहां विधानसभा के चुनाव हुए थे तो कैसे एक दूसरे की धुर विरोधी समाजवादी पार्टी और कांग्रेस के बीच डील हुई थी। इस डील के बाद दोनों दलों के कार्यकर्ताओं को एक दूसरे के साथ चलने के लिए मजबूर कर दिया गया था।

उन्होंने कहा, ”जमीन पर काम करने वाले सपा-कांग्रेस के कार्यकर्ताओं से जबरदस्ती कहा गया कि हाथ मिलाओ, क्योंकि एयरकंडीशंड कमरों में बैठकर दो लड़कों ने हाथ मिला लिया था।” उन्होंने कहा, ”इसके दो साल के भीतर-भीतर ही समाजवादी पार्टी और कांग्रेस, अपनी डील तोड़ने के बाद कार्यकर्ताओं से कह रहे हैं कि अब हाथ नहीं, एक दूसरे की कॉलर पकड़ो।” मोदी ने कहा, ”सपा-बसपा और कांग्रेस के नेताओं ने अपने कार्यकर्ताओं को रिमोट कंट्रोल से चलने वाला खिलौना समझ लिया है … चाहे कार्यकर्ता अपमानित महसूस करे, चाहे उसका हौसला टूट जाए, इन्हें कोई फर्क नहीं पड़ता।”

उन्होंने कहा कि एक होता है ”लीडर”, जो समाज की खुशी के लिए सर्मिपत होता है, दूसरी तरफ होते हैं ”डीलर” जो सत्ता की अपनी कुर्सी के लिए डील करते हैं। मोदी ने कहा, ”सिर्फ अपने स्वार्थ की राजनीति करने वाले सपा-बसपा-कांग्रेस के डीलर उत्तर प्रदेश की समझदार जनता को गलत समझने की भूल कर रहे हैं।” उन्होंने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि इस चुनाव में नामदारों की पार्टी का उत्तर प्रदेश में क्या हाल हो गया है ये भी ध्यान रखिए। बांटने और तोड़ने की राजनीति करने वाली पार्टी, वोटकटवा बन गई है। नामदारों के अहंकार ने ही इतने वर्षों के शासन के बावजूद देश को इस हाल में बनाए रखा।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App