ताज़ा खबर
 

Delhi Election 2020: चुनाव ऐलान के बाद बढ़ गए बीजेपी के वोट शेयर, करीब एक महीने में 8 फीसदी का इजाफा

चुनाव आयोग के आंकड़े के मुताबिक 2015 के चुनाव में आम आदमी पार्टी को 54.30 फीसदी वोट शेयर थे, जबकि बीजेपी के पास केवल 32.30 फीसदी ही वोट आए।

Delhi Election 2020, DELHI election, delhi legislative election, bjp election, congress election, aap election, delhi election survey, delhi election analysis, delhi voting, delhi government, delhi election competition, hindi news, jansatta online, jansatta newsदिल्ली चुनाव में सत्ता संग्राम (फोटो- इंडिय़न एक्सप्रेस)

दिल्ली विधानसभा चुनाव के लिए मतदान में अब सिर्फ आठ दिन बचे हैं। ऐसे में सभी दल अपना मत प्रतिशत बढ़ाने में जोरशोर से जुटे हैं। पिछले विधान सभा चुनाव में आम आदमी पार्टी को 67 सीटें मिली थीं। वहीं बीजेपी को सिर्फ तीन सीटें ही मिली थीं। चुनाव आयोग के आंकड़े के मुताबिक 2015 के चुनाव में आम आदमी पार्टी को 54.30 फीसदी वोट शेयर थे, जबकि बीजेपी के पास केवल 32.30 फीसदी ही वोट आए।ताजे आंकड़े और सर्वे संकेत कर रहे हैं कि चुनाव ऐलान के बाद बीजेपी के वोट शेयर में 8 फीसदी का इजाफा हुआ है।

हालांकि अभी मतदान होने में हफ्ते भर का समय है, लेकिन सर्वे के मुताबिक बीजेपी के वोट शेयर में बदलाव दिख रहा है। दिल्ली विधानसभा के चुनाव में आम आदमी पार्टी के वोट शेयरों में पिछले दो दिन में एक फीसदी की कमी आई है, वहीं बीजेपी का वोट शेयर 31 से 34 फीसदी हो गया। बीजेपी के अलावा कांग्रेस भी मुख्य दल के रूप में शामिल है। लेकिन पिछले चुनाव में कांग्रेस को एक भी सीट नहीं मिल सकी थी। कांग्रेस का वोट शेयर 5 फीसदी पर ही स्थिर है। सूत्र बताते हैं कि मतदान से ठीक पहले बीजेपी जनता को अपने पक्ष में करने के लिए कोई न कोई रणनीति अपनाएगी। ओर अपने वोट प्रतिशत में इजाफा करेगी। चुनाव ऐलान के एक महीने के अंदर ही बीजेपी के वोट शेयर में आठ फीसदी का उछाल आया है।

इस बार के चुनाव में नागरिकता संशोधन कानून (CAA) और नागरिकों के लिए राष्ट्रीय रजिस्टर (NRC) बनाने के मुद्दे को लेकर देशव्यापी विरोध-प्रदर्शन को देखते हुए दिल्ली का चुनाव बीजेपी, आम आदमी पार्टी और कांग्रेस के लिए कड़ा मुकाबला साबित होगा। इसके पहले 2013 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को जहां 24.06 फीसदी वोट मिले थे, वहीं 2015 के चुनाव में उसे सिर्फ 9.07 फीसदी ही वोट मिल सके।

1993 के बाद से 2015 तक बीजेपी का वोट प्रतिशत थोड़े उछाल के साथ स्थिर रहा। 1998 में बीजेपी को 34.02 फीसदी वोट मिले, जबकि 2003 में 35.22, 2008 में 36.34, 2013 में 33 और 2015 में 32.3 फीसदी वोट मिले। ताजा सर्वे बताते हैं कि चुनाव ऐलान के बाद बीजेपी के मत प्रतिशत में आठ फीसदी का इजाफा हुआ है। यह इजाफा सीटें दिलाने में कितनी मदद करते हैं, यह तो 11 फरवरी को रिजल्ट आने के बाद ही पता चलेगा। फिलहाल आम आदमी पार्टी अपनी सीटें बरकरार रखने के लिए भरपुर कोशिश कर रही है। जबकि बीजेपी दिल्ली की सत्ता पर काबिज होने की जी तोड़ कोशिश कर रही है। कांग्रेस के पास खोने के लिए कुछ भी नहीं है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 ‘कमल का बटन दबाना, शाहीन बाग वाले करंट से ही उठकर चले जाएं’, चुनावी रैली में बोले अमित शाह
2 कपिल मिश्रा के ट्वीट पर EC की कार्रवाई, 48 घंटे के लिए किया बैन, नहीं कर पाएंगे चुनाव प्रचार
3 अपनी पार्टी के साथ डटे रहें BJP-कांग्रेस कार्यकर्ता, लेकिन वोट AAP को ही देना; CM केजरीवाल बोले
ये पढ़ा क्या?
X