ताज़ा खबर
 

Delhi Election: सभी दलों में परिवारवाद? कांग्रेस पहले नंबर पर, BJP-AAP भी नहीं पीछे

Delhi Election 2020: आजाद ने दिल्ली और जिला क्रिकेट संघ (डीडीसीए) में कथित अनियमितताओं का मुद्दा जोर-शोर से उठाया था जिसके प्रमुख तब पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली थे। प्रियंका सिंह आप की प्रमिला टोकस तथा भाजपा के अनिल शर्मा के खिलाफ आर के पुरम सीट से चुनाव मैदान में हैं।

Author नई दिल्ली | Updated: January 23, 2020 3:24 PM
दिल्ली विधानसभा चुनाव, प्रतीकात्मक तस्वीर (फोटो सोर्स- इंडियन एक्सप्रेस)

दिल्ली विधानसभा के अगले महीने होने वाले चुनाव में कई नेताओं के परिजन मैदान में उतरे हैं जिनमें उनकी पत्नियां, बेटियां, पुत्रवधू और बेटे तथा भाई शामिल हैं। कांग्रेस ने सबसे ज्यादा नेताओं के वंशजों को उतारा है। कालकाजी से कांग्रेस की उम्मीदवार शिवानी चोपड़ा दिल्ली प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सुभाष चोपड़ा की बेटी हैं, वहीं दिल्ली के पूर्व विधानसभा अध्यक्ष योगानंद शास्त्री की बेटी प्रियंका सिंह आर के पुरम सीट से किस्मत आजमा रही हैं। वहीं दिल्ली कांग्रेस के प्रचार समिति प्रमुख कीर्ति आजाद की पत्नी पूनम आजाद को संगम विहार से कांग्रेस ने अपना ने प्रत्याशी बनाया है। उनका मुकाबला आप विधायक दिनेश मोहनिया तथा जदयू के एस सी एल गुप्ता से होगा।

पूनम ने कांग्रेस छोड़ ‘आप’ का थामा था दावनः बता दें कि पूनम (53) ने 2003 के विधानसभा चुनाव में भाजपा के टिकट पर दिल्ली की तत्कालीन मुख्यमंत्री शीला दीक्षित के खिलाफ ताल ठोकी थी और हार गई थीं। नवंबर 2016 में उन्होंने भाजपा का साथ छोड़ दिया और पार्टी में अलग-थलग किए जाने का आरोप भी लगाया था। वह आप में शामिल हो गईं लेकिन पांच महीने बाद ही अप्रैल 2017 में उन्होंने कांग्रेस का दामन फिर से थाम लिया। गौरतलब है कि उनके ससुर और कीर्ति आजाद के पिता भगवत झा आजाद 1988-89 में बिहार के मुख्यमंत्री के पद को संभाला था। वह कांग्रेस से भी जुड़े हुए थे।

Hindi News Live Hindi Samachar 23 January 2020: देश की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

दिल्ली महिला कांग्रेस की उपाध्यक्ष भी रह चुकी है प्रियंका सिंहः पूनम के पति और बिहार की दरभंगा सीट से भाजपा के टिकट पर सांसद रहे कीर्ति आजाद को पार्टी ने 2015 में बर्खास्त कर दिया था। आजाद ने दिल्ली और जिला क्रिकेट संघ (डीडीसीए) में कथित अनियमितताओं का मुद्दा जोर-शोर से उठाया था जिसके प्रमुख तब पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली थे। प्रियंका सिंह आप की प्रमिला टोकस तथा भाजपा के अनिल शर्मा के खिलाफ आर के पुरम सीट से चुनाव मैदान में हैं। दिल्ली महिला कांग्रेस की उपाध्यक्ष सिंह (41) 2008 से राजनीति में सक्रिय हैं। पहले दो कार्यकाल में महरौली सीट से विधायक निर्वाचित हुए शास्त्री तीसरे कार्यकाल में मालवीय नगर से किस्मत आजमा रहे हैं।

ओ पी बब्बर के बेटे भी उतरे हैं मैदान मेंः भाजपा में भी राजनीतिक परिवारों की नई पीढ़ियां किस्मत आजमा रही हैं। तिलक नगर से पार्टी ने राजीव बब्बर को उतारा है। वह तीन बार विधायक चुने गए ओ पी बब्बर के बेटे हैं। ओ पी बब्बर तीन बार तिलक नगर सीट से विधायक रहे हैं। दिल्ली के पूर्व मुख्यमंत्री साहिब सिंह वर्मा के भाई आजाद सिंह मुंडका से भाजपा उम्मीदवार हैं। वह पश्चिम दिल्ली के लोकसभा सदस्य प्रवेश साहिब सिंह वर्मा के चाचा भी हैं।

‘आप’ से पूर्व मंत्री की पत्नी को मिला है मौकाः आम आदमी पार्टी ने दिल्ली के पूर्व मंत्री जितेंद्र सिंह तोमर की पत्नी प्रीति तोमर को अपना उम्मीदवार बनाया है। बता दें कि पहले जितेंद्र के नाम की घोषणा हुई थी लेकिन 2015 के विधानसभा चुनाव के लिए नामांकन दाखिल करने में शैक्षणिक योग्यता के संबंध में झूठी जानकारी देने पर दिल्ली उच्च न्यायालय ने उनके निर्वाचन को हाल ही में समाप्त कर दिया था जिसके बाद अंतिम मौके पर प्रीति की उम्मीदवारी की घोषणा की गई।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 BJP प्रत्याशी तेजिंदर बग्गा बोले- दिल्ली में सरकार बनते ही 24 घंटे के अंदर ‘भारत तेरे टुकड़े होंगे’ कहने वालों पर होगा एक्शन
2 दिल्ली चुनाव 2020: BJP ने जारी की उम्मीदवारों की दूसरी लिस्ट, हरि नगर सीट से लड़ेंगे तेजिंदर पाल बग्गा, देखें और किसे मिला मौका
3 Delhi Election 2020: विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस को झटका, टिकट बेचने का आरोप लगा वरिष्ठ नेता और पूर्व विधानसभा अध्यक्ष योगानंद शास्त्री ने दिया इस्तीफा
ये पढ़ा क्या?
X