ताज़ा खबर
 

एक जाएंगे तो दस उधर से आएंगे, कर्नाटक में कांग्रेसी विधायकों की खरीद-फरोख्त पर खड़गे का जवाबी हमला

खड़गे ने पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी को भारत रत्न दिए जाने पर खुशी जताई है। हालांकि, उन्होंने लिंगायत समाज के दिवंगत संत शिवकुमार स्वामीजी को भारत रत्न नहीं देने का मामला उठाते हुए कहा कि स्वामी जी ने शिक्षा और समाज सेवा खासकर अनाथों के लिए बहुत ही सराहनीय कार्य किया था।

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मल्लिकार्जुन खड़गे पीएम नरेंद्र मोदी से बात करते हुए।

लोकसभा में कांग्रेस के नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री मल्लिकार्जुन खड़गे ने कर्नाटक में जारी सियासी खींचतान पर भाजपा पर निशाना साधा है और आरोप लगाया है कि भाजपा, आरएसएस और केंद्र सरकार के लोग कर्नाटक में अभी भी कांग्रेस-जेडीएस सरकार को अस्थिर करने की कोशिश कर रही हैं। खड़गे ने कहा कि चूंकि लोक सभा के चुनाव सिर पर हैं, इसलिए भाजपा का ‘ऑपरेशन कमल’ अभी भी जारी है। उन्होंने कहा कि भाजपा ऐसा कर राज्य में राजनीतिक अस्थिरता लाकर गवर्नर रूल लगाना चाहती है ताकि उसे चुनावों में फायदा हो सके। उन्होंने कहा कि इससे पहले साल 2008 में भी बी एस येदुरप्पा द्वारा ऐसा ही किया गया था लेकिन उन्हें हार का सामना करना पड़ा था। इस बार भी वो ऐसा ही कर रहे हैं और उन्हें इस बार भी मुंह की खानी पड़ेगी।

खड़गे ने कांग्रेस विधायकों की खरीद-फरोख्त के सवाल पर दो टूक कहा, “वो चाहे सरकार गिराने की जितनी कोशिश कर लें, सफल नहीं होंगे। अगर हमारे एक विधायक उधर जाएंगे तो 10 उधर से आएंगे।” कांग्रेस नेता ने कहा कि यह भाजपा की सोची समझी चाल है। उन्होंने आरोप लगाया कि हमारे कुछ नेताओं को पैसे का लालच दिया जा रहा है तो कुछ को पद का लालच दिया जा रहा है। कुछ को तो डराया-धमकाया भी जा रहा है। बता दें कि पिछले कुछ दिनों से कर्नाटक में कई कांग्रेस विधायकों के पाला बदलने की खबरें आती रही हैं। पार्टी की बैठक से भी चार विधायक गायब रहे थे। कांग्रेस इसके पीछे भाजपा का हाथ बता रही है।

खड़गे ने पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी को भारत रत्न दिए जाने पर खुशी जताई है। हालांकि, उन्होंने लिंगायत समाज के दिवंगत संत शिवकुमार स्वामीजी को भारत रत्न नहीं देने का मामला उठाते हुए कहा कि स्वामी जी ने शिक्षा और समाज सेवा खासकर अनाथों के लिए बहुत ही सराहनीय कार्य किया था। अगर सरकार ने उन्हें भी मरणोपरांत भारत रत्न दिया होता तो बेहतर होता क्योंकि लोगों को इसकी उम्मीद थी। उन्होंने कहा कि अगर भाजपा सरकार भूपेन हजारिका और नानाजी देशमुख के कार्यों से संत शिवकुमार स्वामीजी की तुलना करती तो वो सबों पर भारी पड़ते।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App