ताज़ा खबर
 

Congress-JDS Alliance in Karnataka: प्रियंका की सलाह पर राहुल ने जेडीएस को दिया मुख्‍यमंत्री पद, कांग्रेस अध्‍यक्ष पहले खारिज कर चुके थे प्रस्‍ताव

Congress-JDS Alliance, Karnataka Election Results 2018: कांग्रेस अध्‍यक्ष राहुल गांधी ने जेडीएस के साथ चुनाव पूर्व गठजोड़ करने से इनकार कर दिया था। उन्‍होंने एचडी. देवेगौड़ा की पार्टी को भाजपा की 'बी टीम' तक करार दिया था। मतगणना के बाद प्रियंका गांधी वाड्रा की सलाह पर राहुल जेडीएस के साथ चुनाव बाद गठबंधन करने के लिए तैयार हुए थे।

Congress-JDS Alliance in Karnataka: प्रियंका गांधी अपने भाई से मुस्कुराकर बात करते हुए।

कर्नाटक विधानसभा चुनाव में भाजपा, कांग्रेस और जनता दल सेक्‍युलर (जेडीएस) में से किसी को भी पूर्ण बहुमत नहीं मिला है। भाजपा 104 सीटों के साथ सबसे बड़ी पार्टी के तौर पर उभरी है। वहीं, कांग्रेस को 78 और जेडीएस को 38 सीटें मिली हैं। मंगलवार (15 मई) को मतगणना के बाद कांग्रेस ने अचानक से जेडीएस का सहयोग करने और एचडी. कुमारास्‍वामी को मुख्‍यमंत्री बनाने का प्रस्‍ताव रख कर नया राजनीतिक समीकरण गढ़ डाला था। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, कर्नाटक में नए गठजोड़ में कांग्रेस अध्‍यक्ष राहुल गांधी की बहन प्रियंका गांधी वाड्रा ने महत्‍वपूर्ण भूमिका निभाई थी। ‘डीएनए’ की रिपोर्ट को मानें तो प्रियंका की सलाह पर राहुल ने जेडीएस को मुख्‍यमंत्री का पद देने पर सहमत हुए थे। इससे पहले कांग्रेस प्रमुख ने पूर्व प्रधानमंत्री एचडी. देवेगौड़ा की पार्टी के साथ चुनाव पूर्व गठबंधन करने के प्रस्‍ताव को खारिज कर दिया था। राहुल ने फरवरी में जेडीएस पर हमला बोलते हुए उसे भाजपा की ‘बी टीम’ करार दिया था। कुमारास्‍वामी को सीएम बनाने के मसले पर सहमति के बाद जेडीएस और कांग्रेस की गठबंधन सरकार को मूर्त रूप देने की कवायद शुरू हो गई थी। कुमारास्‍वामी कांग्रेस नेताओं के साथ राजभवन जाकर राज्‍यपाल से मुलाकात कर सरकार बनाने का दावा पेश किया था। हालांक‍ि, उनसे पहले भाजपा के वरिष्‍ठ नेता येदियुरप्‍पा ने राज्‍यपाल से मिलकर सरकार बनाने का दावा पेश कर चुके थे। त्रिशंकु विधानसभा होने के कारण कर्नाटक में सरकार बनाने को लेकर रस्‍साकसी जारी है।

सोनिया गांधी के फोन कॉल ने बदली तस्‍वीर: मतगणना के बाद कर्नाटक के सभी प्रमुख दल नए राजनीतिक समीकरण साधने की कोशिश में जुट गए थे। इस बीच यूपीए प्रमुख सोनिया गांधी ने विशेष तौर पर कर्नाटक भेजे गए कांग्रेस के वरिष्‍ठ नेता गुलाम नबी आजाद से फोन पर बात की और इसके बाद नए राजनीतिक गठजोड़ कोशिशें शुरू हो गई थीं। सोनिया गांधी से बात करने के बाद आजाद ने जेडीएस नेता एचडी. देवेगौड़ा और उनके बेटे एचडी. कुमारास्‍वामी से बात की। दोनों दलों के वरिष्‍ठ नेताओं के बीच वार्ता के दौरान कुमारास्‍वामी को मुख्‍यमंत्री बनाने पर सहमति बन गई थी। बताया जाता है कि इसके बाद सरकार बनाने की कवायद भी शुरू कर दी गई थी।

Follow Jansatta Coverage on Karnataka Assembly Election Results 2018. For live coverage, live expert analysis and real-time interactive map, log on to Jansatta.com

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App