ताज़ा खबर
 

Rajasthan Elections: 28 बागी नेताओं को कांग्रेस ने दिखाया बाहर का रास्ता

राजस्थान में कांग्रेस ने 28 बागी नेताओं को पार्टी से बाहर का रास्ता दिखा दिया है। बता दें पार्टी ने सभी नेताओं को 6 साल के लिए कांग्रेस से निष्कासित किया है।

Author November 26, 2018 11:10 AM
सचिन पायलट

राजस्थान में कांग्रेस ने 28 बागी नेताओं को पार्टी से बाहर का रास्ता दिखा दिया है। बता दें पार्टी ने सभी नेताओं को 6 साल के लिए कांग्रेस से निष्कासित किया है। राजस्थान प्रदेश प्रभारी अविनाश पांडे की सहमति से सचिन पायलट ने सभी बागी नेताओं को निष्कासित करने के निर्देश दिए।

कौन- कौन हुआ बाहर
गंगानगर से राजकुमार गौड़, सादुलशहर से ओम बिश्नोई,रतनगढ़ से पूसाराम गोदारा, कठूमर एससी से रमेश खींची, जैतारण से राजेश कुमावत, रायसिंहनगर से सोहन नायक, तारानगर से सी एस वैद्य, करणपुर से प्रतिपाल सिंह संधू, सुजानगढ़ से संतोष मेघवाल, मीणा, किशनगढ़ से नाथूराम सिनोदिया, नीमकाथाना से रमेश चंद्र खंडेलवाल, शाहपुरा से आलोक बेनीवाल, दूदू से बाबूलाल नागर, बस्सी से लक्ष्मण मीणा, महुआ से अजीत सिंह महुआ, गंगापुरसिटी से रामकेश मीणा, मारवाड़ जंक्शन से खुशबीर सिंह, जैसलमेर से सुनीता भाटी, किशनगढ़बास से दीपचंद खैरिया, खंडेला से महादेव सिंह खंडेला, बामनवास से नवल किशोर, लाडनूं से जगन्नाथ, पाली से भीमराज भाटी, आहोर से जगदीश चौधरी, सिरोही से संयम लोढ़ा, सलूंबर से रेशमा मीणा, शाहपुरा एससी से गोपाल केसावत को निष्काषित किया गया है।

अशोक गहलोत का दावा
कांग्रेस के महासचिव अशोक गहलोत का दावा है कि मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ औऱ राजस्थान में कांग्रेस की ही सरकार बनेगी। साथ ही 2019 में राहुल गांधी बनेंगे देश के प्रधानमंत्री। पत्रकारों से खास बातचीत में गहलोत ने कहा कि देश में महागठबंधन की तैयारी राजस्थान से शुरू कर दी गई है और आने वाले लोकसभा चुनाव में महागठबंधन सरकार बनाएगा। उन्होंने कहा कि देश में जब – जब चुनाव आते हैं तब तब भाजपा को राम या आते हैं, जबकि अब ये मुद्दा हिंदुओं की आस्था का न होकर भाजपा का राजनीतिक सा बन गया है।

देश के नहीं भाजपा का पीएम
गहलोत ने पीएम मोदी पर हमला करते हुए कहा कि वो देश के प्रधानमंत्री कम और भाजपा का पीएम ज्यादा हो गए हैं। उन्हें देश से ज्यादा पार्टी की फिक्र है। इसलिए वो भाजपा का बचाव कर दूसरों पर लांछन लगाते हैं। भाजपा के पास किसी भी सवाल का सटीक जवाब नहीं है। राफेल के मामले में भी अभी तक कुछ एक दम साफ नहीं हुआ है।

 

जल्द होगा फैसला
गौरतलब है कि प्रदेश में 200 सीटों के लिए 7 दिसंबर को मतदान किया जाएगा। ऐसे में प्रदेश की सियासत गरमाई हुई है। आरोप- प्रत्यारोपों के साथ वार-पलटवार का जोरदार सिलसिला जारी है। बता दें 11 दिसंबर को विधानसभा के नतीजे सभी के सामने होंगे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App