ताज़ा खबर
 

बस्तरः मतदान के लिए सुरक्षा बलों ने कसी कमर, तैनात होंगी 500 पैरा मिलिट्री फोर्स

छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव शांतिपूर्ण ढंग से कराने के लिए अंदरूनी इलाकों में पांच सौ पैरा मिलिट्री फोर्स की तैनाती की जाएगी। इसके साथ ही एक एयर एंबुलेंस और चार हेलीकाप्टर अलग से तैनात किए जाएंगे।

Author November 8, 2018 5:52 PM
तस्वीर का इस्तेमाल केवल प्रतीकात्मक रूप से किया गया है। (फाइल फोटो)

छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव शांतिपूर्ण ढंग से कराने के लिए अंदरूनी इलाकों में पांच सौ पैरा मिलिट्री  फोर्स की तैनाती की जाएगी। बस्तर रेंज के पुलिस महानिरीक्षक विवेकानंद सिन्हा ने बताया कि वर्तमान में 150 से अधिक पैरामिलिट्री  कंपनियों को तैनात किया गया है। विवेकानंद सिन्हा ने कहा कि, इसके साथ ही एक एयर एंबुलेंस और चार हेलीकाप्टर अलग से तैनात किए जाएंगे, ताकि हवाई सुरक्षा से निगरानी रखी जा सके। एयर एंबुलेंस जगदलपुर हवाई अड्डे पर तैनात रहेगी जिससे जवानों को त्वरित उपचार के लिए मदद मिलेगी। उन्होंने कहा कि नक्सलियों की गतिविधियों पर नजर रखने के लिए मानव रहित ड्रोन से नजर रखी जा रही है।

बस्तर संभाग के 12 विधानसभा क्षेत्र में 12 नवंबर को होने जा रहे पहले चरण के मतदान को लेकर बस्तर पुलिस ने संवेदनशील, अति संवेदनशील क्षेत्रों में पिछले दो हफ्तों से सघन सर्च ऑपरेशन तेज कर रखा है। जमीन से लेकर आसमान से नक्सली प्रभावित इलाके में निगरानी की जा रही है ताकि शांतिपूर्वक चुनाव हो सके।

भारतीय तिब्बत सीमा पुलिस बल (आईटीबीपी), केन्द्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (सीआईएसएफ) और सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) के जवानों की टुकड़ियां बस्तर पहुंच चुकी हैं। बारूदी सुरंग के खतरे को देखते हुऐ प्रशिक्षित खोजी कुत्ते, अत्याधुनिक बम डिटेक्टर सिस्टम के साथ जवानों की ड्यूटी लगा दी गई है। इन जवानों ने संवेदनशील अतिसंवेदनशील इलाकों, मतदान केंद्रों के आसपास काम भी शुरू कर दिया है।

आईजी सिन्हा ने बताया कि पहली बार जवानों को सैटेलाइट ट्रैकर दिया जाएगा, जिसे संभाग मुख्यालय से जोड़ा जाएगा और इससे जवानों की गतिविधियों का पता चलेगा। इसके साथ ही बड़े पैमाने पर ड्रोन का उपयोग किया जा रहा है। सभी संवेदनशील विधानसभा में 20 से 25 ड्रोन से निगरानी रखी जा रही है। उन्होंने बताया कि, पहली बार हर गांव को नेटवर्क प्रोफाइल से जोड़ा जा रहा है और ग्रामीण क्षेत्र में रहने वाले गांव प्रमुखों से सीधी बात की जाएगी। उन्होंने बताया कि संभाग में 2,859 मतदान केंद्र है, जिसमें 1190 अत्यंत संवेदनशील और 992 मतदान केंद्र नक्सली संवेदनशील हैं। कर्मचारियों को मतदान केंद्र तक पहुंचाने के लिए हेलिकाप्टर का उपयोग किया जाएगा। संभाग के 187 मतदान केंद्र ऐसे हैं, जो अन्यत्र स्थानांत्रण करने का प्रस्ताव चुनाव आयोग को भेजा गया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App