ताज़ा खबर
 

एमपी में निर्दलीय उम्‍मीदवार की प्रतिज्ञा: जब तक विधायक नहीं बनता, शादी नहीं करूंगा

छिंदवाड़ा के जुनारदेव से निर्दलीय प्रत्याशी दिनेश ने प्रण लिया है कि वह चुनाव जीतने के बाद ही शादी करेंगे, वर्ना आजीवन कुंवारा रहेंगे। दिनेश ने इसके अलावा विधानसभा क्षेत्र में विकास संबंधी मुद्दों का भी जिक्र किया है। मगर इलाके में चर्चा उनकी प्रतिज्ञा की है।

Author November 25, 2018 3:09 PM
मध्य प्रदेश में विधानसभा चुनाव- (फोटो सोर्स- एक्सप्रेस आर्काइव)

मध्य प्रदेश के विधानसभा चुनाव में उम्मीदवार अपने बयानों और मुद्दों से जनता का दिल जीतने की जीतोड़ कोशिश कर रहे हैं। इनमें कुछ ऐसे भी प्रत्याशी हैं जो ना सिर्फ वादों बल्कि अपनी प्रतिज्ञाओं से भी सुर्खियां बटोर रहे हैं। ऐसा ही एक निर्दलीय उम्मीदवार छिंदवाड़ा में चर्चा का विषय है। इस उम्मीदवार ने ऐलान कर दिया है कि अगर वह विधायक नहीं बना, तो शादी भी नहीं करेगा। न्यूज़ चैनल आज तक के मुताबिक छिंदवाड़ा के जुनारदेव से निर्दलीय प्रत्याशी दिनेश ने प्रण लिया है कि वह चुनाव जीतने के बाद ही शादी करेंगे, वर्ना आजीवन कुंवारा रहेंगे। दिनेश ने इसके अलावा विधानसभा क्षेत्र में विकास संबंधी मुद्दों का भी जिक्र किया है। मगर इलाके में चर्चा उनकी प्रतिज्ञा की है।

निर्दलीय प्रत्याशी दिनेश घूम-घूमकर लोगों से वोट की अपील कर रहे हैं और अपने प्रण का हवाला दे रहे हैं। उनकी इस कोशिश में मतदाता चुटकी लेकर चर्चा जरूर कर रहे हैं। लोगों का कहना है कि चुनाव में कई प्रत्याशी हैं, लेकिन दिनेश का प्रण हर जगह सुर्खियों में है। वहीं, दिनेश का कहना है कि वह अपने फैसले पर अडिग हैं और अगर चुनाव हार गए तो शादी नहीं करेंगे। इसके अलावा वह क्षेत्र के विकास के लिए भी अपना पूरा-दमखम लगाने का वादा कर रहे हैं।

मध्य प्रदेश में 230 विधानसभा सीटों के लिए 28 नवंबर को मतदान होंगे। मतदान को देखते हुए तमाम प्रत्याशियों ने अपना पूरा दमखम झोंक दिया है। वर्तमान विधानसभा में 230 सीटों में से बीजेपी के पास 165 सीटें हैं जबकि मुख्य विपक्षी पार्टी कांग्रेस के पास 57 सीटें हैं। वहीं, बीएसपी के पास 4 और 3 सीटें निर्दलीय उम्मीदवारों के खाते में हैं। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक इस बार बीजेपी और कांग्रेस में कांटे की टक्कर देखी जा रही है। वहीं, बीएसपी समेत क्षेत्रीय दल बुंदेलखंड समेत कई क्षेत्रों में अहम भूमिका में हैं। हालांकि, इस बार देखना होगा कि कितने निर्दलीय उम्मीदवार अपना वजूद बना पाते हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

X