ताज़ा खबर
 

बीएस येदियुरप्‍पा ने लिखी चुनाव आयोग को चिट्ठी, कनार्टक चुनाव में बहुत घपला हुआ है

कर्नाटक के मुख्य निर्वाचन अधिकारी संजीव कुमार ने सोमवार(21 मई) को यह स्पष्ट कर दिया था कि मनागुली गांव से जो 8 बक्से मिले हैं वो चुनाव आयोग के नहीं हैं। उन्होंने कहा था कि जो 8 VVPAT बक्से मिले हैं, वो मशीन या कागज के बिना मिले हैं और किसी पर भी यूनिक इलेक्ट्रॉनिक ट्रैकिंग नंबर नहीं है।

बीएस येदियुरप्पा (एक्सप्रेस आर्काइव फोटो)

कर्नाटक में महज 55 घंटे तक मुख्यमंत्री पद पर बने रहने के बाद इस्तीफा देने वाले बीजेपी के वरिष्ठ नेता बीएस येदियुरप्पा ने हाल ही में हुए विधानसभा चुनाव में बहुत ज्यादा घपला होने की बात कही है। उन्होंने चुनाव आयोग को चिट्ठी लिखकर इस बात का दावा किया है। अपनी चिट्ठी में येदियुरप्पा ने लिखा, ‘मैं यह पूरे विश्वास के साथ कह सकता हूं कि चुनाव के बाद विजयापुर जिले के मनागुली गांव में मजदूर के घर पर मिले 8 VVPAT बॉक्स वाले मामले को आयोग ने गंभीरता से लिया होगा। इस तरह से VVPAT का मिलना इस बात की तरफ इशारा करता है कि विधानसभा चुनाव के दौरान बहुत घपला हुआ होगा।’

येदियुरप्पा ने आगे कहा, ‘ऐसा नहीं है कि इस तरह की गड़बड़ी को पहली बार चुनाव आयोग के सामने या राज्य में चुनाव कराने वाले अधिकारियों के सामने रखा जा रहा है, बल्कि बीजेपी ने चुनाव होने से पहले भी आयोग के सामने गड़बड़ी के मामले को उठाया था, लेकिन सब व्यर्थ ही गया।’

आपको बता दें कि कर्नाटक में चुनाव के एक हफ्ते बाद विजयापुर में 18 मई को मजदूर के घर से बिना बैटरी वाले 8 VVPAT पाए गए थे। इसी मामले को लेकर येदियुरप्पा ने आयोग को चिट्ठी लिखी है और चुनाव के दौरान घपला होने की आशंका जताई है। हालांकि कर्नाटक के मुख्य निर्वाचन अधिकारी संजीव कुमार ने सोमवार(21 मई) को यह स्पष्ट कर दिया था कि मनागुली गांव से जो 8 बक्से मिले हैं वो चुनाव आयोग के नहीं हैं। उन्होंने कहा था कि जो 8 VVPAT बक्से मिले हैं, वो मशीन या कागज के बिना मिले हैं और किसी पर भी यूनिक इलेक्ट्रॉनिक ट्रैकिंग नंबर नहीं है। उन्होंने स्पष्ट किया कि केवल बक्से मिले हैं कोई मशीन नहीं मिली है। इसके अलावा यह भी कहा है कि इस तरह का भ्रम पैदा करने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। कर्नाटक में हाल ही में चुनाव संपन्न हुए हैं। चुनाव में बीजेपी 104 सीट हासिल करके सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी थी, लेकिन बहुमत नहीं होने के कारण बीएस येदियुरप्पा को मुख्यमंत्री बनने के महज 55 घंटों के बाद ही इस्तीफा देना पड़ गया। 24 मई को जेडीएस और कांग्रेस मिलकर राज्य में सरकार बनाएंगे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App