ताज़ा खबर
 

बंगाल में अब 10 से 12 दिन की रथ यात्रा निकालना चाहती है बीजेपी, बनाया यह प्लान

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) राज्य में आगामी 20 जनवरी से रैलियों की एक श्रृंखला की शुरूआत करेगी और इन रैलियों को पार्टी अध्यक्ष अमित शाह संबोधित करेंगे।

Author Updated: January 17, 2019 10:03 AM
बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) राज्य में आगामी 20 जनवरी से रैलियों की एक श्रृंखला की शुरूआत करेगी और इन रैलियों को पार्टी अध्यक्ष अमित शाह संबोधित करेंगे। पार्टी की पश्चिम बंगाल इकाई के अध्यक्ष दिलीप घोष ने यह जानकारी देते हुए बताया कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के यहां ब्रिगेड परेड मैदान में होने वाली एक रैली में शामिल होने की संभावना है। उच्चतम न्यायालय ने राज्य सरकार को भगवा पार्टी को सार्वजनिक रैलियां और बैठकें करने की इजाजत देने के लिए कहा था। भाजपा की प्रस्तावित रैलियों से एक दिन पहले 19 जनवरी को पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी कोलकाता के ब्रिगेड परेड मैदान में एक रैली आयोजित करेगी जिसमें शामिल होने के लिए देशभर के विपक्षी नेताओं को आमंत्रित किया गया है।

घोष ने कहा, ‘‘हम 20 जनवरी से सार्वजनिक रैलियां आयोजित करना शुरू करेंगे। अमित शाह 20 जनवरी को माल्दा में पहली रैली को संबोधित करेंगे।’’ उन्होंने बताया कि 21 जनवरी को शाह बीरभूम जिले के सूरी और झारग्राम में दो रैलियों को संबोधित करेंगे। अगले दिन वह 22 जनवरी को नादिया जिले के कृष्णानगर और दक्षिण 24 परगना जिले के जयनगर में रैलियों को संबोधित करेंगे। राज्य के विभिन्न हिस्सों में ये रैलियां फरवरी के पहले सप्ताह तक जारी रहेगी।
घोष ने कहा कि मोदी की रैलियों के बारे में अभी कोई अंतिम निर्णय नहीं हुआ है। ‘‘हमने पीएमओ (प्रधानमंत्री कार्यालय) को कार्यक्रम भेजा है और मंजूरी का इंतजार किया जा रहा है। हमें उम्मीद है कि प्रधानमंत्री आठ फरवरी को होने वाली रैली में शामिल होंगे। हमारे एक महीने तक चलने वाले कार्यक्रम के दौरान कुछ सार्वजनिक रैलियों के लिए प्रधानमंत्री मोदी को लाये जाने की योजना है।’’ पार्टी के एक वरिष्ठ नेता ने बुधवार को बताया कि भाजपा की पश्चिम बंगाल इकाई ने राज्य सरकार से चार चरणों में 10 से 12 दिन तक ‘रथ यात्रा’ निकालने की अनुमति मांगने का निर्णय लिया है।

भाजपा के प्रदेश उपाध्यक्ष जय प्रकाश मजूमदार ने कहा, ‘‘हमने चार चरणों की रथ यात्रा का 10 से 12 दिन का नया कार्यक्रम राज्य सरकार को सौंपने का फैसला किया है। देखते हैं कि सरकार हमें अनुमति देती है या नहीं।’’ प्रस्ताव के अनुसार चार रथ, चार स्थानों से यात्रा शुरू करेंगे। इनमें कूचबिहार, काकद्वीप (दक्षिण 24 परगना), कृष्णनगर (नदिया) और बीरभूम हैं। हालांकि भाजपा के प्रदेश नेतृत्व ने यात्रा की सही तारीख नहीं बताई।  एक अन्य वरिष्ठ भाजपा नेता ने कहा, ‘‘पहले हमारा प्रस्ताव 40 दिन की यात्रा निकालने का था। राज्य सरकार ने हमें अनुमति नहीं दी। फिर हमने 20 दिन का कार्यक्रम सौंपा, जिसके लिए भी स्वीकृति नहीं दी गयी। इसलिए अब हम 10 से 12 दिन लंबी यात्रा का कार्यक्रम देंगे।’’ शाह ने राज्य की 42 लोकसभा सीटों में से 22 सीटें जीतने का लक्ष्य रखा है।

पिछले कुछ वर्षों में पार्टी राज्य में मुख्य विपक्ष के रूप में उभरकर सामने आई है। भाजपा ने राष्ट्रीय चुनावों में अपनी संभावनाओं को बढ़ाने के लिए ‘‘रथ यात्रा’’ की योजना बनाई थी जो राज्य के सभी लोकसभा क्षेत्रों से होकर गुजरने वाली थी। हालांकि राज्य सरकार ने इसकी अनुमति नहीं दी और तब से यह मामला कानूनी पचड़ों में फंसा हुआ है। उच्चतम न्यायालय ने मंगलवार को पश्चिम बंगाल में भाजपा की प्रस्तावित ‘‘रथ यात्रा’’ पर अस्थायी रोक लगा दी थी और पार्टी से कहा था कि वह राज्य की ममता बनर्जी सरकार के समक्ष पुनरीक्षित प्रस्ताव देकर नए सिरे से मंजूरी मांगे। न्यायालय ने कहा था कि कानून-व्यवस्था से जुड़ी राज्य सरकार की आशंकाएं ‘‘पूरी तरह निराधार नहीं’’ हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 मुझे स्वाइन फ्लू हुआ, इलाज जारी, एम्स में भर्ती अमित शाह ने दी जानकारी
2 पूर्व सीएम और मौजूदा सीएम के बेटे पका रहे सियासी खिचड़ी, दो घंटे की गुप्त मीटिंग
3 ममता बनर्जी को सोनिया-राहुल का बड़ा झटका, महारैली से किया किनारा, दूत बनकर जाएंगे खड़गे