ताज़ा खबर
 

2019 का चुनाव लड़ेंगे भाजपा के दिग्गज नेता लालकृष्ण आडवाणी और मुरली मनोहर जोशी, बेटी के लिए सीट छोड़ने से आडवाणी का इनकार

91 साल के हो चुके लालकृष्ण आडवाणी अपने संसदीय क्षेत्र गांधीनगर से फिलहाल संन्यास के मूड में नहीं हैं। बीजेपी आडवाणी के अलावा अपने दिग्गज नेता मुरली मनोहर जोशी (84), शांता कुमार (85), कलराज मिश्र (77) और भगत सिंह कोश्यारी (77) को भी चुनाव मैदान में उतारने पर विचार कर रही है।

बीजेपी के वरिष्ठ नेता लाल कृष्ण आडवाणी 2019 लोकसभा चुनाव गांधीनगर से लड़ सकते हैं। (फाइल फोटो क्रेडिट/PTI)

2019 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी अपने दो वरिष्ठ चेहरों लालकृष्ण आडवाणी और मुरली मनोहर जोशी को मैदान में उतार सकती है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक आडवाणी और जोशी को चुनाव लड़ाने की हरी झंडी भी मिल चुकी है। टाइम्स नाऊ के मुताबिक इन दिग्गजों के चुनाव लड़ने पर फाइनल मुहर पार्टी के सेंट्रल इलेक्शन कमेटी की बैठक में लिया जाएगा। जानकारी के मुताबिक यह बैठक मार्च के पहले सप्ताह में लोकसभा चुनाव की तारीखों के ऐलान के बाद संभव है।

टाइम्स नाऊ ने सूत्रों के हवाले से बताया है कि 91 साल के हो चुके लालकृष्ण आडवाणी अपने संसदीय क्षेत्र गांधी नगर से फिलहाल संन्यास के मूड में नहीं हैं। इस सीट से उनकी बेटी प्रतिभा आडवाणी को चुनाव लड़ाने की बात चल रही थी, लेकिन परिवारवाद के मुखालिफ आडवाणी ने इस पार्टी के इस प्रस्ताव को ठुकरा दिया है और खुद ही चुनाव लड़ने की इच्छा जाहिर की है। आडवाणी इस वक्त सबसे उम्रदराज लोकसभा सदस्य हैं। वह गांधीनगर संसदीय सीट का प्रतिनिधित्व 1991 से कर रहे हैं।

गौरतलब है कि 2017 गुजरात विधानसभा चुनाव के दौरान बीजेपी को कांग्रेस से कड़ी टक्कर मिली थी और बीजेपी को 182 सीटों में 99 सीट हासिल हुई। इस दौरान पार्टी का मोरबी, अमरेली और गीर सोमनाथ में खाता भी नहीं खुल पाया। लेकिन, गांधीनगर में बीजेपी ने 7 में से 5 विधानसभा सीटों पर जीत हासिल करने में कामयाब रही। माना जा रहा है कि यदि आडवाणी चुनाव लड़ते हैं तो वह जनता दल ते राम सुंदर दास के बाद सबसे ज्यादा उम्र में लोकसभा चुनाव लड़ने वाले सांसद बन सकते हैं। राम सुंदर दास ने 88 की उम्र में बिहार के हाजीपुर लोकसभा सीट से चुनाव लड़ा था।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक बीजेपी लालकृष्ण आडवाणी के अलावा अपने दिग्गज नेता मुरली मनोहर जोशी (84), शांता कुमार (85), कलराज मिश्र (77) और भगत सिंह कोश्यारी (77) को भी चुनाव मैदान में उतारने पर विचार कर रही है। जोशी ने 2014 लोकसभा चुनाव कानपुर से जीता था। वह 1991 और 1993 के बीच भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष रहे और इलाहाबाद तथा वाराणसी से सांसद भी रह चुके हैं। पिछली बार वाराणसी से नरेंद्र मोदी के चुनाव लड़ने की वजह से उन्होंने कानपुर से नामांकन दाखिल किया था और जीत हासिल की थी।

Next Stories
1 बीजेपी से नाराज चल रहे योगी सरकार के मंत्री ओम प्रकाश राजभर छोड़ सकते हैं विभाग
2 VIDEO: मंच पर महिला ने राहुल गांधी को किया किस
3 मायावती का बड़ा बयानः कांग्रेस-बीजेपी में कोई अंतर नहीं, अल्पसंख्यकों पर कर रहे बर्बर कार्रवाई
ये पढ़ा क्या?
X