ताज़ा खबर
 

प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष पर मुसलमानों पर अभद्र टिप्पणी करने का आरोप, विपक्ष का हंगामा

पिल्लई ने कथित तौर पर कहा कि 'राहुल गांधी, सीताराम येचुरी और पिनाराई विजयन बालाकोट एअर स्ट्राइक में मारे गए आतंकियों का धर्म और जाति पूछना चाहते हैं।

केरल में भाजपा प्रदेश अध्यक्ष पीएस श्रीधरन पिल्लई।

केरल भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष पीएस श्रीधरन पिल्लई ने हाल ही में चुनाव प्रचार के दौरान मुस्लिमों को लेकर ऐसी टिप्पणी की कि केरल में राजनैतिक तौर पर हंगामा हो गया है।कांग्रेस पार्टी ने भाजपा प्रदेश अध्यक्ष के बयान से गहरी नाराजगी जाहिर की है और भाजपा नेता से बयान को लेकर तुरंत माफी मांगने की मांग की है। कांग्रेस ने माफी नहीं मांगने की सूरत में एफआईआर दर्ज कराने की धमकी भी दी है। वहीं वामपंथी पार्टी ने तो इस मामले में भाजपा प्रदेश अध्यक्ष के खिलाफ पुलिस में शिकायत दर्ज करवा भी दी है। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष को अपने बयान को लेकर चौतरफा विरोध और आलोचना झेलनी पड़ रही है।

अंग्रेजी अखबार द टेलीग्राफ की एक खबर के अनुसार, पीएस श्रीधरन पिल्लई केरल की अत्तिंगल लोकसभा सीट से भाजपा उम्मीदवार शोभा सुरेन्द्रन के पक्ष में रविवार को एक रैली को संबोधित करने गए थे। इस दौरान भाजपा प्रदेश अध्यक्ष ने बालाकोट एअर स्ट्राइक के सबूत मांगने को लेकर सीपीएम और कांग्रेस पर जमकर निशाना साधा। पिल्लई ने कथित तौर पर कहा कि ‘राहुल गांधी, सीताराम येचुरी और पिनाराई विजयन बालाकोट एअर स्ट्राइक में मारे गए आतंकियों का धर्म और जाति पूछना चाहते हैं। मुस्लिमों की कुछ पहचान होती हैं, लेकिन इसे देखने के लिए उनके कपड़े उतारने पड़ेंगे।’ पिल्लई पर आरोप लगाया जा रहा है कि उन्होंने मुस्लिमों की एक धार्मिक परंपरा के बारे में उक्त बयान दिया है।

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष के इस बयान से नाराजगी जाहिर करते हुए सीपीएम के राज्य सचिव कोडियारी बालकृष्णन ने कहा कि यह अत्यंत ही घृणित, सांप्रदायिक प्रचार का हिस्सा है। सीपीएम और कांग्रेस का आरोप है कि पिल्लई ने अपने इस बयान से मुस्लिम समुदाय की भावनाएं आहत की हैं। वहीं केरल सरकार में यूडीएफ की सहयोगी पार्टी इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग के नेता पीके कुनालिकुट्टी ने कहा कि भाजपा को यह समझने की जरुरत है कि यहां केरल में ‘योगी मॉडल’ नहीं चलेगा।

बता दें कि पुलवामा हमले के बाद भारतीय वायुसेना ने पाकिस्तान की सीमा में घुसकर जैश एक आतंकी ठिकानों पर भारी बमबारी की थी। इस बमबारी में कई आतंकियों के मारे जाने का दावा किया जा रहा है। वहीं विपक्षी पार्टियां इस मुद्दे पर सरकार से सबूत मांग रही हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App