ताज़ा खबर
 

2019 में गठबंधन सरकार बनी तो देश को हर दिन मिलेगा नया PM, रविवार को रहेगी छुट्टी: अमित शाह

गठबंधन को लेकर बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने करारा तंज कसते हुए कहा कि यदि ऐसी सरकार बनी तो हर दिन का अलग प्रधानमंत्री होगा।

बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह (फोटो सोर्स: एक्सप्रेस आर्काइव)

उत्तर प्रदेश के कानपुर में भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने गठबंधन पर बड़ा तंज कसा। उन्होंने कहा कि यदि लोकसभा चुनाव के बाद गठबंधन सरकार बनी तो हफ्ते के हर दिन के लिए अलग-अलग प्रधानमंत्री होंगे। उल्लेखनीय है कि इससे पहले शाह ने कोलकाता के ब्रिगेड ग्राउंड में हुई विपक्ष के नेताओं की एकजुटता वाली तस्वीर पर भी चुटकी ली थी।

शाह बोले- रविवार को देश छुट्टी पर जाएगाः अमित शाह ने कहा, ‘यदि गठबंधन की सरकार बनती है तो सोमवार को बहनजी (मायावती) प्रधानमंत्री होंगी। इसी तरह मंगलवार को अखिलेश यादव, बुधवार को ममता दीदी, गुरुवार को शरद पवार, शुक्रवार को एचडी देवेगौड़ा और शनिवार को एमके स्टालिन प्रधानमंत्री होंगे। इसके बाद रविवार को पूरा देश छुट्टी पर जाएगा।’

राहुल-अखिलेश पर कसा तंजः अमित शाह ने कहा, ‘जब विधानसभा के चुनाव थे तब भी यूपी के दो लड़के (राहुल-अखिलेश) इकट्ठा आए थे। आज भी गठबंधन हुआ है, ये कहते हैं कि यो हो जाएगा, वो हो जाएगा। उस वक्त भी कहते थे। लेकिन जिस वक्त बीजेपी का कार्यकर्ता बूथ के मैदान में उतरा, सब गठबंधन को ध्वस्त करके 325 सीटें ले आया।

स्पष्ट करें घुसपैठियों को रखना है या नहींः चुनाव में जाने से पहले गठबंधन के सभी नेता एनआरसी के मुद्दे पर अपना रुख जनता के सामने स्पष्ट करे कि आप घुसपैठिये को रहने देना चाहते हो या नहीं।’ उल्लेखनीय है कि हाल ही में असम एनआरसी के मसले पर तृणमूल कांग्रेस समेत कई दलों ने मोदी सरकार का विरोध किया था। इस रजिस्टर के आने के चलते करीब 40 लाख लोगों की नागरिकता पर सवाल उठे थे।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 मोदी सरकार के दो मंत्री आमने-सामने, दो यूनिवर्सिटी की वैकेंसी पर गुस्से में रिजर्व कैटगरी के उम्मीदवार
2 प्रधानमंत्री के दौरे से पहले सांबा में आतंकी गतिविधियां, तलाशी अभियान शुरू
3 शरद पवार ने कहा- विपक्ष को प्रधानमंत्री प्रोजेक्‍ट करने की जरूरत नहीं, यूपीए तो ठीक चला था
ये पढ़ा क्या...
X