ताज़ा खबर
 

Lok Sabha Election 2019: बीजेपी नेता ने अपमानजनक टिप्पणी कर जलाए अखिलेश और मायावती के पोस्टर, केस दर्ज

Lok Sabha Election 2019 (लोकसभा चुनाव 2019): बीजेपी के किसान मोर्चा नेता राम बाबू ने होली की पूर्व संध्या पर सपा मुखिया अखिलेश यादव और बसपा प्रमुख मायावती के पोस्टर जलाएं। साथ ही, सोशल मीडिया पर अपमानजनक टिप्पणी भी की थी।

मायावती और अखिलेश यादव (फोटो सोर्स : इंडियन एक्सप्रेस)

Lok Sabha Election 2019: भारतीय जनता पार्टी के नेता राम बाबू द्विवेदी के खिलाफ समाजवादी पार्टी ने शुक्रवार (22 मार्च) को केस दर्ज कराया है। बीजेपी के किसान मोर्चा के नेता राम बाबू पर सपा के मुखिया अखिलेश यादव और बसपा प्रमुख मायावती के पोस्टर जलाने और अपमानजनक टिप्पणी करके सोशल मीडिया पर शेयर करने का आरोप है। बताया जा रहा है कि उन्होंने होली की पूर्व संध्या (20 मार्च) पर होलिका दहन के रूप में पोस्टर जलाया था। अखिलेश यादव ने ट्वीट कर घटना के फोटो भी शेयर किए थे।

पोस्टर जलाकर अपमानः मामला बाराबंकी जिले के रामनगर का है, जहां बीजेपी नेता राम बाबू ने अखिलेश यादव और मायावती के पोस्टर जलाकर उन पर अपमानजनक टिप्पणी भी की थी। इस मामले में सपा नेता और एमएलसी राजेश यादव ने रामनगर थाने में राम बाबू के खिलाफ केस दर्ज कराया था। उन्होंने कहा कि राम बाबू ने पार्टी के प्रमुख के पोस्टर जलाकर लोगों की भावनाओं को आहत किया है। बीजेपी जिलाध्यक्ष अवध श्रीवास्तव के मुताबिक, राम बाबू भारतीय जनता पार्टी किसान मोर्चा के राज्य प्रवक्ता हैं।

National Hindi News Today Live: दिनभर की बड़ी खबरें यहां पढ़ें 

पुलिस ने शुरू की जांच : रामनगर थाना प्रभारी राजेश कुमार सिंह ने बताया, ‘‘सपा एमएलसी की शिकायत मिलने के बाद शनिवार (23 मार्च) को एफआईआर दर्ज की गई। हमने जांच शुरू कर दी है। हमारे पास केवल उस घटना की तस्वीरें हैं, जो सोशल मीडिया पर साझा की गई थीं।’’

इन धाराओं में केस दर्ज : पुलिस ने राम बाबू के खिलाफ 153 ए (धर्म, जाति, जन्म स्थान, निवास, भाषा, आदि के आधार पर विभिन्न समूहों के बीच दुश्मनी को बढ़ावा देने), 504 (भड़काने के इरादे से जानबूझकर अपमान,शांति भंग), 509 (शब्द, इशारा या किसी महिला की विनम्रता का अपमान करने का उद्देश्य) के तहत मामला दर्ज किया है। वहीं, भारतीय दंड संहिता के तहत 469 (प्रतिष्ठा को नुकसान पहुंचाने के लिए जालसाजी), सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम और एससी/ एसटी अधिनियम के तहत भी केस फाइल किया गया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App