ताज़ा खबर
 

बीजेपी का आकलन: शहरी वोटर्स को बताया जाए कि पीएम के चलते हुई अभिनंदन की वापसी, गांवों में बन चुका है माहौल

बीजेपी शहरी वोटर्स को संदेश देना चाहती है कि नरेंद्र मोदी सरकार के प्रयासों के चलते पाकिस्‍तान ने वायुसेना पायलट अभिनंदन वर्तमान को दो दिन में वापस भेज दिया। यह कवायद मोदी को "मजबूत, निर्णायक और दिलेर प्रशासक" प्रोजेक्‍ट करने की रणनीति से भी मेल खाती है।

Author March 5, 2019 3:33 PM
पार्टी मुख्‍यालय से ‘नमो मर्चेंडाइज रथ’ को रवाना करते भाजपा अध्‍यक्ष अमित शाह। (Photo : PTI)

14 फरवरी को पुलवामा आतंकी के बाद से राष्‍ट्रीय सुरक्षा का मुद्दा देश की राजनीति के केंद्र में है। भारतीय जनता पार्टी की तैयारी है कि सरकार द्वारा हासिल की गईं “कूटनीतिक सफलताओं” को लोकसभा चुनाव प्रचार का हिस्‍सा बनाया जाए। पार्टी सूत्रों के अनुसार, कि भाजपा नेता मानते हैं कि राष्‍ट्रीय सुरक्षा एक ऐसा मुद्दा है जो मतदाताओं को जाति, धर्म और वर्ग से ऊपर उठा सकता है और बाकी मोर्चों पर सरकार की कथित नाकामियों के लिए हमलावर विपक्ष को कुंद कर सकता है। नेता यह भी मानते हैं कि राष्‍ट्रीय सुरक्षा का मुद्दा 2014 के लोकसभा चुनावों में नरेंद्र मोदी को सफलता दिलाने वाले विकास के एजेंडे की जगह ले सकता है।

पार्टी नेताओं का कहना है कि वर्तमान राजनैतिक हालातों का उनका आकलन बतलाता है कि पुलवामा के बाद सरकार के कदमों से ग्रामीण मतदाताओं में भाजपा की पैठ बेहतर हुई है। बीजेपी अब शहरी वोटरों को इन्‍हीं उपलब्धियों के जरिए प्रभावित करना चाहती है। इनमें से कुछ इस प्रकार हैं:

बीजेपी नेताओं के अनुसार, पाकिस्‍तान में घुसकर हमला करने का फैसला कर भारत ने “पाकिस्‍तान की परमाणु हमले की धमकी के झांसे” की पोल खोल दी है। पार्टी नेता कहते हैं कि वे इस बारे में बात करेंगे कि कैसे सरकार ने अमेरिका समेत दुनिया के देशों को भारत के पीछे खड़ा कर दिया। हमले को ‘आक्रामक कार्रवाई’ बताने की इस्‍लामाबाद की कोशिशों को अंतरराष्‍ट्रीय समुदाय में महत्‍व नहीं मिला। पार्टी नेता कहते हैं कि ये वही देश हैं जिन्‍होंने अटल बिहारी वाजपेयी के कार्यकाल के दौरान परमाणु परीक्षण करने के बाद भारत पर प्रतिबंध लगा दिए थे।

पार्टी शहरी मतदाताओं के बीच यह संदेश देना चाहती है कि कैसे उसने ”पाकिस्‍तान की खुद को आतंक का पीड़‍ित दिखाने की कोशिशों को नाकाम” कर दिया है। नेता पुलवामा हमले के बाद सरकार द्वारा उठाए गए कदमों का जिक्र करते हैं, जिनमें पाक से मोस्‍ट फेवर्ड नेशन का दर्जा वापस लेना, कूटनीति का इस्‍तेमाल करना शामिल है। एक वरिष्‍ठ नेता के अनुसार, यह लाइन पार्टी की मोदी को “मजबूत, निर्णायक और दिलेर प्रशासक” प्रोजेक्‍ट करने की रणनीति से मेल भी खाती है।

भाजपा अपने मतदाताओं को बताना चाहती है कि यह नरेंद्र मोदी की कोशिशें थीं जिसकी वजह से पाकिस्‍तान ने वायुसेना पायलट अभिनंदन वर्तमान को दो दिन में वापस भेज दिया। पार्टी के एक नेता ने दावा किया कि मोदी ने “अपने पाकिस्‍तानी समकक्ष इमरान खान के कॉल करने पर बात करने से मना कर दिया था” क्‍योंकि वह चाहते थे कि खान पहले पायलट की रिहाई का ऐलान करें। विपक्ष लगातार यह आरोप लगाता रहा है कि बीजेपी ‘सैनिकों के बलिदान का फायदा’ उठा रही है। पुलवामा में शहीद सीआरपीएफ जवानों के अंतिम संस्‍कार में केंद्रीय मंत्रियों से लेकर बीजेपी के बूथ वर्कर्स तक शामिल हुए।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App