ताज़ा खबर
 

Election Results 2019: दिल्ली में सातों सीट पर सत्ता वापसी

Lok Sabha Chunav/Election Results 2019: जानकारी के मुताबिक, भाजपा को करीब 57 फीसद वोट मिले। कांग्रेस को करीब 23 फीसद और ‘आप’ को करीब 18 फीसद वोट मिले। करीब 2 फीसद वोट अन्य के खाते में गए।

Author May 24, 2019 2:38 AM
दिल्ली बीजेपी अध्यक्ष मनोज तिवारी और दिल्ली सीएम अरविंद केजरीवाल फोटो सोर्स- इंडियन एक्सप्रेस

प्रियरंजन

लोकसभा चुनावों में दिल्ली की सातों सीटों पर भाजपा ने जीत दर्ज की। विधानसभा में प्रचंड बहुमत पाने वाली आम आदमी पार्टी (आप) का खाता तक नहीं खुला। कांग्रेस की ओर से किए गए तमाम राजनीतिक प्रयोग भी नाकाम रहे। दिल्लीवालों ने न तो विकल्प की राजनीति का दावा करने वाले अरविंद केजरीवाल पर और न ही विकास का चेहरा होने का दावा करने वालीं पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित पर भरोसा किया। यहां की सात सीटों में से पांच पर लड़ाई ‘भाजपा बनाम कांग्रेस’ की रही जबकि दो सीटों पर भाजपा बनाम ‘आप’ का द्वंद्व रहा। जीत-हार का अंतर सवा दो लाख से पौने छह लाख तक रहा। जानकारी के मुताबिक, भाजपा को करीब 57 फीसद वोट मिले। कांग्रेस को करीब 23 फीसद और ‘आप’ को करीब 18 फीसद वोट मिले। करीब 2 फीसद वोट अन्य के खाते में गए।

दिल्ली की जिन पांच सीटों पर भाजपा ने कांग्रेस के उम्मीदवार को हराया उनमें नई दिल्ली सीट, चांदनी चौक, पूर्वी दिल्ली, उत्तर-पूर्वी दिल्ली और पश्चिमी दिल्ली सीट रही जबकि दक्षिणी दिल्ली और उत्तर पश्चिमी दिल्ली सीट पर भाजपा ने ‘आप’ के उम्मीदवार को हराया।

चांदनी चौक सीट : यहां से केंद्रीय मंत्री डॉक्टर हर्षवर्धन जीते हैं। उन्हें 3 लाख 38 हजार से ज्यादा वोट मिले। उन्होंने कांग्रेस के जेपी अग्रवाल पर करीब 2.28 लाख वोटों से बढ़त बनाई हुई थी। जेपी को यहां करीब 1 लाख 88 हजार वोट मिले। यहां ‘आप’ के पंकज कुमार गुप्ता तीसरे नंबर पर रहे।

पूर्वी दिल्ली : यहां से भाजपा के गौतम गंभीर ने शानदार जीत हासिल की। उन्हें 6 लाख 40 हजार से ज्यादा वोट मिले। उन्होंने कांग्रेस के अरविंदर सिंह लवली को 3.91 लाख से ज्यादा वोटों से हराया। ‘आप’ की सबसे चर्चित उम्मीदवार आतिशी को करीब 2 लाख वोटों से ही संतोष करना पड़ा।

नई दिल्ली : इस सीट पर भाजपा की मीनाक्षी लेखी ने कांग्रेस के अजय माकन को पौने तीन लाख वोटों से हराया। मीनाक्षी को यहां 5.03 लाख से ज्यादा वोट मिले जबकि माकन को करीब आधे से भी कम 2.47 लाख पर संतोष करना पड़ा। ‘आप’ के बृजेश गोयल को करीब डेढ़ लाख वोट आए।

उत्तर पूर्वी दिल्ली : यहां भाजपा उम्मीदवार मनोज तिवारी और कांग्रेस की उम्मीदवार शीला दीक्षित के बीच कांटे की टक्कर के कयास नतीजे आते ही गलत साबित हुए। मनोज तिवारी को यहां 7.85 लाख से भी ज्यादा वोट मिले जबकि शीला दीक्षित को करीब 4.21 लाख पर ही निबटना पड़ा। ‘आप’ के दीलिप पांडे को एक लाख 90 हजार से थोड़ा ज्यादा वोट मिले। यहां मनोज तिवारी ने शीला दीक्षित को साढ़े तीन लाख से ज्यादा वोटों के अंतर से शिकस्त दी।

उत्तर पश्चिमी दिल्ली : इस सीट पर भाजपा को दिल्ली में सबसे ज्यादा वोट पड़े। इस सीट पर भाजपा ने पूर्व सांसद उदित राज का टिकट काटकर गायक हंसराज हंस को मैदान में उतारा था। यहां हंसराज को 8 लाख 47 हजार वोट मिले और उन्होंने ‘आप’ के गुगन सिंह को 5.53 लाख से ज्यादा वोटों से हराया। गुगन सिंह को 2.94 लाख और कांग्रेस के राजेश लिलोठिया को 2.36 लाख वोट मिले।

दक्षिणी दिल्ली : इस सीट से भाजपा के रमेश बिधूड़ी फिर विजयी हुए। बिधूड़ी को 6.85 लाख के करीब वोट आए। ‘आप’ के राघव चड्ढÞा दूसरे स्थान पर रहे। उन्हें करीब 3.19 लाख वोट मिले जबकि कांग्रेस के मुक्केबाज विजेंदर सिंह को केवल 1.64 लाख वोट ही मिल पाए। यहां बिधूड़ी ने राघव को साढ़े तीन लाख से ज्यादा वोटों के अंतर से हराया। कांग्रेस यहां भी तीसरे स्थान पर रही।

पश्चिमी दिल्ली : इस सीट से प्रवेश वर्मा ने यहां कांग्रेस के महाबल मिश्र को 5.76 लाख से ज्यादा मतों के अंतर से हराया। भाजपा को यहां 8 लाख 62 हजार से ज्यादा वोट आए जबकि कांग्रेस को यहां करीब 2.86 लाख वोट आए। ‘आप’ के उम्मीदवार बलबीर सिंह जाखड़ को 2.51 दो लाख वोट मिले।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

X