ताज़ा खबर
 

‘माछ भात खाएंगे, महागठबंधन को जिताएंगे’, विपक्षी नेताओं का पटना में महामंथन; पक रही 200 किलो मछली!

वीआईपी सुप्रीमो के मुताबिक, "पटना के बाद सूबे के सभी जिलों में ‘माछ-भात खाएंगे, महागठबंधन को जिताएंगे’ कार्यक्रम होगा।"

Author January 7, 2019 11:02 AM
वीआईपी सुप्रीमो ने दावा किया है कि पटना के बाद यह माछ भात कार्यक्रम सूबे में और जगह भी कराया जाएगा। (फाइल फोटोः एएनआई)

आम चुनाव से पहले बिहार में विपक्ष के नेता 40 लोकसभा सीटों के बंटवारे पर चर्चा के लिए राजी हो चुके हैं। सोमवार (सात जनवरी, 2019) को राजधानी पटना में इसी को लेकर महामंथन हो सकता है। दरअसल, विकासशील इंसान पार्टी (वीआईपी) ने खास तौर पर एक माछ भात कार्यक्रम का आयोजन किया है, जिसमें विपक्षी दलों के कई बड़े चेहरे शामिल होने की संभावना है। वीआईपी प्रमुख और कार्यक्रम के आयोजक मुकेश निषाद ने इसके अलावा नारा दिया है। कहा है, “हम माछ भात खाएंगे और महागठबंधन को जिताएंगे।” जानकारी के मुताबिक, भोज में तकरीबन 600 मेहमानों के आने की संभावना है, जिनके लिए लगभग 200 किलो मछली का ऑर्डर दिया गया है।

मिलर हाई स्कूल ग्राउंड में दोपहर साढ़े 12 बजे होने वाले भोज में राजद नेता व बिहार के पूर्व डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव, रालोसपा प्रमुख उपेन्द्र कुशवाहा, हम(से) सुप्रीमो जीतनराम मांझी, प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष मदन मोहन झा सहित महागठबंधन के तमाम बड़े नेता उपस्थित रहेंगे। ये जानकारी वीआईपी सुप्रीमो उर्फ सन ऑफ मल्लाह मुकेश साहनी ने पत्रकारों को दी।

वीआईपी सुप्रीमो के मुताबिक, “पटना के बाद सूबे के सभी जिलों में ‘माछ-भात खाएंगे, महागठबंधन को जिताएंगे’ कार्यक्रम होगा। ज्यादातर जिलों में वह खुद कार्यक्रम में मौजूद रहेंगे। साथ ही सभी जिलों में महागठबंधन के राज्य और जिले के तमाम बड़े नेता उपस्थित रहेंगे। लोकसभा चुनाव में बिहार की सभी 40 सीटों पर महागठबंधन जीत दर्ज करेगी।”

माछ भात कार्यक्रम के लिए सूबे के मल्लाह समाज ने सामूहिक रूप से मछलियों का बंदोबस्त किया है। साहनी ने आगे बताया, “बिहार में मतस्य उत्पाद पर मल्लाह समाज का अधिकार है। इसके विकास के लिए वीआईपी और निषाद विकास संघ द्वारा सभी तरह के प्रयास किए जा रहे हैं। आज बिहार में निषाद/मल्लाह समाज वीआईपी के बैनर तले एकजुट हो चुका है और वह आगामी चुनाव में सत्ता परिवर्तन के लिए पूरी तरह से तैयार है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App